370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

रोचक आलेख - कंडा कथा - डॉ. सुरेन्द्र वर्मा


  एक ज़माने में गोबर को दीवालों पर थाप कर उपले बनाए जाते थे और उन्हें जलाऊ लकड़ी के साथ ईंधन की तरह इस्तेमाल किया जाता था। पर जब से गैस का इस्तेमाल शुरू हुआ है, कंडों की बड़ी बेइज्ज़ती हो गई। उन्हें अब कोई नहीं पूछता। लेकिन किन्हीं ख़ास मौकों पर उनकी ज़रूरत आज भी पड़ ही जाती है। कई ऐसी चीजें हैं जो कंडे की आंच पर ही सेकी जाती हैं। बैगन को कंडे की आंच पर भूनिए। फिर खाइए। क्या कहने हैं !  दूध को कंडे की आंच पर पकने दीजिए। स्वाद न बढ़ जाए तो कहिएगा। पर अब कंडे हैं कहाँ, और अगर हों भी तो लाएं कहाँ से जाएं ? एक समय था दूकानों पर जलाऊ लकड़ी और कंडे के ढेर लगे रहते थे। गिनती से बेंचे जाते थे। एक रूपए के पचास, सौ तक, मिल जाते थे। अब बड़ी मुश्किल हो गई है। बाज़ार में किसी दूकान पर तो कंडे मिलने से रहे। बड़े बड़े माँलों में भी आपको ऊपले तो नदारद ही मिलेंगे। सच तो यह है, उपले हों तो मिलें।

    हमारे शास्त्रों में केवल गाय ही नहीं, गाय का हर ‘उत्पाद’ पवित्र माना गया है। बीमारियों को दफा करने के लिए लोग गो-मूत्र दवा की तरह पी तक जाते हैं। और गोबर का तो कहना ही क्या है ? यह गाय का मल (विष्ठा) ज़रूर है लेकिन यह मैला नहीं करता बल्कि मैली जगह साफ़ करने के लिए इसे लीपा जाता हैं। वो कहावत है न, ज़हर ज़हर को मारता है। इसी के समानांतर, शायद मैल मैल को मारता है।

   यह गोबर ही सूख कर कंडा बन जाता है। कंडों को दीवार पर थापते देखना अपने आप में एक दिलचस्प और रोमांचक अनुभव हुआ करता था। इधर किसी गाय या भैस ने गोबर किया नहीं कि कंडे थापने-वालियां उसे झट उठाकर दीवाल पर चिपका देती थीं। दीवाल गोबर की थापों से भर जाती थी। दूसरे-तीसरे दिन सूख कर कंडे तैयार हो जाते थे। उन्हें बेंच दीजिए या खुद उनका ईंधन की तरह इस्तेमाल कर लीजिए।

     बाज़ार में आजकल कंडे ढूँढे नहीं मिलते। लेकिन ये ऑनलाइन बेशक मिल सकते हैं। इंटरनेट के जरिए आपको क्या नहीं मिल सकता ? मोबाइल मिलेगा, टीवी मिलेगा, वस्त्र मिलेंगे; दुनिया का कोई ऐसा सामान नहीं है जो यहाँ न मिलता हो। फिर भला कंडे ही क्यों रह जाएं ? पूजा करनी है, हवन होना है. ऊपले चाहिए। अपनी पसंद-दीदा साइट अमेज़न पर जाइए। सर्च में “काउ डंक केक” लिखिए। लीजिए हाज़िर हैं ऊपले। किस प्रकार के चाहिए ? गोबर के कंडे या आर्गेनिक-ऊपले ? हाथ की थाप वाले कंडे या मशीन से तैयार गोल गोल ऊपले ? हो सकता है इनकी कीमत आपको थोड़ी ज्यादह अदा करनी पड़ जाए, लेकिन आपको इन्हें पास के बाज़ार में ढूँढ़ने की ज़हमत नहीं उठाने पड़ेगी। घर बैठे आपको पहुंचा दिए जाएंगे और पैकिंग भी इतनी बढ़िया होगी कि आप देखते रह जाएं।

ऑन-लाइन बाज़ार दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है। आपको पूजा करनी है। पूजा के स्थान को लीपना है। लीपने के लिए कहाँ मिलेगा गोबर आपको ? पहले गाय-भैसें बाज़ार में स्वच्छंद घूमा-फिरा करती थीं। खाती, घूमती थीं तो, ज़ाहिर है, गोबर भी कर ही देतीं थीं। आसानी से मिल जाता था। अब गोबर की तो बात ही जाने दीजिए, घूमती फिरती गाय भी नही दिखाई देती। ऐसे में क्या करे? ज़रुरत के हिसाब से सौ ग्राम, पांच-सौ ग्राम या एक किलो-ग्राम गोबर का एक पैक ऑन-लाइन बुक करा दीजिए। काम लायक गोबर आपको घर बैठे प्राप्त हो जाएगा। पर इसे प्राप्त करने के लिए आप कहीं “गोबर” मत लिख बैठिएगा, ‘काउ-डंक’ ही अंकित कीजिएगा। हो सकता है त्यौहार के मौसम में फेस्टिवल सेल के नाम पर आपको कुछ अन्य आकर्षक प्रस्तावों के साथ गोबर में छूट भी मिल जाए। गाय के अन्य ‘उत्पादों’ के साथ साथ गोबर भी आपको किफायती दाम पर मिल सकता है।

    खरीदने वाले हर चीज़ खरीद लेते हैं। आप तो बस खरीदारी की शौकीन किसी महिला के कान में कह भर दीजिए, “और तो और अब तो कंडे भी ऑनलाइन बिकने लगे हैं”, फिर देखिए, ज़रूरत हो या न हो, कंडों के लिए ऑन-लाइन ऑडर न चला जाए तो आश्चर्य होगा। एक बार इंग्लेंड में एक व्यापारी को थोड़ी मसखरी सूझी। उसने विज्ञापन दिया की हमारे साईट पर आज से दो रोज़ तक सिर्फ गोबर के पैक ही किफायती दाम पर मिलेंगे। स्टाक सीमित है, जल्दी कीजए। फिर क्या था। देखते देखते उसके सारे के सारे गोबर-पैक हाथों-हाथ बिक गए।
    सूचनार्थ निवेदन है, कंडे भी ऑनलाइन बिक रहे हैं।

    • डा. सुरेन्द्र वर्मा
१०, एच आई जी
१, सर्कुलर रोड , इलाहाबाद -२११००१
   
आलेख 990730162575222341

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव