---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

प्राची अक्टूबर 2018 : काव्य जगत

साझा करें:

काव्य जगत गजल हरदीप बिरदी उसे रोका अगर होता तो यूँ बिगड़ा नहीं होता। जरा सी बात पर फिर यूँ कभी दंगा नहीं होता। तुझे गर खून की कीमत कहीं अपने ...

काव्य जगत

गजल

हरदीप बिरदी

उसे रोका अगर होता तो यूँ बिगड़ा नहीं होता।

जरा सी बात पर फिर यूँ कभी दंगा नहीं होता।

तुझे गर खून की कीमत कहीं अपने पता होती,

कभी खत यार को फिर खून से लिख्खा नहीं होता।

उसे जो याद करता है उसी का रब हुआ समझो,

निकालो बात दिल से ये कि रब सबका नहीं होता।

मुहब्बत की खनक दिल में अगर तेरे नहीं होती,

यकीं कर ले, तू बनके दिल मेरा धड़का नहीं होता।

दिलों के तार तुझसे हैं कहीं बेशक जुड़े वर्ना,

तेरे बारे में यूँ इतना कभी सोचा नहीं होता।

जहां पर प्यार होता है भरोसा हो ही जाता है,

खुदा की रहमतों से फिर कभी धोखा नहीं होता।

बिगड़ जाती है बनती बात भी नफरत के चश्मों से

मुहब्बत के बिना झगड़े का समझौता नहीं होता।

खुदा की हो अगर रहमत लिखा जाता है तब ‘बिरदी’

वगरना यह गजल क्या एक भी मिसरा नहीं होता।

Add : 6826, St. No. 10,

New Janta Nagar,

Daba Road, Ludhiana

PIN-141003 (Punjab)

image

जगदीश तिवारी की गजल

लिखना है तो बेहतर लिख

लोगों से कुछ हटकर लिख

दुनिया से डरना कैसा

डर मत खुलकर हँसकर लिख

भावों की नदिया बन जा

चल भावों में बहकर लिख

कल-कल कल-कल करता जा

झरना बनकर झर-झर लिख

झूठे मक्कारों पर भी

कुछ कसकर कुछ जमकर लिख

जीवन इक अनुभव शाला

इस शाला में तपकर लिख।

संपर्कः 3-क-63, सेक्टर-5

हिरन नगरी, उदयपुर-313002 (राज.)


डॉ. श्वेता दीप्ति की कविताएं

clip_image002

डॉ. श्वेता दीप्ति

13 अक्टूबर, 1970 को भागलपुर (बिहार) में जन्मी डॉ. श्वेता दीप्ति वर्तमान में नेपाल का एक जाना-पहचाना चेहरा हैं. त्रिभुवन विश्वविद्यालय, काठमांडो (नेपाल) के हिन्दी विभाग की सहायक आचार्य तथा पूर्व अध्यक्ष डॉ. दीप्ति नेपाल से प्रकाशित अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी-पत्रिका ‘हिमालिनी’ की सम्पादक हैं. ‘अनुभूतियों के बिखरे पल’ कविता-संग्रह सहित आधा दर्जन महत्त्वपूर्ण पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुकी हैं.

सम्पर्क : सम्पादक, हिमालिनी, काठमांडो (नेपाल)

चाह

कौन जाने, कब कहां

किस राह पर मिलोगे तुम

या फिर कभी मिलोगे ही नहीं.

पर निगाहों में

आज भी खींची हैं तस्वीरें

चन्द यादगार लम्हों की.

वह जगह, वह शिला

वह दरख्त, वह सांझ,

वह अनुभूति,

जो दे गई थी

तुम्हें पाने की, छूने की.

महसूसने की

असीम चाह.


तुम

शब्दों के सागर से

मोती-सा फिसला

एक शब्द ‘तुम’

अनायास ही

विस्तृत हो गया है मुझमें.

परिणति पा गया है

‘तुम’ ‘मैं’ होकर.

रिश्तों के अथाह सागर में

एक यह ‘तुम’

किसी स्पष्ट परिचय का

मुहताज नहीं है

इसे पाकर अक्सर

मेरा मौन मुखर हो उठता है

इन खामोश पन्नों पर,

और मैं सम्पूर्ण हो जाती हूं

इस असीम ‘तुम’ के

अनजाने संसार में.


कही-अनकही

तुमने कही नहीं

या मैंने सुना नहीं.

कुछ तो है-

जो तुम्हें कहना है

और मुझे सुनना है.

यह कहने

और न कहने की स्थिति

शायद इसलिए है

कि हमें यकीन नहीं है,

खुद पर.

डरते हैं हम वक्त से,

जो न जाने कब

रुख बदल ले

और हम उड़ जायें

सूखे पत्ते की तरह,

किसी अनजानी दिशा की ओर.

और जा अटकें

एक अनजानी-सी मंजिल पर.


सतपाल स्नेही

1. गीत

ओ मेरे दुर्भाग्य बता तो कितना और रुलायेगा तू

जो दिखते ही टूटें ऐसे कितने स्वप्न दिखायेगा तू

क्या है तेरा स्वार्थ कि मधुरिम मन का हर मधुमास जला कर

मधुलय में गाते भँवरों को शूलों की भाषा सिखला कर

कब तक इन पतझरी हवाओं के गायन सुनवायेगा तू

ओ मेरे दुर्भाग्य बता तो...

बस्ती सूनी आँगन सूना, दृष्टि भी सूनी-सूनी है

धड़कन मौन हुई जाती है, हृदय में पीड़ा दूनी है

इन चुपचाप शांत अधरों को कितना गरल पिलायेगा तू

ओ मेरे दुर्भाग्य बता तो...

चैत जला बैसाख जला है, जेठ और आषाढ़ जले हैं

मेरे पल-छिन और रात-दिन ताप में तेरे ही पिघले हैं

क्या सावन की रिमझिम को भी ऐसे ही झुलसायेगा तू

ओ मेरे दुर्भाग्य बता तो...

खेल न पाया बचपन मेरा तेरी ही सेवा में बीता

और जवानी में भी तेरे संग रहा मैं रीता-रीता

क्या सारी ही उम्र रे निष्ठुर अपने नाम लिखायेगा तू

ओ मेरे दुर्भाग्य बता तो...

2. गजल

कुछ ऐसा-वैसा लगता है

जाने क्यूँ डर-सा लगता है

कई बार तो सागर से भी

दिल-दरिया गहरा लगता है

गुलदस्ता नकली फूलों का

मुझको महक रहा लगता है

हाँ जी, हाँ जी बोल गया वो

ना जी का खटका लगता है

चेहरे निर्मल दिखा रहा है

दर्पण नया-नया लगता है

फिर परसों की तरह मिला वो

सपना टूट गया लगता है

जाने क्या हो गया हृदय को

फिर कोई अच्छा लगता है

सम्पर्क : 362,गली नं-8, विवेकानन्द नगर,

बहादुरगढ़-124507.

(हरियाणा)


हरीलाल ‘मिलन’ की गजल

सो गये नीरज

देश-दुनिया से खो गये नीरज

चांद-तारों के हो गये नीरज

आसमां देख रहा, धरती पर

प्यार-ही-प्यार बो गये नीरज

‘भोर में फूल’ ‘रात में तारे’

प्रीति की शय में रो गये नीरज

‘एक पाती’ में कहानी लिखकर

कानपुर को भिगो गये नीरज

छंद पर वक्त की सियाही थी

गीत की लय से धो गये नीरज

भाव टूटे न गेयता छूटे

अक्षरों को संजों गये नीरज

फूल गीतों के बिखेरें खुशबू

शूल के हंसके ढो गये नीरज

गीत उनके ‘उन्हें’ जगाएंगे

थक गये थे तो सो गये नीरज

सम्पर्क : 300ए/2, प्लॉट-16, दुर्गावती सदन,

मछरिया रोड, हनुमंत नगर, नौबस्ता

कानपुर- 208021 (उ.प्र.)


सुरेश प्रकाश शुक्ल की गजल

मीत क्यों अपनी व्यथा सबसे बताते हो.

हर किसी के सामने क्यों गिड़गिड़ाते हो।

दे सको तो दो खुशी सद्भाव भी भर लो,

रंज की अनुभूति में खुद को सताते हो।

कुन्द होती जा रहीं संवेदनायें अब,

कलियुगी बन देश में दुर्भाव लाते हो।

है जमाना अब दिखावे और लकदक का,

कौन पूछे काम क्या कैसे कमाते हो.

नामसझ हो दर्जनों में कर लिया कुनबा,

घोर संकट में गृहस्थी को चलाते हो,

कुछ तो होगी ही कमाई काम कुछ भी हो,

है मुझे संतोष बच्चों को पढ़ाते हो।

हर तुम्हारे दुःख-सुख में ‘शुक्ल’ हैं साथी,

रोज कह अपनी व्यथा उनको रुलाते हो।

सम्पर्क : 554/63, लेन 5,

आलमबाग, लखनऊ-(उ. प्र.)


देवेन्द्र कुमार मिश्रा की दो कवितायें

रास्ते

सिर पर जमीन

पैरों तले आसमान

आगे खाई

पीछे पहाड़

और चलने

की कोशिश करते

भी हैं दो चार लोग

और जीवन भर गिरने-उठने

के बाद भी यही लोग

अंत में सफल कर जाते हैं

अपना मरण

दूसरों के लिए

और जो सीधी राह पकड़कर

रपटते रहते हैं लगातार बहुत कुछ पाकर इतराते हैं

अपनी जीत पर

दिखने में भले ही वे

सफल लगे

किंतु होते खोखले ही हैं

और अंत में चोट खा बैठते हैं

फिसलकर।


हार

पता ही नहीं चलता

कब और कैसे

बेच दिये जाते हैं

आंसू

पवित्रता, भावनायें

मात्र एक खेल के नाम पर।

शामिल कर लिया जाता है

इस खेल में पत्नी

बच्चों और बूढ़ी मां को

ये कहकर कि खेल के

मध्य मनोबल

बना रहेगा

बाजार की ताकत कहें

या आपकी कमजोरी

लगातार झुकते और

टूटते जा रहे हैं

और समझ भी नहीं

आ रहा है

कि अब भी हम मात्र

मोहरे हैं

बिजेता की ट्राफी पकड़े हुए

आप समझ ही नहीं पाते

कि कितनी शर्मनाक हार

मिली है आपको।

सम्पर्क : पाटनी कॉलोनी,

भरत नगर, चन्दनगांव

छिन्दवाड़ा (उ.प्र.)-480001


डॉ. कृपा शंकर शर्मा ‘अचूक’ के दो गीत

अर्थहीन जीवन की भाषा, आशा लिए हुए

भावों का गंगाजल आए, हम तो पिए हुए

मिले सफलता या असफलता

अपनी मर्यादा

सब कुछ है मन के भीतर ही

कम अथवा ज्यादा

संवेदनिक उर्वरा धरती, लेकर लिए हुए

भावों का गंगाजल आए, हम तो पिए हुए

करने लगी साधना अपनी

उड़ी-उड़ी बातें

अपराधों की बोई फसलें

बिगड़ी हालातें

साल महीने दिवस गुजारे, वादे दिए हुए

भावों का गंगाजल आए, हम तो पिए हुए

सांसों का सब करते सौदा

नित रिश्ते नाते

पका-पका चतुराई चूल्हा

बातें ही खाते

टुकड़ों-टुकड़ों हुई चदरिया, सदियों सिए हुए

भावों का गंगाजल आए, हम तो पिए हुए

आशीषों का बेरहमी से

कतल किया हमने

शुभारम्भ श्रद्धा की कर दी

अब तो मातम ने

खण्ड-खण्ड ‘अचूक’ हो बिखरे, अरमां किए हुए

भावों का गंगाजल आए, हम तो पिए हुए

2


धूप-छाँव का ताल-मेल, जीवन पर्याय बना

चाहत की उगती फसलों का, एक उपाय बना

माटी सोना और बिछौना

कब सोए जागे

उगती नागफनी राहों में

बड़े रोए आगे

गीतोत्सव तो होठ मनाते, कौन सहाय बना

धूप-छाँव का ताल-मेल, जीवन पर्याय बना

दबी उमंगें बोलें भी क्यों

बीच बजरिया के

टूटे रीति रिवाज जुड़े ना

कोई जरिया के

जिसे जगत परिभाषित करता, वह अन्याय बना

धूप-छाँव का ताल-मेल, जीवन पर्याय बना

घंटा शंख मृदंग बजाता

समय ‘अचूक’ चला

कोई चौदह कला दीखता

या फिर अति विकला

नए-नए साँचों में ढाले, नव अध्याय बना

धूप-छाँव का ताल-मेल, जवीन पर्याय बना

सम्पर्क : 38-ए, विजय नगर,

करतारपुरा, जयपुर-302006


डॉ. मधुर नज्मी की दो गजलें

जो मुझमें, उनमें इतनी दूरियां हैं

यकीनन मुझमें भी कुछ खामियां हैं

मैं मुड़-मुड़कर बराबर देखता हूं

मेरे कद से बड़ी परछाइयां हैं

उधर महफिल सजी है कहकहों की

इधर मैं हूं मेरी परछाइयां हैं

जमाने वालो समझने में हैं कासिर

मेरी गजलों में जो बारीकियां हैं

बरस तू टूट के ऐ उमड़े बादल

समय की रेत पर कुछ मछलियां हैं

जो बेचे हैं बदन बच्चों की खातिर

वो आवारा नहीं हैं देवियां हैं

जो दिन में चुटकियां लेती हैं पैहम

तुम्हारी याद की पुरवाइयां हैं

जहां हो जाहिलों की भीड़ इकट्ठा

वहां बेहतर तेरे रूप में खामोशियां हैं

नजर आती हैं तेरे रूप में जो

कहां फूलों में वो रानाइयां हैं.


2

वक्त की मैं निशानियां देखूं

मां के चेहरे की झुर्रियां देखूं

सूनी-सूनी कलाइयां देखीं

और कितनी तबाहियां देखूं

शाइरी मैं तेरे हवाले से

इल्मों-हिकमत का आसमां देखूं

जब करूं आंख बन्द अपनी

तेरा ‘सरकार’ आस्ता देखूं

अपनी पलकों के मैं झरोखों से

तेरे जल्वों की झांकियां देखूं

मुझको आवाज दे कहां है तू

तुझको ढूंढ़ूं, कहां-कहां देखूं

मेरी अपनी बिसात ही क्या जो

ऊंची-ऊंची हवेलियां देखूं

शर पसन्दों के हाथों में अपना

उजड़ा-उजड़ा-सा गुलसितां देखूं

जिस तअल्लुक में थी मिठास कभी

उसमें भी आज तल्खियां देखूं

जाने वाले चले गये लेकिन

दूसरों पर उठाऊं क्यूं उंगली

पहले मैं अपनी खामियां देखूं।

सम्पर्क : गोहना मुहम्मदाबाद,

जिला- मऊ-276403 (उ.प्र.)


अशोक ‘अंजुम’ की दो गजलें

1.

बना रहे हैं लोग जहां में जाने कैसी-कैसी बात

उस पर तुर्रा तने हुए हैं लेकर अपनी-अपनी बात

इतने कड़वे निकलेंगे वे इसका कुछ अंदाज न था

जब भी मिलते थे करते थे जो मीठी-मीठी बात

कल तक जिस बच्चे के मुंह से फूल बरसते रहते थे

उसने कह दी आज अचानक कैसे तीखी-तीखी बात

करीं वक्त ने ताजपोशियां कुछ यूँ नकली बातों की

थकी-थकी-सी आज लग रहीं सारी अच्छी-अच्छी बात

धीरे-धीरे सारे जग ने उनको अपनाया ‘अंजुम’

इतनी सच्चाई से बोलीं उसने झूठी-झूठी बात

2.

ये करना है, वो करना है सोचा करते हैं

यूं ही सांस-सांस हम अपनी जाया करते हैं

बात अलहदा है वे तुम तक पहुँच नहीं पाते

रोजाना हम खत कितने ही लिक्खा करते हैं

सच के चेहरे पर भी कालिख मलते हैं या रब

झूठी खुशियों की खातिर हम क्या-क्या करते हैं

जो रखते हैं हुनर सभी को धकियाने वाले

आज सियासत में वो आगे निकला करते हैं

गरमी, वर्षा, धूप, आँधियाँ सबसे लड़कर ही

कुछ अहसास जहां में सदियों महका करते हैं


गीत : अशोक अंजुम

झूठ-साँच के झगड़े में

हम बने तमाशाई,

अगर कर सके समय

हमें तू माफ कर देना!

सच्चाई ने की गुहार

हम बहरे बने रहे,

अपने मन पर आशंका के

पहरे बने रहे,

आंखों के रहते हमको

कुछ दिया न दिखलाई!

अगर कर सके समय

हमें तू माफ कर देना!

औरों के झंझट से हमको

क्या लेना-देना,

उथली नदिया, नाव स्वयं की

बस उसमें खेना,

हमें डराती रही उम्र-भर

अपनी परछाई!

अगर कर सके समय

हमें तू माफ कर देना!

संपर्कः गली-2, चन्द्र विहार कॉलोनी (नगला डालचन्द), क्वारसी बाईपास, अलीगढ़-202002


राजकुमार जैन ‘राजन’ की कविताएं

1. सार्थकता

तुम कभी टूटे नहीं

इसलिए हंस रहे हो

जिस दिन टूटेगा

तुम्हारी आत्मा का दर्पण

उस खण्डित दर्पण में

अपने आपको

अनेक खण्डों में

विभाजित हुआ पाओगे

तब अहसास होगा तुम्हें

टूटना कैसा होता है

दर्पण की टूटन में

हर एक का दर्द है

हर एक की पीड़ा.

धरती पर रह कर

आकाश बनने के सपने

हर कोई देखता है

आकाश बन जाने के बाद

धरती के सपने कोई नहीं देखता

दर्पण अपनी सार्थकता

कभी नहीं खोता

उसकी खण्डता में भी

अखण्डता विराजमान रहती है.

वह तुम्हारे अस्तित्व का कवच है

दर्पण बनोगे तो

तुम हार बन जाओगे

सच...

इसी में तुम्हारे होने की सार्थकता है.


2. भागे न कोई हार के

अंधेरे से समझौता

पुरानी बात है

रोशनी अब रोशनी नहीं रही

वह अपना रंग बदलने लगी है.

लेकिन सूरज ढलने के बाद

भोर भी आती है

अपनी रूह की रोशनी

को पहचानो

दिल में झांको

आत्मा के दर्पण में

अपना दर्प आंको.

लौट जाओ

रात ढल चुकी है

मन में बुझती आशा की लौ

फिर से जला दो.

मुस्कराओ

खिल जाए नई सुबह की किरण

जगमगाये चमन

तुम्हारे हास से ट्टतुम्भरा

धरा की सगाई

जुड़ जाये मधुमास से.

फसलें उगें

शांति की, प्यार की

जिन्दगी एक संग्राम है

जिससे भागे न कोई हार के!

संपर्क : चित्रा प्रकाशन

आकोला-312205 (चित्तौड़गढ़) राज.



रमेश कुमार सोनी की कविता

समझौतों के चारागाह

मरे शब्दों का अथाह समंदर

बेखौफ और खारा होने लगा है

नदियों से आने वाले शब्द

नृशंस यातनाओं से प्रदुषित हैं

खूंखार और बाहुबली लोगों की दुनिया से

सहमे हुए बेहद आंतकित शब्द भी

आँखें मूंद हाँक दिए गए हैं

हाशिए पर सुबकते रहने के लिए

मेरा समंदर सुनाना चाहता है

भाप बनकर सर्वत्र उड़ते हुए

गड्ड-मड्ड हो गये हैं शब्द।

समझौतों के इस चारागाह में जहाँ

दुनिया चित्रलिपि की ओर

अग्रसर हैं इनसे मेरे

हीरक हस्ताक्षर वाले शब्दों को

विलुप्तता का खतरा है,

फिर पन्नों में दफन हो जाएंगे-

सद्भावना, संवेदना एवं प्यार के शब्द

क्योंकि चीखते शब्दों के वन कट चुके हैं

लोग अपने शब्दों को छोड़

विदेश उड़ चले हैं।

मैं अपने शब्दों को

महुए सा बिन रहा हूँ

अपने दिल के गुल्लक में संजोने

ताकि सनद रहे वक्त पर काम आए

इसकी महक मुझे गौरैया सा निडर बनाती है

मैं बचाना चाहता हूँ अपने शब्दों में-

सहिष्णु जिंदगी की इबारत और

संपूर्ण मानवता की सेवा करते

जादूगरी शब्दों के साथ

बचपन के शब्दों का बगीचा

जो मेरी वसीयत भी है...

संपर्कः जे. पी. रोड बसना (छ.ग.)-493554


पारुल श्रीवास्तव की कविता

जख्म

न लगाओ जख्मों पर मरहम

जख्मों के कुछ निशान रहने दो

न तोड़ो मेरे वजूद को बार-बार

मेरे अस्तित्व की कुछ पहचान रहने दो

मेरी किस्मत पर न हंसो दुनियावालों

मेरी जिन्दगी के कुछ क्षण वीरान रहने दो.

भरोसा न अब किसी और पर

अपनी रक्षा के लिए तीर-कमान रहने दो

वक्त बदलता है रिश्ते बदलते हैं

नर्म बिस्तर पर भी करवट बदलते हैं

जीने के लिए कुछ अरमान रहने दो.

यूं तो छल और फरेब के मुखौटे का जहान है

थोड़ी इंसानियत भी इस दरम्यान रहने दो

रिश्तों को अक्सर तराजू पर तौलते हैं

अपने ही अपनों के भेद खोलते हैं

ऐसे रिश्तों की जगह श्मशान ही रहने दो.

आज दुख की काली बदली है

कल सुख का सूरज निकलेगा

सब जानते हुए भी अनजान रहने दो

जिन्दगी को खुशी से जीने के लिए

अधरों पर थोड़ी मुस्कान रहने दो.

कौन अपना, कौन पराया

हर तरफ है दुख का साया

रिश्ते बनते-बिगड़ते रहते हैं

इनकी पहचान के लिए

जिन्दगी में थोड़े तूफान रहने दो.


इस अंक की चित्रकार

clip_image004

इस अंक में प्रकाशित रेखाचित्रों की चित्रकार सुश्री अनुभूति गुप्ता हैं. वह एक कवयित्री और लेखिका भी हैं. ‘प्राची’ को प्रथम बार उनके रेखाचित्रों को प्रकाशित करने का सुअवसर प्राप्त हुआ है. आशा है, आप भविष्य में भी उनकी कला से रूबरू होते रहेंगे. उनका परिचय इस प्रकार हैः-

जन्मतिथि : 05.03.1987.

जन्मस्थान : हापुड़ (उ.प्र.)

शिक्षा : बी.एस-सी. (होम साइन्स), एम.बी.ए., एम.एस-सी. (आई.टी.)

प्रकाशन : हंस, दैनिक भास्कर (मधुरिमा), हिमप्रस्थ, कथाक्रम, सोच-विचार, वीणा, गर्भनाल, जनकृति, शीतल वाणी, पतहर, नवनिकष, दुनिया इन दिनों, शुभतारिका, गुफ्रतगू, शब्द संयोजन, अनुगुंजन, नये क्षितिज, परिंदे आदि पत्र-पत्रिकाओं में कविताओं का प्रकाशन. नवल, आधारशिला और चंपक पत्रिका में कहानी का प्रकाशन। साहित्य साधक मंच, अमर उजाला, दैनिक नवज्योति, दैनिक जनसेवा मेल, मध्यप्रदेश जनसंदेश, ग्रामोदय विजन आदि विभिन्न समाचार पत्रों में 300 से अधिक कविताएं एवं लघुकथाएँ प्रकाशित।‘कविता कोष’ में 60 से
अधिक कविताएं संकलित।

प्रकाशित कृतियां : बाल सुमन (बाल-काव्य संग्रह), कतरा भर धूप (काव्य संग्रह), अपलक (कहानी संग्रह)

सम्प्रति : प्रकाशक- उदीप्त प्रकाशन, 1 वर्ष तक साहित्यिक मासिक पत्रिका ‘नवपल्लव’ का प्रकाशन एवं संपादन, स्वतंत्र लेखिका एवं चित्रकार (रेखाचित्र, जलरंग चित्र)

सम्पर्क सूत्र : 103, कीरतनगर, निकट डी.एम. निवास, लखीमपुर-खीरी 262701 (उ.प्र.)

ईमेल : anubhuti53@gmail.com

image

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3864,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2812,कहानी,2137,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,865,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,659,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,61,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,186,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: प्राची अक्टूबर 2018 : काव्य जगत
प्राची अक्टूबर 2018 : काव्य जगत
https://lh3.googleusercontent.com/-jwx28F-V-NA/XAEGlVZD3RI/AAAAAAABFgU/BD504FYwTWwbjD7RpiVDyT8185qIRQPVQCHMYCw/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-jwx28F-V-NA/XAEGlVZD3RI/AAAAAAABFgU/BD504FYwTWwbjD7RpiVDyT8185qIRQPVQCHMYCw/s72-c/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/12/2018_79.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/12/2018_79.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ