370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 105 // चलती फिरती लाशें // सविता मिश्रा 'अक्षजा'


रु. 35,000+ के रचनाकार लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.
अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

प्रविष्टि क्रमांक - 105
सविता मिश्रा 'अक्षजा'

चलती फिरती लाशें
"बीते चार दिनों में छह सामूहिक बलात्कार ! कई हत्याएं !!" हाथ घुमघुमाकर, आँखे मटकाते हुए टीवी रिपोर्टर चीख रही थी । टीवी समाचार देख-सुनकर वहाँ उपस्थित हाड़-मांस के बने पुतले बेचैन हो उठे। उन सबके हाथों ने हरकत किया ! मोबाइल पर उँगलियाँ फिराई और फिर उनकी जुबानें चलने लगीं।
"बिटिया! सुरक्षित हो न! किसी तरह का कोई डर तो नहीं है उधर?"

"हाँ पापा ! आप चिंता नहीं करिए। आस-पड़ोस में सब अच्छे लोग हैं।"
"और मेरी नातिन !"
"पापा ! वो भी यही पास में है। खेल रही है।”
'लो बेटा ! नाना जी से हैल्लो बोलो'
“पापा! मगन है वह अपने खेल में।"

"ठीक है बेटा ! ध्यान रखना। आया जब भी उसे बाहर ले जाए तो उसपर निगाह रखना, बेफिक्र न हो जाना।"
श्यामू के दो जोड़ी कान भी रसोई से निकल टीवी से चिपक गए थे छिपकली की तरह। जिसके कारण मध्यम स्वर में भी पापा के पानी माँगने पर श्यामू सुस्त आवाज़ में बोला -"अभी लाया।"
सोफ़े के पास कोने की टेबल पर रखा लैंडलाइन फोन घन-घनाने लगा। सुनकर सभी का चेहरा स्याह पड़ गया।
"कौन हो सकता है?" संगीता के कान खड़े हो गए लैंडलाइन की घण्टी को सुनकर।

"देखती हूँ माँ जी।"
"रुको! मैं देखती हूँ।" बहू को रोककर संगीता ने कहा।
फोन उठाते ही एक घबराहट भरा स्वर उभरा - "भाभी ! उधर सब ठीक है!!"
"हाँ ! आप सब भी ठीक हैं?"
"हाँ! बिल्कुल । और छुटकी बिटिया किधर है?"
संगीत ने जवाब दिया - "अपने कमरे में पढ़ रही है।"

"भाभी ! ध्यान रखना ! रात को बाहर मत निकलने देना। जमाना बड़ा खराब आ गया है। अभी टीवी पर सुना तो घबराहट होने लगी। आपके मुहल्ले की ही घटना बता रहा था रिपोर्टर।"

"हाँ जीजी! दस कदम की घटना है, अभी हमने भी समाचार में ही सुना। आप भी बच्चियों का ख्याल रखना। नन्हीं-नन्हीं बच्चियों को भी दरिंदे नहीं छोड़ रहे हैं।  प्लीज जीजी! बहुत ज्यादा ध्यान रखना बेटियों का।" चेहरे पर टँगी चिंता की लकीरें अब परिवार में सब ठीक है सुनकर गायब होने लगी थीं।

"कैसे हैं पापा ?" संगीता की बहू ने अपने हवाट्स एप वीडियो कॉलिंग को  रिसीव करते हुए पूछा।
"मैं ठीक हूँ ! तू ठीक है न!"
"हाँ ! पापा।"
नमस्ते मम्मा! कैसी हो! रिंकू घर पर ही है न? शाम ढलने पर कहीं न जाने देना उसे। खासकर नुक्कड़ पर कोई भी सामान लाने बिल्कुल भी नहीं भेजना।"
"तू ठीक कहती है बेटा। जरूरत होगी तो मैं खुद ही छड़ी लेकर चला जाऊँगा धीरे-धीरे। और दामाद बाबू ठीक हैं न!" पिता ने जवाब देकर पूछा|

"जी पापा! अभी-अभी ही ऑफिस से आए हैं।"
"चल फोन रखता हूँ, अभी तेरी भाभी से भी बात करनी है। उसकी तरफ तो और भी ज्यादा माहौल खराब रहता है। चिंता लगी रहती है।"

परिवार के सभी सदस्यों से फोन पर बात करके घर में एकाएक फैली बेचैनी अब सुस्त-सी हो एक कोने में दुबक ली थी। सबके चेहरे पर सूरज के किरणों-सी मुस्कान बिखरने लगी थी।

टीवी अभी भी चीखे जा रहा था। हाथों में फिर से हरकत हुई । चैनल बदल दिया गया । मोबाइल फोन अपने-अपने स्थानों पर विराजमान हो सुस्ताने लगे थे। रात के नौ बजने वाले थे । भोजन की थालियाँ सज गई थी। पूरा परिवार संतुष्टि-पूर्वक खाना खाने में लग गया। दूसरे चैनल पर भी शहरों में घटी वही बलात्कार की घटनाएँ दिखाई जा रही थी। चैनल बदलते जा रहें थे। दूसरे-तीसरे चैनल पर भी रिपोर्टर चीख रहा था, बस चीखे ही जा रहा था । इधर डायनिंग टेबल से बहू ने आवाज़ लगाई - "श्यामु! रोटी और रख जाना।"

संगीता ने कहा - "और पनीर की सब्जी और हलवा भी लेते आना।"
"जी माँजी!" रसोई से एक स्फूर्ति भरी आवाज़ आयी।

--00--
सविता मिश्रा 'अक्षजा'
आगरा, (प्रयागराज)
2012.savita.mishra@gmail.com
ब्लाग - मन का गुबार एवं दिल की गहराइयों से |
लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 7553880833811049152

एक टिप्पणी भेजें

  1. आदरणीय महोदय, आपकी रचना सराहनीय है विनम्र निवेदन है कि लघुकथा क्रमांक 180 जिसका शीर्षक राशि रत्न है, http://www.rachanakar.org/2019/01/2019-180.html पर भी अपने बहुमूल्य सुझाव प्रेषित करने की कृपा कीजिए। कहते हैं कि कोई भी रचनाकार नहीं बल्कि रचना बड़ी होती है, अतएव सर्वश्रेष्ठ साहित्य दुनिया को पढ़ने को मिले, इसलिए आपके विचार/सुझाव/टिप्पणी जरूरी हैं। विश्वास है आपका मार्गदर्शन प्रस्तुत रचना को अवश्य भी प्राप्त होगा। अग्रिम धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव