370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 41 // परम्परा // अनघा जोगलेकर

प्रविष्टि क्रमांक - 41

अनघा जोगलेकर

..........परम्परा.........

चिताएं धूँ-धूँकर जल रही थीं। उसके पहले तिरंगों को ढंग से सहेज कर रख दिया गया था। सारे अफसरान इन शहीदों के सामने नतमस्तक थे।

मेजर वर्मा सूनी आँखे लिए चिताओं से उठते धुँए को देख रहे थे। उस धुँए में तरह-तरह की आकृतियाँ बनती, बिगड़ती, फिर बनती जा रही थीं। मेजर की आँखों के सामने फिर एक बार युद्ध का मंज़र तांडव करने लगा।

दुश्मन फौज आगे बढ़ती जा रही थी। मेजर के सारे साथी मारे जा चुके थे। वे किसी भी वक्त दुश्मन की गिरफ्त में आ सकते थे। तभी अचानक सेना की एक टुकड़ी अपने सेनानायक के साथ, तीर की तरह तेजी से, दुश्मन और उनके बीच आ धंसी। मेजर को संभलने का समय मिल गया। दोनों ओर से धुआँधार गोलीबारी हुई। अंततः सारे दुश्मन सैनिक मारे गए। इधर भी कोई न बचा लेकिन लाशों के उस ढ़ेर में से मेजर वर्मा को जिंदा निकाल लिया गया। जब उन्हें होश आया तो उनका सबसे पहला वाक्य था, "उस सेना का लीडर कौन था?"

         "लेफ्टिनेंट विजयवीर......जनाब।" एक जवान ने उत्तर दिया।

अभी मेजर वर्मा उन दुखद यादों से बाहर भी न आ पाए थे कि किसी ने आकर उन्हें सेल्यूट किया और कड़क आवाज़ में कहा, "सूबेदार विजयवीर... रिपोर्टिंग सर।"

मेजर वर्मा ने चौंककर उसकी ओर देखा। फिर उसके कंधे पर हाथ रखते हुए गर्व से बोले, "विजयवीर....यह केवल नाम ही नही बल्कि एक परम्परा है...शहादत की। विजयगाथा है इस देश की।" कहते हुए उनकी आँखों में मोती चमक उठे। सीना दो इंच और चौड़ा हो गया। मस्तक गर्व से तन गया।

चिताएं अभी भी धूँ-धूँकर जल रही थीं लेकिन उनके धुँए में दिखती आकृतियाँ गर्व से मुस्कुरा रही थीं।

©अनघा जोगलेकर

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 8350799141173204724

एक टिप्पणी भेजें

  1. विनम्र निवेदन है कि लघुकथा क्रमांक 180 जिसका शीर्षक राशि रत्न है, http://www.rachanakar.org/2019/01/2019-180.html पर भी अपने बहुमूल्य सुझाव प्रेषित करने की कृपा कीजिए। कहते हैं कि कोई भी रचनाकार नहीं बल्कि रचना बड़ी होती है, अतएव सर्वश्रेष्ठ साहित्य दुनिया को पढ़ने को मिले, इसलिए आपके विचार/सुझाव/टिप्पणी जरूरी हैं। विश्वास है आपका मार्गदर्शन प्रस्तुत रचना को अवश्य भी प्राप्त होगा। अग्रिम धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव