370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 2019 - प्रविष्टि क्रमांक - 71 // नई पहचान // रचनासिंह"रश्मि"


प्रविष्टि क्रमांक - 71


रचनासिंह"रश्मि"

!! नई पहचान !!
पांच सितारा होटल में सम्मान समारोह हो रहा था मन तो नहीं था राघवेंद्र का आने को पर सारे आफिस और स्टाफ को पता था कि आज  प्रियंका का सम्मान समारोह है। बेमन से होटल आ गया।

जैसे ही  कार्यक्रम स्थल के गेट पर पहुँचा सुरक्षा कर्मी ने  राघवेंद्र को रोकते हुए कहा "आप कौन हैं? पहले आप अपना परिचय दीजिये फिर अंदर जाए। यहाँ कुछ खास मेहमानों को अंदर जाने की इजाज़त है।

मैं राघवेंद्र सरन।" कुछ यूं जवाब दिया जैसे वह कोई बहुत बड़ी हस्ती हो
"कौन राघवेंद्र सरन क्या आपके पास इन्विटेशन पास है ?"गेटमैन तिरछी निगाहों से देखता हुआ बोला । उसके हावभाव से राघवेंद्र के अहम को अब तक जोरदार झटका लग चुका था। झट से प्रियंका को फोन किय बोला कहाँ हो तुम! मैं तो तुम्हारे पास पहुंच गया हूँ लेकिन गेट पर बिना  इंट्रीपास के अंदर नहीं आने दे रहा है सारा मूड खराब हो गया।

प्रियंका की खुशी से उछल पड़ी अरे वाह आप आ गए आप वहीं  रुको मैं अभी किसी को भेजती हूँ आपके पास।"

फ़ोन कटते ही राघवेंद्र गेट पर खड़े सुरक्षा इंचार्ज से  झल्लाते हुए बोल पड़ा "जिनके सम्मान में यह आयोजन  किया गया है ,मैं उन्हीं का पति हूँ। समझे।

माफ कीजिये सर। ये बात आपको पहले बताना चाहिए था कि आप प्रियंका मैडम के पति हैं। आप अंदर जाइये प्लीज।"

उसकी बात अभी पूरी भी नहीं हुई थी कि दो लोग आये और माफी मांगते हुए कहने लगे " हमें दुख है कि प्रियंका जी के पति  महोदय को इतना इंतज़ार करना पड़ा। आप हमारे साथ आइये। आपका स्वागत है।"
राघवेंद्र को बड़े सम्मान के साथ पहली पंक्ति में बिठाया गया।

आज एशिया की श्रेष्ठ लेखिका रूप में उसका नाम चुना गया । उसने अपनी "किताब नई पहचान"  लिखी थी जिसकी वजह से आज गर्व महसूस कर रही थी । जिसने एक नई पहचान बनाई आज सम्मान लेते समय वो बात याद आ गई थी जब राघवेंद्र कहते थे। क्या फालतू की पेन डायरी लेकर बैठी रहती हो। तुमको आता क्या है हिन्दी मीडियम की पढ़ी हो।

सपने देखना बंद कर दो ।अगर तुमने कुछ उल्टा सीधा लिख भी लिया तुमको पढ़ेगा कौन? क्या समझती हो अपने आपको तुम्हारी पहचान मुझसे है। समझी राघवेंद्र सरन की पत्नी हो इस जादा कोई नहीं जानता तुमको ।
जब पुरस्कार दिया जा रहा था। तब मेरी नजरें राघवेंद्र पर थी जो बाकी लोगों के साथ तालियां बजा रहे थे। तभी मंच आवाज आई । प्रियंका जी के पति राघवेंद्र सरन जी मंच पर आए मीडिया फोटो के लिए इंतजार कर रही है। सबको पता चले प्रियंका जी के पति कौन है। मैं राघवेंद्र की आँखों में आँखें डालकर कहना चाहती थी आज से मेरी नई पहचान है अब लोग आपको प्रियंका के पति नाम से जानेंगे।

                          रचनासिंह"रश्मि"
                   सोशल एक्टीविस्ट/साहित्यकार
                              आगरा उ.प्र
"""'''''''''''"""''''''''''''''''''''''''"''''''''''''''''''''''''"""""""""""""""""""""""""""""""""
                           
लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन 3900986385312992018

एक टिप्पणी भेजें

  1. आदरणीय महोदय, आपकी रचना सराहनीय है विनम्र निवेदन है कि लघुकथा क्रमांक 180 जिसका शीर्षक राशि रत्न है, http://www.rachanakar.org/2019/01/2019-180.html पर भी अपने बहुमूल्य सुझाव प्रेषित करने की कृपा कीजिए। कहते हैं कि कोई भी रचनाकार नहीं बल्कि रचना बड़ी होती है, अतएव सर्वश्रेष्ठ साहित्य दुनिया को पढ़ने को मिले, इसलिए आपके विचार/सुझाव/टिप्पणी जरूरी हैं। विश्वास है आपका मार्गदर्शन प्रस्तुत रचना को अवश्य भी प्राप्त होगा। अग्रिम धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव