370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

अंकुश्री की लघुकथाएं - १.आदत, २. गुलाम मानसिकता ३. निजी अस्पताल

अंकुश्री (Ankushri)



गुलाम मानसिकता
                                          

    साहेब बार-बार उससे एक ही सवाल पूछते कि वह बंगला पर काम करने क्यों नहीं आता है और वह हर बार एक ही जवाब देता, ''आफिस में जो काम कराना है उसके लिये मैं तैयार हॅू, लेकिन मैं बंगला पर नहीं जा सकता.''
     बार-बार बात काटते रहने से वह साहेब की नज़र में चढ़ गया था. साहेब कभी धमकी देते कि उसका यात्रा भत्ता विपत्र पारित नहीं करेंगे तो कभी कहते कि उसे यात्रा  में साथ नहीं ले जायेंगे. लेकिन वह किसी तरह भी साहेब का घरेलू कार्य करने के लिये तैयार नहीं हुआ.
     उसका पिता भी उसी की तरह चपरासी था और उससे कहा करता था, ''मैं  अंग्रेज के जमाने का चपरासी हॅू. बहुत से साहेबों को देख चुका हॅू. लेकिन किसी साहेब से मुझे कभी अनबन नहीं हुई.'' अनबन हो भी कैसे ? उसके पिता अपने घर-परिवार की चिंता छोड़ कर साहेबों के घर-परिवार की चिंता में लगे रहते थे. वह अपने पिता के बारे में सोचने लगा. पिताजी ने अपने घर-परिवार की थोड़ी भी चिंता की होती तो क्या वह पढ़-लिख नहीं पाता ? वह चपरासी बनता ही क्यों ?
     शाम को जब वह घर जाता है तो दरवाजे पर प्रतीक्षारत पत्नी की मुस्कुराहट देख कर कार्यालय की सारी डांट भूल जाता है. जलपान के बाद वह अपने बेटा को टो-टाकर पढ़ाने बैठ जाता है.
     पिता जैसी गुलाम मानसिकता उसमें नहीं आ पायी है. उसे संतोष है कि किसी की कृपा का सुख उसे भले नहीं मिल पाये लेकिन अपने घर-परिवार के सुख से वह वंचित नहीं है.

--0--


निजी अस्पताल 
                                        

    ''सूई पड़ गयी ? ''
     ''हां !'' कुछ रूक कर नर्स ने आगे कहा, ''मगर आपने यह सूई क्यों दिलवाई ?''
     ''- - - - - -''
     ''उसे तो प्रसव पीड़ा हो रही है. सूई देकर पीड़ा रोकना ठीक नहीं - - -.'' कस्बे में एक ही सरकारी अस्पताल था. उसमें डाक्टर भी एक ही थे.
     ''- - - - - -''
     ''जब मुंह खुल गया है तो उस प्राकृतिक पीड़ा को सूई देकर नहीं दबाना चाहिये था. इससे प्रसव और जटिल हो जायेगा.''
     ''- - - - - -''
     अस्पताल का नियमित समय खत्म होने पर डाक्टर जाने लगे तो नर्स ने पूछा, ''यदि इस औेरत की हालत ज्यादा खराब हो जायेगी तो मैं क्या करूंगी ?''
     ''उसे मेरे निजी अस्पताल में भेज देना.''
                  

    ---0---


आदत
                     
     पति को सब्जी में अधिक मिर्च पसंद नहीं थी. लेकिन पत्नी को अधिक मिर्च वाली सब्जियां ही अच्छी लगती थी. पत्नी के कारण पति को भी मिर्च वाली सब्जियां खानी पड़ती थी.
     दोनों खाने बैठे थे. इसी बीच पड़ोसन भी आ गयी. उसे भी खाने  पर बैठा लिया गया. पत्नी चटखारे ले-लेकर सब्जियां खा रही थी. पड़ोसन को भी सब्जियां अच्छी लग रही थी. लेकिन सब्जी में मिर्च अधिक थी. उसने कहा, ''इतनी अधिक मिर्च वाली सब्जियां जीजाजी खा लेते हैं ?'' जीजाजी को उसने एक सप्ताह तक खिलाया था. उसे पता था कि उसके पड़ोसी जीजाजी मिर्च बहुत कम खाते हैं.
     ''हां.'' पत्नी ने कहा,''पहले तो नहीं खाते थे, लेकिन अब आदत हो गयी है.''
     उधर बेचारा पति पानी का घूंट ले-लेकर खाना खाए जा रहा था. मिर्च अधिक होने के कारण उसकी आंख-नाक से पानी निकल रहा था, जिसे वह धीरे से रुमाल में पोंछ लेता था.
---0---


                  अंकुश्री
8, प्रेस कॉलोनी, सिदरौल,
नामकुम, रांची (झारखण्ड)-834 010

लघुकथा 8653349571263942084

एक टिप्पणी भेजें

  1. जनाब अंकुश्री की लघु कहानी 'गुलाम मानसिकता' इतनी दमदार नहीं है, जितनी उनकी दूसरी लघु कहानियां आदत और निजी अस्पताल बेहतर है । इनके लिए मेरा सुझाव है कि वे कहानी में ऐसी अंतिम घटना देनी चाहिए जिससे कहानी का उद्देश्य और शीर्षक के नाम का बोध होता हो ।
    दिनेश चंद्र पुरोहित (लेखक - डोलर-हिंडा)

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव