---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

साहित्यम् - फेस बुक पर ई-पत्रिका वर्ष-१ अंक -१ प्रवेशांक

साझा करें:

साहित्यम् - फेस बुक पर ई-पत्रिका   : एक अभिनव पहल   वर्ष-१ अंक -१ प्रवेशांक –नवम्बर २०१८ .निशुल्क सम्पादकीय फेस बुक पर पहली ई-पत्रिका में ...

image

साहित्यम् -फेस बुक पर ई-पत्रिका   : एक अभिनव पहल 

वर्ष-१ अंक -१ प्रवेशांक –नवम्बर २०१८ .निशुल्क

सम्पादकीय

फेस बुक पर पहली ई-पत्रिका में पाठकों का स्वागत,अभिवादन,अभिनंदन  .यह बैठे ठाले का शगल है ,कुछ नहीं तो यहीं सही ,सूचना का प्रभाव इतना रहा की तुरंत रचना ,फोन ई मेल आये. प्रवेशांक आप को पसंद आएगा ,यात्रा जारी रहेगी. अकेले हैं तो क्या गम हैं .

वर्तनी की ओर ज्यादा ध्यान न दें .आगे कुछ और सुधार करेंगे.

इस हाहाकारी भयंकर समय में प्रेम की बात करना आसान नहीं है फिर भी प्रेम पर इस अंक में कहानी,कविता व् व्यंग्य पढ़ें। सुरेश कान्त  ,कैलाश मनहर, राजेन्द्र स्वर्णकार,अशोक गौतम का आभार .

धन तेरस , दिवाली की मंगल कामनाएं .

आगामी अंक का विषय –स्त्री –पुरुष सम्बन्ध –इस पर कविता, व्यंग्य , कहानी का सपारिश्रमिक स्वागत है.

यशवंत कोठारी

ykkothari3@gmail.com


कहानी-

अपरेसन

सुरेश कान्त

बहुमुखी प्रतिभा के धनी, वरिष्ठ लेखक – पेंगुइन रेंडम के सलाहकार संपादक

वह सोच रही थी, आज भी न गई तो चेहरा लटका लेंगे। वैसे भी अबकी बार चार महीने बाद लौटे हैं। लेकिन अम्मा तो अभी जाग रही हैं? रजाई में मुँह दिए भले पड़ी हों, कान बहुत चौकस हैं उनके। कहेंगी तो क्या, पर सुबह उनकी नजर में आते ही शर्म से दोहरा जाएगी वह। यह लिहाज अब तक नहीं छूटा — जैसे गौनिया हो!...एक देवरानी भी तो है — सरे-साँझ से बगल की कोठरी में दुबक रहती है देवर जी के साथ...होगी रे, नए जमाने की छोरी है वह। और फिर जब तक गोद खाली है, खेल-खा ले। फिर तो बचूड़ों का मुँह देखकर जीना पड़ता है।

उसने लेटे-लेटे निगाह दौड़ाई — जुड़वाँ खाट पर तीनों लड़कियाँ बेसुध सो रही थीं। मुन्ना उसकी काँख में फँसा है — मुँह में आँचर लिए। सारी रात उसी की ओर करवट लिए कट जाती है। जरा-सा आँचर मुँह से छूटा नहीं कि ठिनकने लगता है। रह-रहकर अजान बनता है — डोंडा। दो साल का होने को आया...उसने प्यार से गाल थपककर मन-ही-मन हिसाब जोड़ा — पूष-पूष दो, आज क्या है...छठ है, बस पौन महीना और, दो का ही समझो। उसने रजाई के भीतर ही हाथ के अटकर से उसे सिर से पैर तक नाप डाला। बिलकुल अपने बाप पर जाएगा बड़ा होकर...वैसा ही घूना, नखड़ीला और अक्कड़खाँ है अभी से।

हाथ फेरते-फेरते गद्गद-सी हो आई, तो उसने रजाई का पल्लू उघाड़ दिया। दीये का पीला उजास मुन्ने के गोलमटोल मुँह और बिखराए बालों को चमचमा उठा। उसका हिया हुलसकर पूर्णता से भर गया। सचमुच, जब से यह छोरा हुआ है, उसकी कोख भर-सी गई है। कहने को तो छोरी-ऊपर-छोरियों की कतार से तीन-तीन सोरी सहेजी हैं उसने, पर छोरियों से भी कभी किसी का घर भरा है? उनके जन्म पर तो इस घर में कुहराम मच गया था। अम्मा चौंसठ आँसू रोतीं। 'इन' का मुँह भी उतर जाता। खुद वह भी अपनी कोख कोसती अघाती नहीं थी। लेकिन अब मुन्ने के बाद पूरी तरह तृप्त हो गई है। उसे अपनी कोख पर नाज है। अम्मा की भी फूटी-सी आँख खुल गई है। लड़कियों का भी ढकौना हुआ एक तरह से, नहीं तो बरस-बरस के दिन किसकी कलाई तलाशतीं!

चलूँ...उठूँ! — वह आलस झटककर एक बार फिर कसमसाई — चार महीने बाद लौटे हैं। आज दूसरा दिन है...पौर में जरूर लेटे हैं, पर यहाँ की एक-एक आहट धड़कनों से गिन रहे होंगे, यों भी पानी-पेशाब के बहाने दो-तीन बार बखरी फाँदकर खाँस-खूँस गए हैं। अम्मा भी कम नहीं हैं। फौरन रजाई से उझककर सूखे-से मुँह से पूछ बैठीं, “को है? लला! का बात है...”

“कुछ नहीं, अम्मा,” वे सहमे-से बोले, “जगह बदल गई है ना! सो नींद नहीं आ रही...”

लेकिन वह समझती है, जगह बदलने का मतलब! वह समझती है सारी बहानेबाजियाँ...और नींद क्यों उड़ गई है, यह भी...

अब तो जाना ही होगा...अम्मा की नक्की ठर्रा उठी है। देवरानी और देवर जी की खुसर-पुसर चस्स-चुस्स में बदलकर संगम के सुख से ओतप्रोत हो रात की स्तब्धता में खो गई है। लड़कियाँ मीठे सपनों में मशगूल हैं...और मुन्ना के उत्पात भी गहरे अवचेतन में घुलकर कुछेक देर को निस्पंद हो गए हैं। तो भी एहतियातन उसने आँचर की जगह तकिया लगा दिया, ताकि वह अबोध गहरी नींद में भी उसकी उपस्थिति महसूसता रहे। उसने मुन्ने का मुँह अधखुला रखा है, क्योंकि वह अपनी ही साँस की घुटन से हाथ-पाँव फेंककर कुनमुनाया, तो आँचर ढूँढ़ेगा और आँचर की जगह तकिया पाएगा, तो अभी हईकम मचा देगा। फिर अम्मा यानी सास और देवरानी दोनों एक ही सवाल करेंगे — वह कहाँ थी...? क्यों गई थी?

पेवली पर रखे दीए के उजास में उसने एक बार फिर देखा — लड़कियाँ गहरी नींद सो रही हैं। मुन्ना तकिए को उसका आँचर समझे नींद में भी माँ के आँचल में सिमटा सारी दुनिया से सुरक्षित है। उसने बालों में फरी-फरी कंघी फेर, साड़ी की चुन्नटें फिर से सहेज, बिना आहट कोठरी की किवाड़ी उढ़काकर, दबे पाँव अम्मा की ठर्राती नक्की का बहुत करीब से जायजा लिया और देवरानी की खामोश कोठरी में से चेतन-अचेतन की कुछ आहटें बीनकर अपने मजबूत कदम पौर की तरफ बढ़ा दिए, जहाँ वे सोने का बहाना किए करवटें बदल रहे हैं।

वे यानी लाखाराम। उसका पति। अबकी पूरे चार महीने बाद घर लौटा है। सोसायटी में चपरासी है वह। पहले तो यहीं था, करीब के जिला-मुख्यालय में। सुबह साइकिल से जाता और शाम को किसी पलैतू कबूतर-सा गुटरगूँ करता लौट आता। लेकिन दो साल पहले एक इंस्पेक्टर से तू-तू, मैं-मैं हो गई, तो बेचारा जिला-बदर कर दिया गया। अब श्योपुर में है। काले कोस। पहली बार जब गया था, तो उसके पेट में पानी हो गया था। उसने सुन रखा था स्यानियों से कि श्योपुर में भट्ठियाँ हैं। मगर लाखाराम को रोक पाना तो नामुमकिन था। सवाल नौकरी का है। फिर चाहे भट्ठियों का शहर हो, चाहे दानों का। सवाल दाने का ही तो है। ये बैरी पेट न होता, तो फिर चकल्लस ही क्या थी? आने-जाने में पूरे हजार रुपये लगते हैं। हर महीने नहीं आ सकता।

वह पौर की खाट के पाँयते आ बैठी। खाट पर लाखा सो रहा था...किसे नींद आती है ऐसे खिंचाव में...वह तो सोने का बहाना किए था। उसने रजाई का एक पल्लू उघाड़कर उसकी पिंडली दबानी शुरू कर दी। लाखा सुगबुगाया। नींद टूटने का अभिनय किया। वह खूब जानती है — उसकी जनम की आदत! अँधेरे में भी मुसकराती रही, उसकी इस दिलफेंक हरकत पर...कुछ देर बाद लाखा फुसफुसाया, “लेट रह...”

“कुच्च!” उसने तालू से जीभ छुड़ाकर नकार दिया।

लाखा एकदम अधीर हो उठा, “लेट तो...”

होंठों पर मुसकान और नकार में फिर सिर हिला दिया उसने।

“कुछ दुःख-सुख की बात करेंगे। तेरी कसम! और कोई गड़बड़ी नहीं।“ कहते-कहते जैसे लाखा की फूँक ही सरक गई। पर उसे यकीन न हुआ। यकीन संभव पर होता है। आग-फूस मिलकर जलेंगे नहीं? कैसा मूरख है उसका घरवाला! या कि उसे फिर एक बार ठगना चाहता है...लेकिन अब वह छलावे में आने से रही। अभी तक तो एक मुन्ने की चाह थी। वैसे उसका जोबन तो पहली छोरी की क्वाँ-क्वाँ पर ही फुर्र से उड़ गया था।

“ आ तो...” लाखा हारे हुए स्वर में उसका पल्लू खींचकर बोला, “इस छन की खातिर तो सैकड़ों मील फाँदकर आता हूँ...”

“मेरे वास्ते?” उसने मीठा उलाहना दिया।

“तेरे न सही, बाल-बच्चों के...पर मूल बिरछ तो तू ही है।” अब लाखा फुसलाने पर उतर आया था। पर तभी उसने पूरी धृष्टता से बरज दिया, “डाट खाओ! तुम्हें तो हर बखत मचोचे सूझते हैं और यहाँ प्रानों पर बन आती है।”

पर उसने महसूसा कि अब लाखा का हाथ ढीला पड़ गया है और एकाएक उदास हो उठा है वह। ऐसी घड़ियों में बड़ी कुशलता से काम लेती है, इतनी तो चतुर है वह कुपढ़ा। विपत्ति की आगाह एक मीठी चिकौटी में, “आजकल खतरे की घंटी हूँ बालम जी। बजाओगे, तो एक और मुन्ना नींद से उठ बैठेगा।”

“तू आ तो,” लाखा रूठा-सा बोला, “मैंने अपरेसन करा लिया है। मैं क्या इतना मूरख, अज्ञानी हूँ कि लैन पर लैन लगाता जाऊँ? बस्स! अपनी दुनिया को इत्ती फुलवारी बहुतेरी।”

पर उसे विश्वास नहीं हुआ। अपरेसन कराने की एकाएक कैसे सूझी इसे! अरे, इस टैम बावला हो जाता है। कुछ भी झूठ-मूठ गढ़ सकता है। न, वह नहीं आने वाली अब किसी फंदे में।

लाखा निराश हो अँधेरे में ही छत की कड़ियाँ गिनने लगा। ऑपरेशन तो एक गरज थी। एक नियंत्रण भी। अरसे से सोचता आ रहा था, लेकिन एक लड़के के बिना कोई परिवार पूरा नहीं होता। कोई परिवार से उसका मतलब सारे समाज से था...और समाज दुनिया-जहान का न सही, उसके माने में तो उसका समाज उसकी जात-बिरादरी तक सीमित है। हद से हद, भिंड-मुरैना और ग्वालियर जिला। इसके आगे भी दुनिया है — उसी जैसे लोगों की, उसने सोचने की कोई जरूरत नहीं समझी। और उसके समाज में लड़कियाँ खुदमुख्तियार नहीं होतीं। वे दूल्हे के घर जाकर बसती हैं, न कि दूल्हे को अपने घर में बाँधके रख सकती हैं। उसकी समझ में यही होता आया है आदिकाल से और अनंत तक यही ढर्रा चलता जाएगा...

एक बार डायरेक्टर साहब का दौरा हुआ था। साथी चपरासियों की नेक सलाह पर उसने अपना भाग्य आजमा डाला। पी.डब्ल्यू.डी. के रेस्टहाउस में घुसकर संचालक जी के बूट भरत की तरह अपने सिर पर धर लिए। मगर अफसोस! वे मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जी की तरह भाव-विह्वल नहीं हुए। खूब जोरों से हँसे। रावण जैसी हँसी। एकदम अट्टहास वाली — भयाक्रांत कर देने वाली हँसी। वह सहमकर सूख गया। बुत-सा खड़ा रहा, स्थिर। समझदानी रीत गई कि अब क्या करे? क्या कहे?

“सोसायटी का चपरासी है लाखाराम,” इंस्पेक्टर ने उसके पिलपिलाए चेहरे की लाज रखते हुए कहा, “ट्रांसफर चाहता है, सर!”

“अच्छा, अच्छा...” डायरेक्टर ने अपनी हँसी को लगाम दी, तत्क्षण गंभीर हो आए। ऐसी शक्ल बनाई कि जैसे आज तक यह चेहरा कभी सपने में भी न हँसा होगा। लाखा आश्चर्य से ताकता रह गया।

“कहाँ का रहने वाला है?”

“उधर का ही साब।”

“इधर कैसे आ गया?”

“बस, आ गया साब...अप्सरान, हेल्परान की मरजी।” लाखा रोने को हो आया, “गरीब हूँ साब...बाल-बच्चा संपूरन गिरस्ती वहीं है। आने-जाने में आधी तनखा लग जाती है, साब। साल-खाँड में एक दफे...”

“कितने बच्चे हैं?”

“चार हैं साब।” लाखा ने उम्मीद से देखा। कच्ची गृहस्थी यानी चार बच्चों का खयाल कर साहब जरूर पिघल जाएँगे। मगर उधर तो डायरेक्टर महोदय की त्योरी आसमान छू गई। वे उसे आग्नेय नेत्रों से घूरते रहे, लगभग दो-तीन मिनट। लाखा भय से पीला पड़ गया। हे प्रभू! संकटमोचन वीर! जे का गजब भया...रच्छा करो नाथ! छमा करो दीनबंधु...त्राहि-त्राहि पाहिमाम...वह आँखें झुकाए मन ही मन गिड़गिड़ा रहा था।

“ये स्साला, लाखाराम,” डायरेक्टर अब बेसुध हँसे जा रहा था, “पूरा का पूरा लखनपुरा बसाए देता है...”

बड़ा मनोरंजक प्रसंग छिड़ गया था, इसलिए इंस्पेक्टर भी थोड़ा मुसकराया। काठ के उल्लू-सा खड़ा लाखा भी इस हास्य की बावड़ी में उतरने लगा। तभी डायरेक्टर की आँखें फिर कौड़ी-सी चमक उठीं। लाखा की हँसी करुणा में बदल गई। वैसे ही, जैसे बच्चे रोते-रोते हँसने और हँसते-हँसते रोने लगते हैं।

“बस! गरीबी, भुखमरी, बदहाली और पिछड़ेपन का असल कारण यही है,” वह किसी जुझारू अन्वेषक की तरह ठोस स्वर में बोल रहा था, “ये तबका फौज बढ़ा-बढ़ाकर हमारे लिए प्रॉब्लम खड़ी करता जा रहा है...”

“मैं पूछता हूँ...” अचानक उसकी आवाज बहुत तीखी होकर भर्त्सना-भरे लहजे में ऊँची तन गई, “तुमने और क्या प्रोडक्शन किया? उपज बढ़ाई हो तो...बीवी के वास्ते हथकरघा उद्योग डाला होता तो...या फिर ईंधन की बचत के लिए गोबरगैस-प्लांट! नहीं तो कम से कम सोलर कुकर ही खरीदा होता! एक पेड़ तो लगाया नहीं जाता, ऊपर से जंगलों का सफाया! अरे, दिनभर मटरगश्ती करती हैं तुम्हारी औरतें, वे बागीचे भी नहीं लगा सकतीं? बहुत मुलायम हैं क्या? और प्रोपेगंडा करते हो कि हम भूखे हैं, नंगे हैं, हमें काम नहीं मिलता...और उधर बच्चों का मैन्युफैक्चरिंग चालू! यही मॉरल है तुम्हारा? तुम साले इस कंट्री का कबाड़ा करके छोड़ोगे!”

“तूने ऑपरेशन कराया?” इंस्पेक्टर ने अपनी भूमिका निभाई।

लाखा ने अपराधी-भाव से न में गरदन हिला दी। डायरेक्टर अब खामोश था। शायद, अपने व्यक्तित्व का माहात्मय देखने के लिए! और इंस्पेक्टर एक तरह से बिचौलिया, उत्प्रेरक अथवा कार्य-कारण वाली जरूरी कड़ी। वह किसी विलायती कुत्ते-सा रोबदार स्वर में घुरघुराया, “तो...पहले जाके ऑपरेशन करा, फिर आना सर के पास...”

लाखा अब खूब खुश है। उसने लक्ष्य भी पा लिया है और नियंत्रण भी, पर ये साली...उसने पाँयते लुढ़की घरवाली को ठेला, “चल, उट्ठ!” वह उनींदी हो चुकी थी। आँखें मलती हुई बोली, “ऐं! मुन्ना रोया क्या?”

“मेरा भूत रोया होगा,” लाखा ने कहना चाहा। लेकिन तभी हकीकत में कोठरी की तरफ से चिल्ल-पुकार सुनाई दी, “हाय मम्मी! जे क्या...देखो मम्मी!...हाय दैया! मम्मी री...ओ...!”

यह लड़कियों का कोलाहल था। वह एकबारगी धक्क से रह गई। लटपटाते पैरों से भागी कि सयानी लडकियाँ सब जान जाएँगी...आज अच्छी पोल खुली! जाकर सबसे पहले दीया बुझा देगी...और रजाई के पल्लू में मुँह ढाँप लेगी। फिर सुबह देखा जाएगा। कोठरी में आकर देखा कि दीया तो कब का बुझा पड़ा है। रोशनी की जगह धुआँ ही धुआँ। कपड़ों और पुरानी रुई की जलाँध! हाय राम! ये क्या?...उसका दिमाग शून्यता से भर उठा। लुंज-पुंज जैसे छूछे हाथों उसने मुन्ने के ऊपर से धुँधकती रजाई उठाई। रीती बुझी हुई ढिबरी पटाख से देहरी पर गिर पड़ी। उसके शरीर की सारी शक्ति जैसे क्षणांश में ही निचुड़ गई। वह मुन्ने के धू-धू कर जलते स्वेटर पर अपनी कनपटियाँ रगड़कर किसी दुखियारी गाय-सी बेपनाह रँभा उठी।

सभी हतप्रभ थे। निरी देर तो कुछ सूझा ही नहीं, भौंचक्के-से एऽऽ की चीख छोड़ते खड़े रहे। जैसे अचानक धरती फट गई हो, या पहाड़ टूट गया हो। लड़कियों का कोहराम जारी था...फिर देवरानी ने रोते-कलपते, काँपते हाथों से मुन्ना को निर्वस्त्र कर दिया। सभी ने नाड़ी पकड़ी। बार-बार सीने से कान सटाकर धड़कन सुनी। पर, सब-कुछ नि:शेष हो चुका था — खोखले आसमान की तरह रिक्त।

—सुरेश कांत

7-एच, हिमालय लीजेंड

न्याय खंड-1, इंदिरापुरम

गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) – 201014

drsureshkant@gmail.com

०००


कविता    

-कैलाश मनहर

–वरिष्ठ कवि

************

इतनी सारी दुविधायें हैं जीवन में कि

सुविधा के लिये स्थान ही नहीं है कहीं

मरते हुये बच्चे पर नज़र गड़ाये बैठे गिध्द हैं

और कहीं एक हरिणी है

अपने छौने को बचाने के लिये

सुपुर्द करती बाघ के जबड़ों में अपनी देह

आह!

अख़लाक की चीखें गूँज रही हैं कानों में

और उस स्त्री का चेहरा जो

कड़ा कर के अपना मन कूद रही है

अथाह गहरे कूँए में

बिलख रहा है पाट पर बैठा दुधमुँहा बच्चा

और सरकार के लिये जरूरी है

शहरों का नाम बदलना

बचाओ!बचाओ!की चीत्कारें गूँज रही हैं

हर दिशा में बदहवास

दौड़ते लोग दिखाई देते हैं

सुनो!

कुछ दिन के लिये स्थगित रखो प्रेम

अभी ज़हर बहुत है हवाओं में

*****************************************

                                       --कैलाश मनहर

स्वामी मुहल्ला

मनोहरपुर (जयपुर -राज.)

पिनकोड-303104

मोबा. 9460757408

००००


प्रेम संभव

राजेन्द्र स्वर्णकार

-कवि ,चित्रकार, फिल्म मेकर

नाम हुआ है बहुत हमारा जिस दिन से बदनाम हुए !

पहले प्रेमी, पूजक, पागल, ...आख़िरकार ग़ुलाम हुए !

प्रीत-पथिक बन कर ख़ुद को खोया है ख़ुद को पाया है !

ख़ुद मीरा, ख़ुद राधा-गोपी, ख़ुद मोहन घनश्याम हुए !

●●●●●

क्या जीवन का लक्ष्य, मर्म क्या, भेद गूढ़ अनजाना है !

वृहद-विराट अनंत ; सूक्ष्मतम लघुतम ताना-बाना है !

प्रश्न नहीं अनसुलझा, शेष रहस्य नहीं जग में कोई !

प्रेम किया जिसने उसने ही ईश्वर को पहचाना है !

●●●●●

जिसके मन में प्रेम उसे अपना या कोई ग़ैर कहां ?

जग भर से उसकी यारी है, प्यार सभी से, ...बैर कहां ?

ज़र्रा-ज़र्रा जन्नत उसके लिए फ़रिश्ता हर इंसां !

मक्का मथुरा काबा काशी कहां हरम या दैर कहां ?

●●●●●

बलिहारी उनकी जिनके मन पावन निर्मल सुंदर हैं !

गुरुद्वारे गिरजे मस्जिद मंदिर सब उनके अंदर हैं !

है उनमें भगवान बसा, ख़ुद उन्हें ख़ुदा सिजदे करता !

खो देते सर्वस्व प्रेम में... वे कुबेर वे इंदर हैं !

●●●●●

अपने और पराये का जब है विभेद मन से मिटता !

तेरा-मेरा जाति-धर्म का धुआं-कुहासा सब छंटता !

कटता-घटता बंटता पटता नहीं कहीं वह ना डटता !

प्रीतम को दिन-रैन सुमिर कर नाम उसी का वह रटता !

●●●●●

प्रेम किया है जिसने यारों ! उसकी बात निराली है !

हर दिन उत्सव जैसा, हर दिन होली है दीवाली है !

हर पर्वत वह लांघ चुका, हर सागर पार किया उसने

अतल-वितल की गहराई, नभ की ऊंचाई पा' ली है !

●●●●●

हर अन्वेषण और परीक्षण यहीं पूर्णता पाता है !

और जानने को कुछ भी तो शेष नहीं रह जाता है !

प्रेम समस्याओं का हल है, उत्तर सारे प्रश्नों का !

प्रेम आदि है, प्रेम अंत है, प्रेम प्रणीत प्रदाता है !

●●●●●

प्रेमी से सामीप्य अन्य का कब प्रेमी स्वीकार करे ?

कटु वाणी राधा के मुख की बन' मुरली पर वार करे !

प्रेम असंभव को भी संभव करे समर्पण अर्पण से !

युक्ति लगा' ...कान्हा पर बंशी तब ही तो अधिकार करे !

●●●●●

प्रेम किया मीरा ने सारे सुख महलों के त्याग दिए !

भटकी वन-वन जोगन बन' मन प्रेम और अनुराग लिये !

साध, लक्ष्य - बस प्रिय को पाना, ...रैन-दिवस चलते रहना,

आग धधकती सांसों में ले'कर, ...ले'कर बैराग हिये !

●●●●●

वादा वचन हिसाब न मांगे, प्रेम मात्र देना जाने !

मात्र समर्पण मात्र समर्पण मात्र समर्पण ही माने !

दीवानों-से काम करे... दीवाने पूरे दीवाने !

बही-पोथियां फाड़', तोड़ कर तकड़ी फैंके दीवाने !

●●●●●

!

राजेन्द्र स्वर्णकार

पुत्र - स्व. श्री शंकरलाल जी स्वर्णकार

गिराणी सोनार मौहल्ला,

बीकानेर 334001 

राजस्थान

०००००००


व्यंग्य-कथा

यार बिना चैन कहां रे-

  अशोक गौतम

–प्रोफेसर-व्यंग्यकार

हमारे मोहल्ले में गधा गधी का एक जोड़ा मत पूछो कितने प्रेम से रहता था। उनके बीच के प्रेम को देख कई बार तो मुझे अपने वैवाहिक जीवन पर बहुत गुस्सा आता। काश! ऐसा आदमी होने से बेहतर तो मैं इस जैसा गधा होता। आदमी होकर भी कौन से तीर मार लिए मैंने ? सारा दिन रेता बजरी हसंते हुए ढो लेता। कम से कम गधी तो मुझे रिकोग्नाइज करती।

आह! क्या प्रेम था उन दोनों में! उनका प्रेम देख कई बार तो मेरा मन करता कि मैं भगवान से निवेदन कर डालूं कि हे भगवान ! मुझे अगले जन्म में ऐसा ही जीवन साथी देना, चाहे मुझे गधा बना देना।

मालिक के साथ दोनों बतियाते, ठहाके लगाते एक साथ काम पर जाते। लंच टाइम में एक साथ रेस्ट करते और लंच टाइम खत्म होते ही दोनों एक दूसरे को मुस्कुराते हुए देखते रहते और मालिक उनको रोते हुए लादता रहता।

कई बार मैंने अपनी बीवी को उनके इस स्वर्गिक रिश्ते के दर्शन करवाने की सोची भी , पर चुप रहा। एक तो पहले ही सिर पर चौबीसों घंटे आसमान उठाए रहती है , ऐसे में जो उसे इनके प्यार की बात दिखाई तो पता नहीं सिर पर और क्या क्या उठा ले?

पर पता नहीं गधा गधी के इस प्रेममयी जोड़े को किस दिलजले की बुरी नजर लगी कि एक दिन पता नहीं गधे को क्या हुआ कि अचानक उसके दिल में दर्द उठा और इससे पहले कि गधा मालिक से कुछ कह पाता गधी के प्राण पखेरू उड़ गए।

गधे के बिन गधी परेशान! दरिंदों से भरे समाज में अकेली क्या करे? उनसे कैसे अपनी आबरू बचाए? कदम कदम पर दरिंदे। अकेली गधी को लगा ज्यों गधे के जाने के बाद उसकी दुनिया ही उजड़ गई हो जैसे। उसने गधे के वियोग में आहत हो गधे के साथ सती होना भी चाहा पर उसके अभिभावक ने उसे ऐसा करने से यह कहते हुए रोक दिया कि अब सती प्रथा गैर कानूनी घोषित हो चुकी है। यह सुन बेचारी गधी सती होने से रूक गई।

गधी इत्ती उदास कि इत्ता तो कोई आदमी के जाने पर भी नहीं होता।

धीरे धीरे वह गधे के गम में इतना डूबी कि पूछो ही मत। न उसका मन खाने में लगता न कुछ पीने में। अकेले काम पर तो वह जाती ही नहीं थी। उसके अभिभावक ने उसे दुनियादारी की कई बातें सुनाई, पर गधी का वियोग कम न हुआ। गधी के अभिभावक को लगा कि कहीं गधी वैराग्य न धारण कर ले। कहीं उसका दुनियादारी से मोह भंग न हो जाए।

और उस दिन तो हद ही हो गई। गधी का अभिभावक जब सुबह सुबह गधी के बाड़े में उसे प्रेम प्यास के गीत सुनाने निकला तो उसने देखा कि गधी माथे पर बड़ा सा तिलक लगाए,  ध्यान की मुद्रा में दुनिया से बेखबर पता नहीं किस मुद्रा में बैठी वियोग के भजन गा रही थी ऐसे जैसे वह भगवान के चरणों में शेष जीवन व्यतीत करने की कसम खा चुकी हो। यह देख गधे के अभिभावक को हैरानी भी हुई और परेशानी भी। उसे लगा, जरूर गधी पिछले जन्म में भगवान में विश्वास रखने वाली पवित्र आत्मा रही होगी! वरना यहां तो बीवी अपने शौहर के मरने के बाद वैराग्य तो छोड़िए, वैरागनें तक दूसरों के पतियों को अगुआ कर घर बसाए जा रही हैं।

गधी के अभिभावक ने आखिर तय किया कि इससे पहले जो जवान गधी होल टाइमर वैराग्य धारण कर ले ,उसे कुछ करना चाहिए।

और उसने गधी के अकेलेपन को खत्म करने की सोची। वह जान गया था कि गधी गधे के वियोग में बिंधी है। इससे पहले कि वह वियोग से परेशान हो आत्महत्या वाला कदम उठाए उसे उसके लिए सारे काम छोड़ इनसानियत के नाते जीवन साथी का प्रबंध करना ही होगा।

एक दिन गधी के अभिभावक ने बातों ही बातों में गधी के मन की बात जाननी चाही,‘ हे गधी! क्यों न मैं तुम्हारा पुनर्विवाह कर दूं?’ यह सुन गधी के मन में कुछ कुछ हुआ तो गधी का अभिभावक भांप गया कि ....

‘ पर मुझसे अब विवाह कौन करेगा?’ गधी ने अपनी भजनों की किताब परे रखते लंबी आह भर पूछा तो उसके अभिभावक ने कहा,‘ दुनिया में गधों की कमी थोड़े ही है। कदम कदम पर गधे मिल जाएंगे।’

‘ पर मेरा तो.....’

‘ तो क्या हो गया। समाज अब बहुत आगे जा चुका है। वह एक तो क्या दस दस विवाह कर ने लगा है। आज के आदमी के पास विवाह करने के सिवाय और दूसरा काम है ही क्या?’

‘ हे मेरे प्राणप्रिय! जैसी आपकी इच्छा! आपकी इच्छा के विपरीत जब सपने तक में मेरा गधा तक नहीं गया तो मेरी क्या औकात!’

....और गधी के अभिभावक ने शहर की दीवारों पर गधी के लिए सुयोग्य गधे के बारे में पोस्टर चिपका दिए। शहर की दीवारों पर लगे उस पोस्टर को जो भी अविवाहित, विवाहित पढ़ता, पोस्टर और अपने पर हंसता और आगे हो लेता।

उस रोज जब गधी का मालिक अपने अकेलेपन को भूल , गधी के अकेलेपन के बारे सोचता सोचता हार चुका था कि तभी अचानक गधी के अभिभावक को फोन आया,‘ सर! नमस्कार! आपने ही अपने गधे को गधी बारे शहर में पोस्टर लगाया था न?’

‘ हां! क्यों? कोई मेरी गधी लायक योग्य सुयोग्य गधा है कहीं?’ गधी से अधिक गधी का अभिभावक प्रसन्न।

‘हां है तो सही पर....’

‘कोई बात नहीं। मैं गधे की हर शर्त मानने को तैयार हूं पर बस...’ गधी से अधिक गधी का अभिभावक विवाह को बेताब।

‘ सो तो ठीक है पर....’दूसरी ओर से आवाज आई।

‘पर क्या??’ गधी का अभिभावक फिर परेशान,‘ मैं अपने गधी की शादी अपने विवाह से अधिक इतनी धूमधाम से करूंगा कि... पर हां! रखूंगा उसे घर दामाद बनाकर ही। गधा जैसा भी हो चलेगा। गधी को एक जीवन साथी चाहिए बस। मैं आपको अपने गधी की ओर से विश्वास दिलवाता हूं कि गधी के बदले मैं गधे की सारी जिम्मेदारी अपने ऊपर लेता हूं।’

ज्यों ही बात फाइनल हुई तो गधी के अभिभावक ने यह बात अपनी गधी को सुनाई जो उस वक्त अपने को परमात्मा में लीन करने की कोशिश कर रही थी। उसने तय कर लिया था कि अब वह अपना शेश जीवन परमात्मा के चरणों में वैराग्य के भजन गा काटेगी।

‘अरी गधी! एक खुशखबरी है,’ गधी के अभिभावक ने गधी से अधिक खुश होते गधी से कहा।

‘क्या खुशखबरी है? तुम फिर विवाह करने जा रहे हो क्या?’

‘नहीं! मैंने तुम्हें दूसरा जीवनसाथी ढूंढ लिया है। पहले वाले गधे से भी लाख दर्जे बेहतर गधेपन वाला! ’ गधी के अभिभावक ने उसे बताया तो गधी ने हाथ में ली माला परे फेंकी और अपने अभिभावक के गले लगते बोली,‘ मतलब?’

‘ हां! यार! बड़े दिनों से मुझसे तेरा अकेलापन नहीं देखा जा रहा था। सच कहूं तो तुम्हारे दुख को देख तुमसे अधिक तो मैं बीवी के होते हुए दुखी था। तो ऐसा है , कल तुम्हारा विवाह करवा तुम्हारी गृहस्थी बसवा देता हूं।’

‘ सच मेरे खुदा! तो मेरे विवाह में मंत्र कौन पढ़ेगा? किस रीति से मेरा पुनःविवाह होगा?’ लंच कहां रखा है?’ गधी ने अपने अभिभावक कम मालिक के आगे नाचते एक साथ कई प्रश्न कर डाले तो अभिभावक कम मालिक ने खुशी से पागल गधी की आंखों के आंसू पोंछते कहा,‘ पगली! अधिक खुश मत हो। देखना, कहीं खुशी के मारे तेरा हार्ट भी फेल न हो जाए कहीं। तेरे विवाह के मंत्र पढ़ने को मैंने पादरी से बात कर ली है। अबके अंग्रेजी स्टाइल में तेरी शादी नहीं,री मैरिज होगी। वह भी ऐसे कि तेरे बिना तेरे वियोग में स्वर्ग बैठा तेरा इंतजार करता गधा जब वह नजारा देखेगा तो अब्दुल्ला हो वहीं नाचने लग जाएगा,’ गधी के अभिभावक कम मालिक ने गधी से कहा तो वह मालिक की हिदायत देने के बाद भी मालिक के आगे ऐसे नाचने लगी ज्यों दूल्हे के दोस्त घोड़ी के आगे नाचते हैं। तब गधी के अभिभावक कम मालिक ने गधी को नाचने से रोकते कहा,‘ बस! अब नाचना बंद कर! कल को थक गई तो गधे को वरमाला कैसे पहनाएगी ?’ 

दोस्तो! गधी की पिछले संडे को नई शादी हो गई। गधी से अधिक उसका मालिक खुश है तो अपने मालिक से अधिक गधी खुश । गधी को गधा मिल गया तो लोकतंत्र को रेता बजरी ढोने को गधा।

उसने अब माला, धोती, फिल्मी गीतों पर बने भजनों का संग्रह अपने मालिक को पकड़ा दिए हैं।

०००००

अशोक गौतम

गौतम निवास, अप्पर सेरी रोड़

नजदीक मेन वाटर टैंक, सोलन-173212 हि.प्र

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3864,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2812,कहानी,2137,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,865,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,659,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,61,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,186,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: साहित्यम् - फेस बुक पर ई-पत्रिका वर्ष-१ अंक -१ प्रवेशांक
साहित्यम् - फेस बुक पर ई-पत्रिका वर्ष-१ अंक -१ प्रवेशांक
https://lh3.googleusercontent.com/-_j3myaCXP7s/XAvClK9F4-I/AAAAAAABF0A/FKOrdQvifuQyN3RbOQxGIqYxDFwKp96HwCHMYCw/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-_j3myaCXP7s/XAvClK9F4-I/AAAAAAABF0A/FKOrdQvifuQyN3RbOQxGIqYxDFwKp96HwCHMYCw/s72-c/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/12/blog-post_54.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/12/blog-post_54.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ