370010869858007
Loading...

प्रमोद पाण्डेय की 5 ग़ज़लें

         ग़ज़लें
    1
कत्लेआम के तो  महज अभी रुझान है ।
होगा कुछ भी नहीं क्योंकि महीना अभी रमज़ान है ।।

सियासतों ने कचरा कर दिया मजहबों का वरना,
सबको पता है,रामायण माँ और मौसी कुरान है ।

माँ की खिदमत से बड़ी कोई इबादत नहीं ,
वरना मुझे भी सुनाई देती ये अज़ान है ।

चेहरा देखकर मेरा क़िरदार पे मत जाओ ,
  ये गिरते आँसू तो मेरे आंखों की मुस्कान है ।

गले लगाकर बड़ी बेरहमी से खंजर घोंप दिया,
ये तो आज के दौर के दोस्तों की पहचान है ।

जीत के आखिरी लम्हों तक उसे उलझा के रखा,
हमारी हार से तो दुश्मन भी परेशान है ।

हम चुप है,तो हमें बुजदिल मत समझो ,
ये खामोशी ही हमारा तर्जुमान है ।

दुश्मन तो रूबरू हुआ नहीं जंगे मैदान में,
लगता है अब तो ये जंग खुद ही के बनाम है ।

उसने कहा था कभी मेरा जिक्र न करना,
उसके बिना तभी तो ये मेरा कोरा दीवान है ।।

  2

उसकी फितरत में अब भी कोई सुधार नहीं ।
गले लगके कहती मुझे तुमसे प्यार नहीं ।।

लोग ठीक से उतरे नहीं हैं मोहब्बत के भँवर में,
वरना इसके जैसी तो कोई मंझधार नहीं ।

मेरा कलाम उसके जीने के अंदाज़ में शामिल था,
अब कहती है कि मेरी कलम में कोई धार नहीं ।

कल शब मैंने अपनी शमशीर की सारी जंग छुटा दी,
अब मुझपे किसी की कोई दुश्मनी उधार नहीं ।

मैं पुख्ता सबूत लेके पहुँचूंगा तो भी हार जाऊंगा ,
उसके दर पे मेरी दलीलों का कोई आधार नहीं ।

कभी सरमाया बनाती है ,कभी तगाफुल करती है,
मेरी महबूबा के प्यार की भी कोई मेयार नहीं ।

जो बिना डरे कागजों पे पूरी हकीकत लिख दे ,
ऐसा तो इस देश में अभी तक कोई अखबार नहीं ।

  3

उससे बिछड़े एक हफ्ता हो गया पता ही ना चला ।
  इश्क कितना सस्ता हो गया पता ही ना चला ।।

एक दिन वो हमें कोहनी मरके क्या निकली ,
  वह दिन इतना अच्छा निकला इसका पता ही ना चला ।

उस पगडंडी पर एक कदम चलना दुश्वार होता था,
  कब वहाँ पे शीशों का रास्ता हो गया पता ही ना चला ।

    जिस फल की मिठास पूरी दुनिया में मशहूर थी,
  वह फल कैसे इतना खट्टा हो गया पता ही ना चला ।

जो कभी एक दूसरे पर जान देने की बात करते थे ,
कब उसकी कराबत में खड्डा हो गया पता ही ना चला ।

जिसने राखी बांधी तुमने उसी को बेआबरु कर दिया,
ये धागा कितना कच्चा हो गया पता ही न चला ।।

4

अमीरे शहर की आजकल आसमां पर निगरानी बहुत है ।
यह सब देख मछलियों की आंखों में है हैरानी बहुत है ।।

मुफलिसी और बेवफाई दोनों ने मिलकर कमर तोड़ दी,
वरना आजमाइशों को अभी हमने जबानी बहुत है ।

उसे गैरों के संग देखकर भी हमने माफ कर दिया ,
तुम्हारे इस आशिक में कुछ बातें खानदानी बहुत हैं ।

महज किस्सा सुनते ही सब बेतहाशा होने लगे,
वरना अभी इस किस्से की कहानी बहुत है ।

पूरी महफिल व्हाट्सएप, फेसबुक में उलझी रही ,
वरना उस शायर की ग़ज़लें रूमानी बहुत है।

अभी तो बस हम जन्नत की रेकी करने जा रहे हैं,
  यहां फिर से लौटेंगे अभी हमने बाकी की जिंदगानी बहुत है।

   5

वो आज होली के दिन मेरा इंतजार करती होगी ।
  इन सतरंगी रंगों में वो मेरा दीदार करती होगी ।।

ना जाने आज उसके गालों पे कितने रंग लगे होंगे ,
पर आज मेरी याद में अपनी आंखें गुलाल करती होगी ।

उसकी यादें मेरी तन्हाईयों से मेरे लिये सरगोशी करके,
मैं आज कहां हूं कैसा हूं कुछ तो सवाल करती होगी ।

कभी मैंने भी उसके हसीन गालों पर लगाया था रंग,
  ये तस्वीर देख रंगीन माहौल में खुद को बेहाल करती होगी ।

सुना है की अब वह किसी शहजादे के संग बहुत खुश है,
पर आज का दिन तो वो मेरे लिए दुश्वार करती होगी ।

होली से न जाने कितनी यादें जुड़ी हैं हम दोनों की ,
आज के दिन सिर्फ मुझसे और मुझसे प्यार करती होगी ।

उसी के लिये मैं मुद्दतों से मुन्तज़िर बनके बैठा हूँ पर,
आज होली के इस पर्व पर वो मेरा भी इंतज़ार करती होगी ।
            
                        प्रमोद पाण्डेय

नाम- प्रमोद पाण्डेय
जन्म तिथि- 28 अगस्त 1993
शिक्षा- स्नातक बी. ई. (ई.सी.)
वर्तमान में माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय विश्वविद्यालय में
एम.एस. सी. (फ़िल्म प्रोडक्शन ) में अध्यनरत

सम्मान- अखिल भारतीय साहित्य परिषद (इकाई-विराटनगर ) के द्वारा
साहित्य सारथी पुरुस्कार से 2018 में सम्मानित

  अनेक पत्र -पत्रिकाओं में कहानी,लघु कथाओं का प्रकाशन ,पेपरों में स्वतंत्र रूप से लेख लेखन,भारतीय सिनेमा में गीत, कथा,पठकथा और संवाद लिखने में प्रयासरत ।

पता
ग्राम - सूरजपुरा ,पोस्ट- कुमराइ
तहसील- गढ़ाकोटा ,जिला - सागर (म.प्र. )
पिन कोड- 470232

ईमेल- pramodpp0835@gmail.com

ग़ज़लें 1264527681959552656

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव