370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

बाल कहानी - अहंकार का फल - सार्थक देवांगन

अहंकार का फल

एक गांव में एक पहलवान था। उसे भ्रम था कि वह अपने गांव में सबसे ज्यादा ताकतवर है। उसका नाम बल्ली था। उसके पास कुछ कमी नहीं थी। उसकी एक बुरी आदत थी , वह कमजोरों को परेशान करता था। एक दिन एक आदमी बाजार से फल लेकर आ रहा था। बल्ली पहलवान को फल खाने का मन किया उसने फल छीन लिया।

उसी गांव में एक दूसरा पहलवान था जिसका नाम रघु था। लेकिन वह कभी किसी को तंग नहीं करता था और किसी को बताता तक नहीं था कि वह पहलवान है। वह कभी घमंड नहीं करता था। लेकिन उसकी एक परेशानी थी कि वह डरपोक था। रघु को लगता था कि वह अगर बता देगा कि वह पहलवान है तो , कहीं बल्ली गुस्से में उसे मार ना दे। बल्ली बहुत गुस्से वाला इंसान था और घमंडी भी बहुत था। बल्ली ने एक दिन रघु को पकड़ लिया और उसके हाथों के सामान को छीनकर रघु को झापड़ मार दिया……….। उस समय तक उसे पता नहीं था कि रघु भी पहलवान है। रघु ने भी उसे बहुत जोर से मार दिया। बल्ली को गुस्सा आया और कहने लगा - मुझे मारने की हिम्मत कैसे हुई ? आज तक कोई भी व्यक्ति मेरी ओर सिर उठाकर बात तक नहीं करता है और तुमने मार दिया। अब तू नहीं बचेगा। उस दिन रघु ने पहली बार सच्चाई बताई कि वह भी एक पहलवान है। बल्ली ने कुश्ती की चुनौती दे दी। रघु ने बल्ली के कहा - इतना अभिमान ठीक नहीं है। बल्ली अपने बल के अभिमान में पागल था। बल्ली ने मुकाबले का एलान कर दिया और पूरे गांव में ढिंढोरा पिटवा दिया।

मुकाबले का दिन आ गया। उन दोनों को बेसब्री से इंतजार था। गांव के लोगों ने पहली बार जाना कि रघु भी पहलवान है। मुकाबला शुरु हो गया। बल्ली के आतंक से त्रस्त गांव का कोई भी आदमी उसकी ओर नहीं था। पूरे गांव का सपोर्ट रघु को था। परंतु हमेशा अभ्यास नहीं कर पाने की वजह से , रघु कुश्ती के बहुत सारे दांव पेंच नहीं जानता था। वह लगातार मार खाता रहा। मगर ताकत में वह बल्ली से कम नहीं था। गांव वालों के असहयोग के कारण बल्ली को गुस्सा आ रहा था। इसी गुस्से में वह बेकाबू हो गया जिसका फायदा उठाकर रघु ने बल्ली को ऐसा घूंसा मारा कि वह उठ नहीं पाया। उसकी छाती पर सवार हो गया। बल्ली ने पूरा जोर लगाया परंतु उसका ध्यान कुश्ती से अधिक , गांव के उन लोगों की की ओर था जो उसके खिलाफ दिख रहे थे। इस चक्कर में वह दांव पेंच भूल गया। वह चाहकर भी उठ नहीं पाया। वहीं निढाल हो गया। रघु जीत गया। बल्ली का अभिमान टूट गया।

सार्थक देवांगन

बाल कलम 5294683085972830755

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव