370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

बाल कहानी - आलस - सार्थक देवांगन

आलस ही सबसे बडा दुश्मन है

छोटू का दोस्त संजू बहुत आलसी है। वह काम या तो करता नहीं या फिर धीरे ‌‌‌- धीरे करता है जिसकी वजह से अक्सर मम्मी , पापा और भैया से डांट खानी पड़ती है। और तो और उसकी इस आदत की वजह से अक्सर स्कूल बस भी छूट जाती है। छोटू चाहता है कि उसका दोस्त आलस छोड़कर स्मार्ट बने। अपने सब काम समय पर करे और स्कूल के लिए समय पर तैयार हो। अपने दोस्त को सुधारने के लिए छोटू ने क्या सोचा और क्या किया जिससे उसका दोस्त सुधर गया।

संजू का आलस उसे हमेशा हरा देता था। वह बहुत ही अच्छा बैडमिंटन का खिलाड़ी था। कुछ दिन बाद , छोटू संजू को एक दिन एक प्रतियोगिता में लेकर गया था जिसका नाम था बैडमिंटन प्रतियोगिता। छोटू चाहता था कि उसमें संजू भी भाग ले और उसने संजू का नाम दर्ज करवा दिया। प्रतियोगिता शुरू हो गई। उसमें बडे से बडे लोग आये थे पर किसी का खेल संजू से बेहतर नहीं था। देखते ही देखते संजू प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंच गया। फाइनल शाम को होना था। परंतु संजू वक्त पर नहीं पहुंच पाया , उसका आलस वहां भी उसे ले डूबा। वह बिना खेले ही हार गया। नाम और इनाम तथा आगे जाने की सीढ़ी सभी से वंचित संजू को पहली बार समझ आया कि आलस बुरी बला है इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है बल्कि केवल नुकसान ही नुकसान है। उस दिन के बाद से संजू ने आलस से तौबा कर लिया और अपने मन और शरीर में फुर्ती जगा लिया।

सार्थक देवांगन

१३ साल रायपूर

बालकथा 5057755252358626700

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव