370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

पानी (लघु कथा) -सुरेश सौरभ

   उसके बेटे अपने बाप का अंतिम संस्कार करके लौटे तो देखा, मां अभी भी फूट-फूट कर रो रही थीं। बेटे मां को संभालते हुए शांत कराने की कोशिश करने लगे तो मां सुबकते हुए बोलीं-इतना सब बनाया। सब कुछ दिया तुमको और हमको ,पर अंतिम समय में मैं उन्हें दो घूंट पानी न दे पाई । बेचारे पानी-पानी कहते हुए मर गए ।"

      बेटे बोले- मां जब डॉक्टर ने ऑपरेशन के बाद पानी देने से मना किया था तब भला हम लोग कैसे उन्हें पानी देते। तब मां बिलखते हुए बोली- मुझे यही बहुत दु:ख है ,पर सबसे ज्यादा दु:ख यह है कि उनकी अर्धांगिनी होते हुए भी उनके अंतिम समय में मैं उनको दो घूंट पानी भी न दे पाई । अब उनके बेटे मां को संभालते हुए शून्य में खोने लगे और उनकी आंखों का पानी भी बढ़ने लगा।

      यह पानी भी कैसे-कैसे लोगों को रुलाता है । कैसे-कैसे जीवन के रंग दिखाता है । यह कोई नहीं जानता । अजब दास्तां है पानी की।


निर्मल नगर लखीमपुर खीरी

पिन-26 27 01

कॉपीराइट-सुरेश सौरभ

लघुकथा 4040996739051473780

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव