370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा - अंत -ज्ञानदेव मुकेश

अंत

गांव के बुजुर्ग दीनदयाल जी का सुबह-सुबह अचानक निधन हो गया। पूरा परिवार शोक में डूब गया। सूचना आग की तरह फैली और गांव के लोग दीनदयाल जी के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ पड़े। दिन भर लोगों का तांता लगा रहा। मगर एक परिवार नहीं आया, तो नहीं आया। वह था, दीनदयालजी के छोटे भाई और उनके परिवारजनों का। वह परिवार दीनदयालजी के कड़े व्यवहार से और कभी-कभी भला-बुरा कह देने से बहुत दुखी और नाराज रहता था।
    रात को अर्थी उठी और छोटे भाई की अनुपस्थिति में ही दाह-संस्कार का कार्य सम्पन्न हुआ।
    अगले दिन दीनदयाल जी का छोटा बेटा चाचा और उनके परिवारजनों के न आने से बड़ा दुखी और विचलित था। उससे लगता, चाचा ही अब उनका सहारा हैं। वे इस तरह मुंह फेरे रहेंगे तो आगे कैसे काम चलेगा।
    उसने चाचा को फोन लगाया और भर्राए स्वर में कहा, ‘‘चाचा, कल जब पापा की चिता जल रही थी तो मैंने देखा, कुछ चिंगारियां उठ रहीं थीं। निस्संदेह वह पापा की वे कमियां थीं जो उनके नश्वर शरीर के साथ भस्म हो रहीं थी। चाचा, मुझे लगता है आग बुझते ही पापा के शरीर के साथ उनकी सारी बुराइयां भी खत्म हो गई हैं। हमने उनकी एक साफ-सुथरी तस्वीर आंगन में एक आसन पर रखी है। अब तो सब भूलकर दो फूल चढ़ाने आ जाओ।’’
   उधर से चाचा की सिसकियां सुनाई दे रही थीं।
 
                                                            -ज्ञानदेव मुकेश                                               
                                    पता-
                                                फ्लैट संख्या-301, साई हॉरमनी अपार्टमेन्ट,
                                                अल्पना मार्केट के पास,
                                                न्यू पाटलिपुत्र कॉलोनी, 
                                                 पटना-800013 (बिहार)

e-mail address - gyandevam@rediffmail.com

लघुकथा 962649391126075494

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव