370010869858007
Loading...

लघुकथा - समय की मार - ज्ञानदेव मुकेश

समय की मार

    जीवन के अकेलेपन से घिरी उदास मां ने एक बार फिर दूरस्थ पुत्र को फोन लगाया। पूछा, ‘‘बेटा, सब ठीक है न ? कभी आओगे नहीं ?’’
     बेटे का पुराना रिकार्ड बजा, ‘‘मां, इतना काम है कि दिन का होश है न रात का। दिन के 24 घंटे भी कम पड़ रहे हैं। अब बताओ, तुम्हारे लिए समय कहां से निकालूं ?’’
     मां ने थोड़ी कटुता से कहा, ‘‘हां बेटा, नए जमाने के हो। तुम्हारे लिए दिन के 40 घंटे भी कम ही पड़ेंगे। इतने समय में भी तुम अपनी मां और अपने सगों के लिए शायद ही समय निकाल पाओ।’’
     पता नहीं बेटा ने मां की इतनी बातें भी सुनीं या नहीं। उसने बीच में ही कहा, ‘‘मां, माफ करना। अभी मैं जरूरी काम में फंसा हूं। तुम मुझे बाद में फोन करना।’’
    और फोन कट गया। मां का हृदय कराह उठा, ‘अब क्या दो शब्द बात के लिए भी तरसना होगा ?’
 
  
                                                    -ज्ञानदेव मुकेश                                               
                                     पता-
                                                 फ्लैट संख्या-301, साई हॉरमनी अपार्टमेन्ट,
                                                 अल्पना मार्केट के पास,
                                                 न्यू पाटलिपुत्र कॉलोनी, 
                                                  पटना-800013 (बिहार)

लघुकथा 2437945299050533947

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव