370010869858007
Loading...

लघुकथा: अरे वाह - डॉ. नन्द लाल भारती

शुभ प्रभात पति पररमेश्वर ।

हमारे तो नसीब खुल गए । शुभप्रभात देवी जी ।भाग्यवान आपके कोकिला स्वर में डर कैसा ?

चाय लीजिए ।

बताएंगी नहीं ।

क्या बताऊँ  ?

वही जो मौन है पर दस्तक दे रहा है।

पतिदेव के साथ डर कैसा ?

भाग्यवान जो डरा रहा है ।

चाय लीजिए ।

बिना शक्कर की चाय में मोती भी ।

कौन सा मोती ?

कमलनयन से जो झरे हैं ।

मत पीजिए दूसरी लाती हूँ ।

नहीं नहीं रहने दो । ये दर्द के मोती हजम कर लूंगा ।

क्या कर रहे हो जी ?

गलत तो नहीं  । हां हंसकर जीना पड़ेगा ।

कैसे ?

चलो  नई शुरुआत करते हैं ।सब भुला देते हैं ।

क्या - क्या ?

सब कुछ....... बेटा-बहू का दिया सुलगता दर्द । बहू के मां-बाप की ठगी भी ।

कैसे भुला देंगे आपकी हाड़फोड़ मेहनत, खुली आंखों के सपने और सब ठगी ।जीवन की ऊंची -नीची राहों के दर्द भी ।

देवीजी जरुरी है अब । और भी तो हैं  खून-पसीने से सींचे अपने लोग,खून के रिश्ते और दोस्त भी हंसकर जीने के लिए ।

अरे वाह कसम से क्या बात है....... हा हा ।


डां नन्द लाल भारती

लघुकथा 7158548322630152315

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव