370010869858007
Loading...
item-thumbnail

कवियों को संबोधित करती एक कविता: गोष्ठियाए हुए कवि

-हितेश व्यास हे महाकवियों ! महाकाव्यों की रचना के बाद ऐसा क्या अपच रह गया था जिसके लिए तुम्हें गोष्ठियों में पुनःपुः जन्म लेना पड़ता है ...

item-thumbnail

एक नई साहित्यिक पत्रिका – परिकथा

हिन्दी साहित्य की यूँ तो सैकड़ों पत्रिकाएँ निकलती हैं मगर उनमें हंस जैसा इम्पेक्ट पता नहीं क्यों किसी में भी दिखाई नहीं देता. और यही वजह ...

item-thumbnail

हास्य व्यंग्य: शरद जोशी के कमलमुख के कुछ पठनीय पत्र

(शरद जोशी के कमलमुख की आलोचना-आलेख को पाठकों ने खूब सराहा और अनुरोध किया कि कुछ ऐसी ही रचनाएँ प्रकाशित करें. प्रस्तुत कुछ पत्र उसी व्यं...

item-thumbnail

संजीव ठाकुर की कहानी: नारायण! नारायण!!

मैं चक्रधरपुर जा रहा था. बेटिकट! साथ में चाचा जी थे. टिकट लेना शायद चाचा जी को अपमानजनक लगा था. मेरे यह कहने पर कि 'टिकट ले लें'...

item-thumbnail

व्यंग्य: शरद जोशी के कमलमुख से ‘आलोचना’

**-** “लेखक विद्वान हो न हो, आलोचक सदैव विद्वान होता है. विद्वान प्रायः भौंडी बेतुकी बात कह बैठता है. ऐसी बातों से साहित्य में स्थापनाएँ ह...

item-thumbnail

ज्ञानप्रकाश विवेक की कहानी : जाल

आकाश सक्सेना सुबह जब दफ़्तर पहुँचा, तब कम ही लोग आए थे. जो आए थे वे ई.टी. पढ़ रहे थे या फिर आपस में फैशन, फूड या फ़िल्म में से किसी एक विष...

item-thumbnail

लक्ष्मीनारायण गुप्त की इच्छा कविता

इच्छा इच्छा है मन में कि अपनी एक कुटिया हो कुटिया में एक खटिया हो पास में एक खुँटिया हो खुँटिये पे लटकी एक तुलसी की माला हो मन भक्ति से म...

item-thumbnail

अनवर सलीम की चंद ग़ज़लें

**-** ग़ज़ल 1 हाथ जलने लगे पाँव फिर शल हुए यूँ निगाहों में कितने ही मक़्तल हुए । आसमां में जो तहलील बादल हुए जानते बूझते लोग पागल हुए । ...

item-thumbnail

सुदामा प्रसाद पाण्डेय 'धूमिल' की लंबी कविता

पूरे तीस पृष्ठों की इस पूरी कविता का टंकण अनूप शुक्ल ने किया है तथा उनके चिट्ठा स्थल फ़ुरसतिया पर यह पूर्व प्रकाशित है. इसे साभार यहाँ पुनर...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव