370010869858007
Loading...
item-thumbnail

निशा भोसले की लघुकथाएं

  दो लघुकथाएँ -निशा भोसले (1) यकीन            आपका काम अभी तो नहीं हुआ है, दो तीन दिनों में अवश्य हो जायेगा.  उस आदमी को समझ...

item-thumbnail

अनुज खरे का व्यंग्य : टंगड़ीमार प्रबंधन

     प्रो. टीएम उर्फ 'टंगड़ीमार प्रबंधन '   --अनुज खरे सारी दुनिया में इस समय महान कैसे बनें, महानतम सफलता कैसे पाएं टाइप की...

item-thumbnail

के. पी. त्यागी की हास्य कविता : इडियट

इडियट -डॉ. के. पी. त्यागी   सुप्रीम कोर्ट में, मर्डर केस पर बहस चल रही थी वादी, प्रतिवादी में,बात बात पर झड़प चल रही थी प्रतिवा...

item-thumbnail

बृजमोहन श्रीवास्तव का व्यंग्य : व्यंग्य हमारी समझ न आवे

आज से लगभग पचास साल पूर्व जब मैंने कोर्स की पुस्तकों के अतिरिक्त कुछ पढ़ना शुरू किया था तब मेरी समझ में यह नहीं आता था की व्यंग्य क्या है और ...

item-thumbnail

सतपाल खयाल की दो ग़ज़लें

ग़ज़ल १ दरिया से तालाब हुआ हूँ अब मैं बहना भूल गया हूँ. तूफ़ाँ से कुछ दूर खड़ा हूँ साहिल पर कुछ देर बचा हूँ नज़्में ग़ज़लें सपन...

item-thumbnail

नन्दलाल भारती की लघुकथाएं

  लघुकथाएँ -नन्दलाल भारती ।। कुत्ता।। लघु कथा आचार्य-लाल साहेब आपने खबर सुनी क्या। लाल साहेब-कौन सी खबर आचार्य जी। आचार्य-नेहरू ...

item-thumbnail

शरद तैलंग का व्यंग्य : राष्ट्रीय स्तर का पशु

राष्ट्रीय स्तर का पशु   ० शरद तैलंग   जिस प्रकार उत्तर भारत के निवासी दक्षिण भारत के निवासियों को चाहे वो तमिलनाडु के हो या केर...

item-thumbnail

अनुज खरे का व्यंग्य : शीशी भरी गुलाब की...

‘ गाडी के कार्बोरेटर , तुझे हुआ क्या है , आखिर इस धकाधक धुएं की वजह क्या है। ’ व्यंग्य शीशी भरी गुलाब की... - अनुज खरे   मैं...

item-thumbnail

आकांक्षा यादव का आलेख : खबरदार! जो अब महिलाओं व बच्चों का दिल दुखाया

  उत्तर प्रदेश में एक सरकारी अधिकारी ने शराब के नशे में धुत अपनी बेटी की सहेली से बद्सलूकी करने का प्रयास किया और बेटी द्वारा इसका विरोध क...

item-thumbnail

शरद तैलंग की दो ग़ज़लें

दो ग़ज़लें शरद तैलंग (1) अपनी बातों में असर पैदा कर तू समन्दर सा जिगर पैदा कर| बात इक तरफ़ा न बनती है कभी जो इधर है वो उधर पै...

item-thumbnail

सत्येन्द्र शलभ की कविताएँ

क्या बताऊँ, बताने को क्या रह गया । जितना पानी था आँखों में सब बह गया ॥ ००००० फ़िर भरोसा न करना कभी आस पर, दिल न दे बैठना ऐसे व...

item-thumbnail

राजेश कुमार पाटिल की कहानी : स्मृति

कहानी   स्मृति -राजेश कुमार पाटिल लीला, कुछ खास नहीं बदला है पिछले बीस वर्षों में हमारी तहसील के इकलौते सरकारी कॉलेज में, वही बिल...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव