370010869858007
Loading...
item-thumbnail

अनुज नरवाल रोहतकी की नववर्ष कविता सौगात

नए साल पर दे रहा है ‘ अनुज ' कविता की सौगात   खुशियां झूमे आंगन तेरे, गा उठे हर जज़्बात हर वक्‍त मिले, तुझे ही मिले, फूलों का ब...

item-thumbnail

साबिर अली घायल की ग़ज़ल

जो भी होता है वो पहले से लिखा होता है हर एक राज़ लकीरों में छुपा होता है लिखने वाला ही लिख पाता है नसीब अपना हर किसी में कहाँ य...

item-thumbnail

अखिलेश शुक्ल की रचनाएँ

दो कविताएँ प्रश्‍न चिन्‍ह कचरे के ढेर से पन्‍नी बीनती हुई लड़कियाँ, कंधे पर अपनी ऊँचाई सदृश्‍य, लटकाए हुए थैला। मैले-कुचै...

item-thumbnail

मोहन सिंह रावत की रपट – पंत-शैलेश के बहाने साहित्यिक विमर्श

रपट- पंत-शैलेश के बहाने साहित्‍यिक विमर्श अपनी समग्रता में उत्त्‍ाराखण्‍ड को पहली बार महाकवि सुमित्रानंदन पंत और कथाशिल्‍पी शैलेश मटिय...

item-thumbnail

गणेश लाल मीणा का रिपोर्ताज : आदिवासी विद्रोह और साहित्य विषयक संगोष्ठी

आदिवासी विद्रोह और साहित्‍य ' विषयक संगोष्‍ठी उदयपुर। श्रम, समूह और सहकारिता पर आधारित आदिवासी जीवन का विघटन व्‍यक्‍तिगत संपत्‍ति क...

item-thumbnail

योगेन्द्र सिंह राठौर की कहानी : प्रतिबिम्ब

वक्‍त किसी और के लिए ठहरा हो या न ठहरा हो, उसके लिए लगभग ठहर सा गया है। अब क्‍या बदल सकता है उसकी जिन्‍दगी में, जब तक कि वह अपने विचारों ...

item-thumbnail

नरेन्द्र निर्मल की कुछ कविताएँ

कविताएँ नरेन्द्र निर्मल गीत दोस्‍तों के लिए 1. हर दिन एक दिन बनेंगे दोस्‍त, नए वो लोग कुछ होंगे पल के लिए कुछ याद आए...

item-thumbnail

नव वर्ष की कविताएँ

  बाल कविता नव वर्ष   कृष्‍ण कुमार यादव नव वर्ष की बेला आई खुशियों की सौगातें लाई नया कर गुजरने का मौका सद्‌भावों क...

item-thumbnail

नन्दलाल भारती की तीन कविताएँ

  नन्‍दलाल भारती 1-श्रमवीर ॥ अपनी ही जहां में घाव डंस रही पुरानी शोषित संग दुत्‍कार भरपूर हुई मनमानी लपटों की नही रूकी है शै...

item-thumbnail

उमेश गुप्ता का व्यंग्य : बिचौलिये

बिचौलिये जिन्‍हें हिन्‍दी में मध्‍यस्‍थ , उर्दू में दलाल, अंगे्रजी में आरबिटे्रटर कहते हैं, बहुत काम के आदमी रहते हैं जो काम इस दुनिया मे...

item-thumbnail

पुरु मालव की ग़ज़ल - मुश्‍किलें आती रही हादिसे बढते गए

मुश्‍किलें आती रही हादिसे बढते गए मंजि़लों की राह में क़ाफि़ले बढ़ते गए   दरमियां थी दूरियां दिल मगर नज़दीक़ थे पास ज्‍यूं-ज...

item-thumbnail

नरेन्द्र निर्मल की कविता : कलम की धार में जंग

मुझे उन रास्तों पर चलना नहीं आता, जिस पर सच की चादर न चढ़ी हों। सिर्फ झूठ का ओला पसरा हो। मुझे झूठ बोलना भी नहीं आता, जब बोलता हूँ...

item-thumbnail

नरेन्द्र निर्मल का आलेख : मीडिया बनाम मीडिया पर टीआरपी का हमला

मीडिया एक ऐसा माध्यम है जिसके भूत, वर्तमान और भविष्य की चर्चा करे तो इसे दुनिया का सबसे सफल, साहसिक और कर्तव्यपरक क्षेत्र कहा जा सकता है। क्...

item-thumbnail

नरेन्द्र निर्मल का आलेख : उग्रवाद हथियार से नहीं, बदलाव से खत्म किया जा सकता है

  आतंकवाद दुनिया की सबसे बड़ी समस्या है, जिससे अबतक कोई भी देश अछूता नहीं रहा है। फिर चाहे शक्तिशाली अमेरिका में वल्र्ड ट्रेड सेंटर का गिरा...

item-thumbnail

नरेन्द्र निर्मल की कहानी : तारे जमीन पर का बेचारा पप्पू

  कहानी तारे जमीन पर का बेचारा पप्पू   - नरेन्द्र निर्मल   बचपन से ही शर्मीला किस्म का इंसान। लड़कियां तो दूर लड़कियों के शब्द से ...

item-thumbnail

देवी नागरानी की कहानी : क्षितिज के उस पार

क्षितिज के उस पार हाँ वो शिला ही थी!! कैसे भूल कर सकती थी मैं पहचान ने में उसे, जिसे बरसों देखा, साथ गुजारा, पल पल उसके बारे में ...

item-thumbnail

अखिलेश शुक्ल की 3 लघुकथाएँ

जरूरत ”चलो पीछे करों भाई इन सबको, दरवाजे पर भीड़ क्‍यों इकट्ठा कर रखी है।“ मरीजों को देखते हुए डॉ. प्रशांत ने अपने कम्‍पाउंडर से कहा। उ...

item-thumbnail

नरेन्द्र निर्मल की कविताएं – साहित्यकारों में राजनीति एक गंभीर समस्या व अन्य

    साहित्यकारों में राजनीति एक गंभीर समस्या     राजनीतिज्ञों की राजनीति देखी धर्म, सम्प्रदाय में राजनीति दिखी जाति, भाषा से बंटे...

item-thumbnail

महेन्द्र भटनागर का कविता पाठ

महेन्द्र भटनागर की कविताएँ व कविता संग्रह रचनाकार पर पूर्व प्रकाशित हो चुके हैं. प्रस्तुत है उनका सस्वर कविता पाठ. नीचे दिए गए डाउनलोड लि...

item-thumbnail

नन्‍दलाल भारती की कविता

एक बरस और ․․․․․․․ कविता नन्‍दलाल भारती मां की गोद पिता के कंधों गांव की माटी और टेढ़ीमेढ़ी पगडण्‍डी से होकर उतर पड़ा कर्मभूमि ...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव