370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...
item-thumbnail

कौशल पंवार की कविताएँ

1 घुटन   घुटती हूं मैं जब-जब याद आते हैं वो लम्हे !   चलती राह पर साइकिल लिये जा रही थी अचानक लगा कोई पीछा कर रहा है उस...

item-thumbnail

रत्नकुमार सांभरिया का आलेख : प्रेमचंद, ‘मंदिर’ और दलित

सन् 1928 से लेकर 1935 के दस वर्ष के अछूतोद्धार आंदोलन का आकलन करें तो पुष्टि होगी कि यह आंदोलन दलितों के मंदिर प्रवेश तक केन्द्रित रहा। हिन्...

item-thumbnail

राकेश भ्रमर की कविता : वीर हो तुम!

  तुम हवाओं से लड़े हो वीर हो तुम! थक गए होगे जरा विश्राम कर लो वृक्ष की छाया तुम्‍हें शीतल लगेगी इस नदी का जल तुम्‍हें मी...

item-thumbnail

अशोक गौतम का व्यंग्य – मेरा बॉस, मेरा बाप

ईमानदारों का साथ भगवान देता है । सच्‍चों का साथ भगवान देता है , इसी बूते पर पिछले महीने साहब से पंगा ले लिया । तय माना था कि भगवान निर्बल का...

item-thumbnail

रचना दीक्षित के कुछ मुक्तक

एक बेबस सी औरत जो खड़ी है ऐसे मंज़र पर एक हाथ में कलम दूसरे में दस्तरखान है एक तरफ लज़ीज़ पकवान हैं दूसरी तरफ दुःख की दास्तान है ...

item-thumbnail

राकेश भ्रमर की कहानी : उस गांव का चांद

उसका नाम ड्रीमलेट था. पहाड़ी गांव की एक निश्‍छल, चंचल लड़की... पहाड़ी झरनों सी जंगल में भटकती थी. अपने गांव के अलावा उसे बाकी दुनिया के ...

item-thumbnail

शोभना चौरे की कहानी : आनन्द

आज आठ साल बाद, सरिता की सास उसके पास आई थी। सरिता यश की नई नई शादी हुई थी जब वे लोग ऊपर के फ्लैट में रहने आए थे। दोनों का लव मैरिज़ था सा...

item-thumbnail

लक्ष्मण व्यास का आलेख : नए दौर में अतीत का संघर्ष

सामंती मूल्‍य दृष्‍टि और पुरुष प्रधान पितृसत्तात्‍मक समाज के पुरजोर प्रयासों के बावजूद मीरा लोक स्‍मृति में बची रही इसका क्‍या कारण है ? ...

item-thumbnail

गजेन्द्र कुमार मीणा का आलेख : राजकमल चौधरी की कविताओं में राजनीतिक चेतना

13 दिसम्‍बर 1929 को रामपुर हवेली, जिला सहरसा (बिहार) में राजकमल चौधरी का जन्‍म हुआ। उनका वास्‍तविक नाम मणीन्‍द्र चौधरी था, राजकमल उ...

item-thumbnail

संजय भारद्वाज का आलेख : दोपाया लोक – चौपाया तंत्र

(संजय भारद्वाज का यर आलेख पंद्रह अगस्त को स्वाधीनता दिवस विशेष रूप में प्रकाशनार्थ प्रेषित किया गया था, मगर स्पैम हो जाने के कारण यह इनबॉक्स...

मुख्यपृष्ठ archive

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव