370010869858007
Loading...
item-thumbnail

अतुल कुमार मिश्र “राधास्वामी” की कविता : कचोट

कचोट कचोट एक मन उठी, कसक एक मन उठी | क्यों लुट गया वो देश पर, क्यों लुट गया था वो देश पर, अनाम शहीद, बेफिकर, बेजिकर |   जबकि एक ये, क्यों ...

item-thumbnail

मंजरी शुक्ल की कविता - जब तू याद आया

जब तू याद आया कही सावन आया मिली नज़रे तुझसे तो गुलाल उड़ आया I   सतरंगी इन्द्रधनुष छाया मन को यूँ भरमाया रूई से बादलों में जब तू नज़र आया I   ...

item-thumbnail

शशांक मिश्र ''भारती'' की बालकथा - नानी की कहानी

        बच्चों, परम पुण्य दायिनी गंगा के नाम से तुम अपरिचित न होगे। नाचती- गाती, उछलती-कूदती गंगा के मंदाकिनी , सुरसरि , विश्णुपदी , देवापग...

item-thumbnail

एस के पाण्डेय का व्यंग्य - योग्यता की अवहेलना

माथुर जी का कहना है कि देश में योग्यता की अवहेलना हो रही है। योग्य लोग भरे पड़े हैं। उन्हें कोई पूछने वाला नहीं है। वहीं दूसरी ओर लोग अयोग्यो...

item-thumbnail

सत्यवान वर्मा सौरभ के दोहे

दोहे - 1- तू भी पाएगा कभी फूलों की सौगात। धुन अपनी मत छोड़ना सुधरेंगे हालात।   2- बने विजेता वो सदा ऐसा मुझे यकीन। आँखों आकाश हो पांवों तले...

item-thumbnail

विजय वर्मा की रचनाएँ

कहानी लौट आओ दीदी बात उन दिनों की है जब आम आदमी तक टीवी-कंप्यूटर की पहुँच तो नहीं ही हुई थी,रेडियो-ट्रांजिस्टर भी अपनी पहुँच सर्व-सुलभ नह...

item-thumbnail

मालिनी गौतम की कविता - स्वर्ण मृग

स्वर्ण मृग बहुत हुआ ! बस ! अब और नहीं ! नहीं बनना है उसे नींव का पत्थर उसे तो बनना है शिखर पर विराजमान स्वर्णिम कलश ! सदियों से देवी बनक...

item-thumbnail

महेन्‍द्र भीष्‍म का आलेख : गीतकार इंदीवर

गीतकार इंदीवर सिनेजगत के उन नामचीन गीतकारों में से एक थे जिनके लिखे सदाबहार गीत आज भी उसी शिद्‌दत व एहसास के साथ सुने व गाए जाते हैं, जैसे ...

item-thumbnail

आर.वी.सिंह का व्यंग्य - शहर में भैंस

व्यंग्य शहर में भैंस डॉ.आर.वी.सिंह भैंस और शहर का रिश्ता बहुत पुराना है। इधर पश्चिमी तर्ज़ के पब्लिक स्कूलों में पढ़े-लिखे नौकरशाहों को यह ...

item-thumbnail

गंगा प्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' की कविताएँ व ग़ज़लें

महाप्राण निराला की जयन्ती पर  विशेष जहाँ किसी को पीड़ित देखा हाथो-हाथ लिया दीन,दुखी,बुढ़िया, भिखमंगा सबका साथ किया   'प्रभापूर्य, शीतल...

item-thumbnail

त्रिवेणी तुरकर की कविता : गुरूदेव को नमन

गुरुदेव को नमन हे श्रद्धेय गुरुदेव ए स्‍वीकारो हम सब का शत शत नमन। हे भारत गौरव देशाभिमानी रचा आपने भारत का राष्ट्रगान। हर भारतवासी को ह...

item-thumbnail

प्रमोद भार्गव का आलेख : अंग्रेजी वर्चस्‍व के चलते संकट में आईं भाषाएं

  यह एक दुखद समाचार है कि अंग्रेजी वर्चस्‍व के चलते भारत समेत दुनिया की अनेक मातृभाषाएं अस्‍तित्‍व के संकट से जूझ रही हैं। भारत की स्‍थिति ...

item-thumbnail

यशवन्त कोठारी का व्यंग्य : बाजारवाद का घोड़ा

हे विकासशील देश के पिछड़े नागरिकों ! सामान खरीदो और खाओ। खाओ पिओ और ऐश करो बाजारवाद का घोड़ा अश्‍वमेघ यज्ञ की तरह दौड़ रहा है। घोड़े की सवा...

item-thumbnail

यशवन्त कोठारी का व्यंग्य : रेल-चिन्तन

रेल बजट आने वाला है अतः आज मैं भारतीय रेलों पर चिन्‍तन करुंगा। जैसा कि आप जानते हैं, चिन्‍तन हमारी राष्ट्रीय बीमारी है। जो कुछ नहीं कर सकता...

item-thumbnail

नन्दलाल भारती की कविताएँ व लघुकथाएँ

॥ नर के भेष में नारायण ॥ बात पर यकीन नही होता आज आदमी की नींव डगमगाने लगती है घात को देखकर आदमी के । बातों में भले मिश्री घुली लगे त...

item-thumbnail

संजय दानी की ग़ज़ल - समन्दर से मुझको मुहब्बत है दानी, किनारों का तुम रास्ता पूछ लेना।

सितारों से मेरी ख़ता पूछ लेना, अंधेरों  से मेरा पता पूछ लेना। तेरे हुस्न को देखकर, मेरे हमदम, ख़ुदाओं का सर क्यूं  झुका पूछ लेना। मैं तेरे ...

item-thumbnail

दामोदर लाल जांगिड़ की ग़ज़लें

ग़ज़ल 1   खरपतवारें पाली बाबा। अज़ब अनाड़ी माली बाबा॥   टिड्डे बैठे पात पात पर , उल्‍लू डाली डाली बाबा।   कुटिल बिल्‍लियां यहां दूध क...

item-thumbnail

प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बाल गीत - यादों की नौका में बचपन

हा हा ही ही से स्वागत यादों की नौका में बचपन जब भी कभी सवार हुआ , भूली बिसरी सब यादों ने आँखों में आकार लिया |   नदी नहाने जाते थे सब मि...

item-thumbnail

प्रमोद भार्गव की पुस्तक समीक्षा : रामचरितमानस में पत्रकारिता

समीक्षा रामचरितमानस में पत्रकारिता प्रमोद भार्गव समाजवादी चिंतक डॉ. राममनोहर लोहिया ने कहा है, तुलसी के रामचरितमानस में जितने गोते लगाओ उतन...

item-thumbnail

हरि भटनागर का कहानी संग्रह : सेवड़ी रोटियाँ और जले आलू

वरिष्ठ और चर्चित कथाकार हरि भटनागर का कहानी संग्रह - सेवड़ी रोटियाँ और जले आलू यहीं पर पढ़िए ई-बुक रूप में या पीडीएफ़ ई-बुक के रूप में डाउन...

item-thumbnail

प्रमोद भार्गव का आलेख : विश्‍वग्राम में बढ़ता नस्‍लभेद

पूरी दुनिया में मानवाधिकारों की वकालत करने वाले व उसकी शर्तें विकासशील देशों पर थोपने की तानाशाही बरतने वाले अमेरिका की सरजमीं पर नस्‍लवाद...

item-thumbnail

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य : मैंने भी खरीदा वाहन

§ आम शहरी नागरिक की तरह मेरे पास भी एक अदद द्विचक्रवाहिनी नामक वाहन था, जिसे मैं अपने विद्यार्थी काल से ही काम में ले रहा था। इस ऐतिहासिक...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव