370010869858007
Loading...
item-thumbnail

शशांक मिश्र भारती की बाल कविता - कर्म का फल

कर्म का पथ सूरज पूरब में उगकर पश्‍चिम में होता अस्‍त है,   सुख-दुख का अटल नियम, इससे ही होता सत्‍य है,   सूर्योदय ही भाग्‍योदय है भाग्‍योदय...

item-thumbnail

अमिता कौंडल की कविता - दादा का बागीचा

डॉ. अमिता कौंडल तुम्हारे दादा ने लगाया था कभी हरा भरा बागीचा पिता ने दे पानी और खाद की थी इसकी परवरिश इसकी डालियों पर झूल कर तुम सब बड़े ...

item-thumbnail

कृष्ण गोपाल सिन्हा का व्यंग्य - रामलीला मैदान के बहाने

जनार्दन जी एक दिन अपने बाललीला के दिनों को याद करते-करते रामलीला को याद करने लगे. कहने लगे, जब रामलीला के दिन आते तो बड़े उत्साह के साथ छोट...

item-thumbnail

सृजन के तत्वावधान में पुस्तक विमोचन और साहि‍त्‍य चर्चा आयोजित

विशाखापटनम की   हि‍न्‍दी साहि‍त्‍य, संस्‍कृति‍ एवं रंगमंच को समर्पि‍त संस्‍था “सृजन” ने दि‍नांक 27 नवंबर 2011 को द्वारकानगर स्‍थि‍त ग्रंथाल...

item-thumbnail

अनन्‍त आलोक की लघुकथा पत्‍नी की जरुरत

बाबू राम लाल जी की रिटायरमेंट में अभी एक वर्ष था कि अचानक उनकी पत्‍नी की ह्रदयघात मृत्‍यु हो गई। बाबू को अभी इकलोते पुत्र का विवाह करना था ...

item-thumbnail

धर्मेन्द्र कुमार सिंह की कविता - फल और डालियाँ

फल और डालियाँ जब से फलों से लदी हुई डालियों ने झुकने से मना कर दिया फलों ने झुकी हुई डालियों पर लगना शुरू कर दिया अब कहावत बदल चुकी...

item-thumbnail

शशांक मिश्र भारती की रचना - बाल साहित्‍य एवं सामाजिक सरोकार

बालक के व्‍यक्‍तित्‍व निर्माण में समाज की महत्‍वपूर्ण भूमिका है। बालक की अभिरुचियों, कौशलों, आवश्‍यकताओं को प्रभावित करने वाले बाल साहित...

item-thumbnail

कृष्ण गोपाल सिन्हा का व्यंग्य - इंडियन राइटर्स लीग बतर्ज़ आईपीएल

जनार्दन जी की स्वीकृति और आशीर्वचन मिलने के बाद से मैं अपनी गिनती स्वयंभू लेखकों में करने लगा हूँ . लेखकीय वाइरस से संक्रमित होने के कारन व...

item-thumbnail

मीनाक्षी भालेराव के गीत व कविताएँ

गीत शृंगार बलम तुम कहाँ थे सारी रात मैन सोलह किया श्रृंगार बलम तुम कहाँ थे सारी रात   कजरारे नैनों में काजल लगाया घुंघराले बालों पे गजर...

item-thumbnail

पुनीत बिसारिया का आलेख - इक्‍कीसवीं सदी में प्रेमचंद की ज़रूरत

प्रेमचंद की पचहत्‍तरवीं पुण्‍यतिथि (8 अक्तूबर 1936) पर विशेष आलेख इक्‍कीसवीं सदी में प्रेमचंद की ज़रूरत प्रेमचंद को पढ़ना उन चुनौतियों ...

item-thumbnail

अमर शहीद लाला लाजपतराय की याद में त्रिभाषी कवि सम्‍मेलन

चण्‍डीगढ़ ः भारतीय साहित्‍य परिषद (रजि 0), मोहाली द्वारा तथा साहित्‍यिक संस्‍था ‘ मंथन ', चण्‍डीगढ़ के सहयोग से ‘ सर्वेंट पीपल्‍स सोसा...

item-thumbnail

अनुराग तिवारी की सात बाल कविताएँ

  इन्‍द्र धनुष ( बच्‍चों की 7 कविताएँ) प्रार्थना जो है एक और नाम हज़ार, जिसकी महिमा अपरम्‍पार, जिसको कहते हैं ईश्‍वर, जिसको...

item-thumbnail

गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' के दो व्यंग्य

किस्सा दुग्ध चोर उर्फ कल्कि अवतार का सुबह-सुबह ‘गिरगिट’ मेरे पास दौड़ा-दौड़ा आया और बोला, अमायार! अब तो हद ही हो गई। लोग दूध चुराने लगे। अग...

item-thumbnail

रामदीन की हास्य-व्यंग्य कविता - कमीना कुत्ता

‘‘ अर्ध-सत्‍य '' ‘ कहा कमीना कुत्‍ता ' पिछले दिवस निकट दिल्‍ली के मजमा थे अलबेला। अलबेली मोटर कारों का हुआ था रेलमपेला। हाहाक...

item-thumbnail

रघुनंदन प्रसाद दीक्षित प्रखर की रिपोर्ट, समीक्षा व कविताएँ

साहित्‍यिक रिपोर्ट सरिता लोक सेवा संस्‍थान का दशम्‌ सारस्‍वत सम्‍मान समारोह एवं राष्‍ट्रीय कवि सम्‍मेलन सम्‍पन्‍न । अवध क्षेत्रांर्तगत जन...

item-thumbnail

कैस जौनपुरी का धारावाहिक - 10 वीं कड़ी - आओ कहें... दिल की बात : मेरी बेटी

  पिछली कड़ियाँ  - एक , दो , तीन ,  चार , पांच , छः , सात , आठ , नौ आओ कहें...दिल की बात कैस जौनपुरी मेरी बेटी मेरी बेटी, मैं तुझसे...

item-thumbnail

पंकज शुक्ल की तीन ग़ज़लें - मैं बच्चा बन के फिर से रोना चाहता हूँ...

1. मैं बच्चा बनके फिर से रोना चाहता हूं... के अपनी बदगुमानियों से उकता गया हूं, मैं बच्चा बनके फिर से रोना चाहता हूं। न हमराह न हमराज़ इन ...

item-thumbnail

रविकान्त का आलेख - हिन्दी फ़िल्म अध्ययन: माधुरी का राष्ट्रीय राजमार्ग

  रविकान्त, एसोसिएट फ़ेलो, सीएसडीएस बहुतेरे लोगों को याद होगा कि टाइम्स ऑफ़ इंडिया समूह की फ़िल्म पत्रिका माधुरी हिन्दी में निकलने वाली अ...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव