370010869858007
Loading...
item-thumbnail

मनोहर चमोली ‘मनु' की विज्ञान कथा - मास्करोबोट

00 विज्ञान गल्‍प मास्‍करोबोट - मनोहर चमोली ‘ मनु ' वि ज्ञान प्रसार से संबंधित खबरों की कतरनों में उलझे शिक्षक जलीस अहमद का मोबाइल लगाता...

item-thumbnail

श्याम गुप्त का आलेख - आधुनिक लिंग पुराण

आधुनिक- लिंग पुराण... ( डा श्याम गुप्त...) विश्व की सबसे श्रेष्ठ व उन्नत भारतीय शास्त्र-परम्परा में --- पुराण साहित्य में मूलतः अवतारवाद ...

item-thumbnail

विष्णु प्रभाकर के पत्र सीताराम गुप्ता के नाम

रचनाकार पर पोस्ट करने हेतु भेजने के लिए प्राप्त पुराने पत्रों को उलटते-पलटते हुए न केवल असंख्य पुरानी यादें ताज़ा हो गईं अपितु समय के साथ कित...

item-thumbnail

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बुंदेली लोक कथा - परिश्रम कौ फल

परिश्रम कौ फल                               बचपना बाकी बचो है अब भी  अपने पास में                              कोई शायद फिर थमा दे झुनझुना,...

item-thumbnail

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य - कथा - समाचार - कथा की

कथा-समाचार -कथा की वे तीन थे। अलग अलग जगहों पर काम करते थे। एक एक अखबार में था। दूसरा एक स्‍थानीय चेनल में था और तीसरा कला-साहित्‍य-संस्‍कृ...

item-thumbnail

मंजरी शुक्ल की कहानी - रिहाई

डॉ. मंजरी शुक्ल उ.प्र. बहुत बचपना था उसमें मानो ओस की बूंद शरमाकर मिटटी की सोंधी खुशबू लेने के लिए गीली धरती पर चुपके से मोती बन गिरी और ...

item-thumbnail

प्रमोद कुमार चमोली की कहानी - जाल

मरूस्‍थली इलाकों में वर्षा आधारित खेती। वर्षा क्‍या वर्षों में कभी-कभी। बरानी खेती का अंजाम ये कि चार-पाँच साल अकाल तो, फिर कभी मेहरबानी हो...

item-thumbnail

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य - जाँच की महामारी

आजकल हर दिन सरकार की ओर से एक आश्‍वासन मिलता है- अगर कहीं गलत हुआ है तो जांच करायेंगे। जांचें जारी रहती हैं। परिणाम कभी नहीं आते। हर गलत का...

item-thumbnail

चाचा जी की चिट्ठी सीताराम गुप्ता के नाम

अब उपरोक्त पत्र को ही लीजिए जो बहुत कम लोगों द्वारा समझी जाने वाली लिपि में लिखा गया है। भाषा तो स्वाभाविक है हिन्दी ही है लेकिन इस लिखावट...

item-thumbnail

देवेन्द्र पाठक ' महरूम ' की कविताई - 2 मुक्तिकाएँ

मुक्तिका - बिना समर्पण भक्ति नहीँ है । भक्ति नहीँ तो मुक्ति नहीँ है ॥   करुणाहीन हृदय हो यदि तो ; कुछ सार्थक अभिव्यक्ति नहीँ है॥   कथ्य- व...

item-thumbnail

मोतीलाल की कविताएँ - बादल की बहार, मैं लौटूंगा

बादल की बहार खोई हुई प्रतिध्वनि तैरने लगे हैँ तालाब मेँ बाढ़ मेँ बहते झाड़-झंकार छाती की जेब मेँ समा जाते हैँ और नीरव वेदना की वाणी स...

item-thumbnail

गिरिजा कुलश्रेष्ठ की बाल कहानी - सूराख वाला गुब्बारा

सूराख वाला गुब्बारा ----------------------- बात बहुत पुरानी है। तब धरती और सूरज बच्चे ही थे। वे साथ-साथ खेलते थे। साथ-साथ खाते थे। और दूसरे...

item-thumbnail

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य - आई पी एल का तमाशा

आई․ पी․ एल․ का तमाशा तमाशा शुरु हो गया है। चार हजार करोड़ रुपये तो केवल टीवी प्रसारण से मिलेंगे। भ्रष्टाचार के तयशुदा मानकों के अनुसार लगभग...

item-thumbnail

उर्दू शायर कृष्ण मोहन का खत सीताराम गुप्ता के नाम

अंग्रेज़ी-उर्दू में लिखित इस खत में जो उर्दू ग़ज़ल कृष्‍ण मोहन साहब ने लिख भेजी है उसका देवनागरी लिप्‍यंतरण भी संलग्‍न हैः ग़ज़ल मैं क़...

item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail
item-thumbnail

कमलेश्वर का सीताराम गुप्ता के नाम पत्र

प्रस्तुति: सीताराम गुप्ता

item-thumbnail

शैलेश मरजी कदम का आलेख - पत्रकारिता में अनुवाद : विविध संदर्भं

  प्र स्‍तावना ः- वर्तमान समय में मीडिया की अनुवाद आवश्‍यकता बन गई है। मीडिया सीमा विहीन है। इसलिएमीडिया को भौगोलिक सीमा को भूलकर अपने पाठा...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव