370010869858007
Loading...
item-thumbnail

पुस्तक समीक्षा : व्यंग्य का शून्यकाल

सबसे पहले भूमिका जो व्यंग्य का शून्यकाल से ही ली गई है - "शून्यकाल वही है जो गोल कर दे. गोल घुमा देगा तो व्यंग्य हो जाएगा. यह टोटका ...

item-thumbnail

प्रमोद भार्गव का व्‍यंग्‍य निबंध : वाटरगेट बनाम कोलगेट

भैया हमारे सनातन ऋषि तो पहले ही कह गए कि काजल की कोठरी में रहोगे तो थोड़े बहुत काले होगे ही। अब बेचारे निष्‍काम निर्लिप्‍त प्रधानमंत्री ने ...

item-thumbnail

जसबीर चावला की कविताएँ

नई गरीबी रेखा ---------------- वे गरीब नहीं थे चाहते थे करना महसूस गरीबी क्या है नामी मॉल गए देखी/परखी ब्रांडेड ब्लू जींस/ टॉप छपे थे फटे...

item-thumbnail

कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -68- प्रभुदयाल श्रीवास्तव की कहानी तांगेवाला

कहानी तांगेवाला प्रभुदयाल श्रीवास्तव मन बड़ा चंचल और चलायमान होता है इस पर‌ बड़े बड़े देवता, ऋषि मुनि और‌ साधु संत तक‌ नियंत्रण नहीं कर सके...

item-thumbnail

कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -67- वंदना अवस्थी दुबे की कहानी : नहीं चाहिए आदि को कुछ...

कहानी                         नहीं चाहिए आदि  को कुछ...... वंदना अवस्थी दुबे ' ये क्या है मौली दीदी?" " आई-पॉड है." &q...

item-thumbnail

पुस्तक समीक्षा - मेघा : आशावादी मन को तृप्त करती कविताएं

पुस्तक--- मेघा लेखक-----बसन्त चौधरी मूल्य-----१०० रूपये प्रकाशक-------श्री लूनकरणदास गंगादेवी चौधरी साहित्यकला मन्दिर,नेपाल,२०१२ जिस प्रकार...

item-thumbnail

डाक्टर चंद जैन 'अंकुर' की रचना - मैं नीर माँ....

मैं नीर माँ....... जीवन, देह में विचारों ,भावनावों और क्रियाओं का योग है और विश्व शिव संग माँ का परमयोग है। मानव आदिगुरू का  प्रयोग हैI देह...

item-thumbnail

कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -66- त्रिपुरारि कुमार शर्मा की कहानी : दिल्ली की दोपहर

कहानी दिल्ली की दोपहर त्रिपुरारि कुमार शर्मा -- रु. 15,000 के 'रचनाकार कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन' में आप भी भाग ले सकते हैं. अपन...

item-thumbnail

विनय कुमार सिंह का आलेख - अपवादों में सोशल मीडिया का शोषण

विनय कुमार सिंह अपवादों में सोशल मीडिया का शोषण अपने नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए सरकार वर्तमान में अपवादों का जरिया सोशल मीडिया को...

item-thumbnail

विजय वर्मा की बेहद महंगी ग़ज़लें

ग़ज़लों पर महंगाई का असर कुछ चुनिन्दा शे'र और अगर वे आज के ज़माने में लिखे जाते तो कैसे होते --इसे पेश कर रहा हूँ,मीर साहब,कतील शिफई साह...

item-thumbnail

नरेंद्र तोमर की लघुकथा - भगवान और भक्त

नारद जी जब दरबार में पहुंचे तो देखा ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों सिर झुकाए चिंतित एवं उदास मुद्रा में बैठे हैं। ‘नारायण नारायण’ कहने और अप...

item-thumbnail

कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -65- चंद्रकांता की कहानी : कल्पतरु

कहानी कल्पतरु चंद्रकांता   उफ्फ़! कितनी गहरी पीड़ा है यह मानों तालाब के पार्श्व पर पानी और उसके भीतर मछली तड़प रही हो. तुम्हें कैसे समझाऊं स...

item-thumbnail

छत्र पाल का कविता संग्रह - भाषाई हुड़दंग

छत्रपाल का कविता संग्रह ई-बुक यहाँ पढ़ें या फिर इसे पीडीएफ डाउनलोड कर पढ़ें - पढ़ने के लिए नीचे फ्रेम में एक्सपांड बटन को क्लिक करें Open...

item-thumbnail

कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -64- गिरिजा कुलश्रेष्ठ की कहानी - उसके लायक

कहानी उसके लायक गिरिजा कुलश्रेष्ठ ----------------- व ह जिस दिन पहली बार कक्षा में आई थी ,उस दिन तो सबने ऐसा मुँह बना लिया था जैसे धोखे ...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव