370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...
item-thumbnail

कलम की देवी - महाश्वेतादेवी

कलम की देवी - महाश्वेतादेवी डॅा. लता सुमन्त भारतीय साहित्यकारों में मूर्धन्य एवं यशस्वी लेखिका महाश्वेतादेवी वर्तिका के संपादक श्रेष्ठ कवि म...

item-thumbnail

यशवन्त कोठारी का ताज़ा व्यंग्य - ठण्ड में गरम राजनीति

ठण्‍ड में गरम राजनीति यशवन्‍त कोठारी अमेरिेका से लगाकर ठेठ जयपुर में तेज ठण्‍ड पड़ रही है। बाहर बरफ गिर रही है, हाड़ कम्‍पाती सर्दी में त...

item-thumbnail

गोवर्धन यादव का आलेख - राजधर्म और राजा के कर्तव्य

महर्षि वेद व्यास रचित महाभारत के शान्ति-पर्व में महात्मा भीष्मजी ने राजा युधिष्ठिर को राज-धर्म और राजा के कर्तव्यों आदि के बारे में विस्तार...

item-thumbnail

राजीव आनंद की 3 लघुकथाएँ

जैकपॉट जिंदगी बड़े मजे में चल रही थी संजीत और संगीता की․ दोनों ही कमाते थे․ संजीत वकालत करता था, साग-सब्‍जी भर पैसे रोज कमा लेता था और संगी...

item-thumbnail

नन्दलाल भारती का आलेख - दलित साहित्‍य संदर्भ में पेरियार ई․वी․रामास्‍वामी,ब्राह्‌मणवाद का प्रतिकार और द्रविड़वाद ।

साहित्‍य जगत में दलित साहित्‍य विशेष दर्जा प्राप्‍त कर लिया है क्‍योंकि दलित साहित्‍य स्‍वान्‍त सुखाय के वशीभूत होकर नहीं लिखा जाता है। दलि...

item-thumbnail

सिन्धी कहानी - यह भी कोई कहानी है?

सिन्धी कहानी यह भी कोई कहानी है ? मूल: गोविंद माल्ही अनुवाद: देवी नागरानी मोहन ने मुझे अपने घर पर मिलने और उसके पास रात रहने की सलाह दी,...

item-thumbnail

नन्दलाल भारती का आलेख - युवावर्ग और रचनात्‍मकता एक विवेचना

  युवावर्ग और रचनात्‍मकता एक दूसरे के पूरक हैं , युवा संरक्षक है तो रचना अथवा साहित्‍य विरासत/धरोहर। भारतीय समाज में इस साहित्‍यिक विरासत...

item-thumbnail

नन्‍दलाल भारती की कहानी - विष पुरुष

बिलारी के भाग से शिकहर टूट गयल-यह भोजपुरी कहावत धूरत प्रसाद जंगली पर बिल्‍कुल सही बैठती थी। धूरत प्रसाद जंगली निहायत स्‍वार्थी किस्‍म का आद...

item-thumbnail

आशीष दशोत्तर की ग़ज़लें

ग़ज़ल 1 हाथ बाँध लो, चिल्‍लाओ मत, ये भी कैसी मुश्‍किल है, झण्‍डे, परचम, लहराओ मत, ये भी कैसी मुश्‍किल है। सच,इर्मान, वफ़ा, सीधापन, नेकी, प...

item-thumbnail

सुरेश सर्वेद की कहानियाँ

छटपटाहट रा जेश्वरी आज एक नहीं दोनों पुत्रों पर बिफर पड़ी. उसने सपने में भी नहीं सोचा था कि उनके पुत्र इतने स्वार्थी हो जायेगे. सामने पिता क...

मुख्यपृष्ठ archive

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव