370010869858007
Loading...
item-thumbnail

राजीव आनंद की कहानी - दलित-हरिजन पैकेज

कहानी दलित-हरिजन पैकेज विधानसभा चुनाव सर पर आ गया था․ नेताओं को अपने-अपने पार्टी हाईकमानों से गाँव दौरा का निर्देश मिल चुका था जिसमें शामि...

item-thumbnail

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - ताड़पत्र लेखन से श्रुत लेखन तक हिंदी की विकास-यात्रा

ताड़पत्र लेखन से श्रुत लेखन तक हिंदी की विकास-यात्रा   डॉ.चन्द्रकुमार जैन  हमारी जनशक्ति देश की और हमारी हिन्दी की भी ताकत है। बहुत साल नही...

item-thumbnail

चन्द्रकुमार जैन की पांच प्रेरक कविताएँ

डॉ.चन्द्रकुमार जैन की पांच प्रेरक कविताएँ   हौसला ================ काँटों से डरने वाले फूल-फल पा नहीं सकते तूफां से डरने वाले साहिल पा ...

item-thumbnail

चन्द्रकुमार जैन का चिंतन - टीस उसे उठती है जिसका भाग्य खुलता है !

चिंतन ------------------- टीस उसे उठती है जिसका भाग्य खुलता है ! डॉ.चन्द्रकुमार जैन  घटना है वर्ष १९६० की. स्थान था यूरोप का भव्य ऐतिहास...

item-thumbnail

राजीव आनंद की लघुकथाएँ - अनवर चाचू तथा मातमी कौन

लघुकथा अनवर चाचू काम का जैसे जुनून सवार रहता अनवर पर, बस आप काम बोलिए, वह करने को तत्‍पर। आलस तो उससे कोसों दूर भागती। अनवर गरीब जरूर थ...

item-thumbnail

गीता दुबे की कहानी - आतिफ हुसैन से अखिलेश साहू

  गीता दुबे कहानी - आतिफ हुसैन से अखिलेश साहू   “हलो तिवारी जी, जमशेदपुर से हरीश शुक्ला बोल रहा हूँ।” ‘हाँ सर कहिए, क्या सेवा कर सकता हूँ’-...

item-thumbnail

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - पाँच साहित्यिक सुभाषित

पाँच साहित्यिक सुभाषित -------------------------------- डॉ.चन्द्रकुमार जैन   लेखक चेतना जगाता है ------------------------------- एम.ट...

item-thumbnail

सुनीता अग्रवाल की कहानी - भेड़िया आया

भेड़िया आया वो फफकती हुई अपने बॉस कमरे से निकली। बाहर इतनी देर से लगे कानों ने अपनी आँखो पर विशवास करने के लिए उसकी ओर देखा, उसने सुड़क-स...

item-thumbnail

उमेश कुमार गुप्ता का व्यंग्य - दिशा मैदान और तीर कमान

व्यंग्य दिशा मैदान और तीर कमान उमेश कुमार गुप्ता     हमारे देश में दिशा मैदान और तीर कमान का चोली दामन का साथ है। जब भी पेट दर्द करे तो प...

item-thumbnail

सुरभि सक्सेना की लघुकथा - माफ़ी

माफ़ी सुरभि सक्सेना "ज़रूर मेरे ही प्रेम में कोई कमी रह गयी होगी तभी न इतनी वफ़ा और प्यार समर्पित करने के बाद भी तुमने दी तो बस बेवफाई, ...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव