370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...
item-thumbnail

भूकंप के मुहाने पर महानगरीय आबादी

प्रमोद भार्गव दुनिया के नामचीन विशेषज्ञों व पर्यावरणविदों की मानें तो सभी भूकंप प्राकृतिक नहीं होते,बल्कि इन्हें विकराल बनाने में हमारा भी ह...

item-thumbnail

अपनी-अपनी धर्मशालाएँ

डॉ दीपक आचार्य बस्तियों, महकमों और दुकानों के जंगलों में भटकते हुए हर तरफ और कुछ लगे न लगे, इनमें धर्मशालाओं की पक्की छाप जरूर दिखती है। ...

item-thumbnail

एक को चुन लें दवा या दुआ

  डॉ दीपक आचार्य हर बीमारी के पीछे सिर्फ शारीरिक समस्याएं ही नहीं होती बल्कि इनमें मानसिक विकारों और तनावों का योगदान अधिक रहता है। दुनिया...

item-thumbnail

नकचढ़ी राजकुमारी

कैथलीन मुलडून अनुवाद - अरविन्द गुप्ता मेरी बड़ी बहन 10 साल की है। उसका नाम है - पेनीलोप मेरी पाईपर। पर सब लोग उसे ‘पेनी’ नाम से बुलाते हैं,...

item-thumbnail

पिंग की कहानी

  मार्ज़ोरी फ्लैक और कुर्त वीज़   हिंदी अनुवाद अंशुमाला गुप्ता   एक बार की बात है- पिंग नाम का एक खूबसूरत छोटा बत्तख था। वह अपनी मां, अपने प...

item-thumbnail

कहानी - बदला

मोहम्मद इस्माईल खान  आज हरीराम अपनी जेल की कोठरी में हमेशा से कुछ ज्यादा ही परेशान है। आज उसकी बेटी मुलाकात करके गई है, वह एक ऐसी पुरानी इम...

item-thumbnail

सबक लें भूकंप से

तबाही का मंजर दिखाने वाला भूकंप हम सभी के लिए कई सारी चेतावनियां छोड़ गया है। यह अपने आप में ऎसे मार्मिक संदेश हैं जिनके मर्म को समझ जाएं तो...

item-thumbnail

डॉ॰ विमला भण्डारी के किशोर उपन्यास “कारगिल की घाटी” की समीक्षा

दिनेश कुमार माली कुछ दिन पूर्व मुझे डॉ॰ विमला भण्डारी के किशोर उपन्यास “कारगिल की घाटी” की पांडुलिपि को पढ़ने का अवसर प्राप्त हुआ। इस उपन्य...

item-thumbnail

प्रकृति के दबाव का मार्ग है-भूकंप

प्रमोद भार्गव भूकंप के बारे में और अधिक जानकारी पाने के लिए इस कड़ी पर जाएँ - http://vigyanvishwa.in/2015/04/27/earthquack/         बिना...

item-thumbnail

खाली जगह रखें वरना मिट जाएंगे

डॉ दीपक आचार्य भूकंप तो आएगा ही, इससे बचना मुश्किल है। हम जिस ढंग से अधर्माचारण अपना चुके हैं, उन्मुक्त और स्वच्छंद हैं, स्वेच्छाचारिता को...

item-thumbnail

कहानी : आंटी नहीं फांटी

क़ैस जौनपुरी   - “चार समोसे पैक कर देना.” - जी, और कुछ? - और...ये क्या है? - ये साबुदाना वड़ा है. - ये भी चार दे देना. नाश्ते की दुकान पर ख...

मुख्यपृष्ठ archive

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव