370010869858007
Loading...
item-thumbnail

नववर्ष काव्य गोष्ठी : नव-वर्ष-मंगल-गान

नव वर्ष तुम्हारा मंगलमय, सुखप्रद, सार्थक हो शुभ आना प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव ‘विदग्ध‘ प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव ‘विदग्ध‘ ओ.बी. 11, एमपीईबी...

item-thumbnail

ईश पूजन के प्रमुख उपादानों का महत्‍व / डॉ. नरेन्‍द्र कुमार मेहता ‘मानस शिरोमणि’

ईश पूजन के प्रमुख उपादानों का महत्‍व डॉ. नरेन्‍द्र कुमार मेहता ‘ मानस शिरोमणि’ पूजा का सीधा-सादा अर्थ होता है आराधना या साधना। ...

item-thumbnail

मृत्यु पत्र (A Death Note)

मृत्यु पत्र (A Death Note)  ( मरने से पहले इंसान सोच पाता अपनी जिन्दगी में वह क्या करना चाहता है, क्या बनना चाहता है, उनके लिए जो सीखना चाहत...

item-thumbnail

हैप्पी न्यू ईयर या नववर्ष, तय कीजिए - लोकेन्द्र सिंह

दृश्य एक। सुबह के पांच बजे का समय है। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रथम तिथि यानी वर्ष प्रतिपदा का मौका है। ग्वालियर शहर के लोग शुभ्रवेश में...

item-thumbnail

लघुकथा / बोनसाई / ललिता भाटिया

बोनसाई निशु के जाते मानो घर में भूचाल आ गया. माता जी यानि के मेरी सास , तिया की दादी ने घर में शोर मचा दिया ॰ असल में निशु टिया के लिए मेडि...

item-thumbnail

याद कीजिए ! आप अद्वितीय हैं / शालिनी तिवारी

  अद्वितीय यानी जिसके जैसा दूसरा न हो. इसे ही अंग्रेजी में यूनिक ( Unique ) भी कहा जाता है. खैर यह बिल्कुल सच भी है  कि दुनियाँ का प्रत्ये...

item-thumbnail

नव वर्ष की चुनौतियाँ एवम रचनाकारों का दायित्व / सुशील कुमार शर्मा

आज जब इस विषय पर लिखने बैठा तो पूरा साल स्मृतियों में किसी बच्चे की चीख चिल्लाहट उसकी मृदुल हँसी की भाँति झिलमिला गया कुछ खट्टी यादें कुछ म...

item-thumbnail

मुबारक साल नया / राम कृष्ण खुराना

मुबारक साल नया ! भगवान करे इस नये साल में आपका सारा ‘कालाधन’ “गुलाबी” हो जाय ! खुदा करे आपके गुप्त ठिकानो को ई डी वाले खोज न पायें ! आपके ब...

item-thumbnail
item-thumbnail

विज्ञान कथा / अन्तरिक्षचारिणी / डॉ. राजीव रंजन उपाध्याय

    अक्तूबर १०, प्रीन आम किमजी, शाम ५ बजे : हर दिन की तरह आज भी किमजी की पहाडियों पर उष्मा का नतर्न हो रहा था। चारों ओर प्रकृति का सौंदर...

item-thumbnail

विज्ञान कथा / शिव के सानिध्य में / डॉ. राजीव रंजन उपाध्याय

   यान-त्रिशंकु अजितेय और केन विस्मित नेत्रों के सबसे ऊँची डेक पर खड़े गरुढ को अन्तरिक्ष में बढ़ते हुए देख रहे थे। यह अन्तरिक्ष स्थित पूर...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव