370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...
item-thumbnail

बाबूजी ,जीवन और कर्म की संघर्ष यात्रा ( श्री शिशुपाल सिंह यादव , १८ अप्रेल १८९८ - ४ अक्टूबर १९७६) // अरुण यादव

बाबूजी ,जीवन और कर्म की संघर्ष यात्रा ( श्री शिशुपाल सिंह यादव , १८ अप्रेल १८९८ - ४ अक्टूबर १९७६) अरुण यादव  |   पारिवारिक पृष्ठ भूमि विप्पन...

item-thumbnail

समीक्षा -प्रेरणा और विश्वास जगाता है काव्य संग्रह - " धूप आती तो है ..."

समीक्षा काव्य संग्रह -  " धूप आती तो है ..." पंकज पटेरिया            किसलय साहित्यिक संस्था की अनियतकालीन पत्रिका शब्दध्वज ने कवि ...

item-thumbnail

कल्पना मिश्रा की लघुकथाएँ

लघुकथाएँ कल्पना मिश्रा सुरक्षित ****** बेटियों के साथ हो रहे दुष्कर्म देख-सुनकर मैं भगवान को धन्यवाद करता कि अच्छा हुआ जो मुझे बेटी नहीं दी।...

item-thumbnail

लघुकथा // पिंजरा // सुमनजीत कौर

"पिंजरा" "सुनो मुझे नौकरी करने दो ना" "क्यों करनी है तुम्हें नौकरी आखिर किस चीज की कमी है हमारे पास" अदिति सोच...

item-thumbnail

कल्पना मिश्रा की लघुकथा - मुर्दाघर

लघुकथा मुर्दाघर कल्पना मिश्रा ****** अब कल सुबह ही पोस्टमार्टम होगा ,तो देर रात एक एक करके मुर्दाघर में दो औरतों के शव रखकर पीउन चला गया। &q...

item-thumbnail

मृणाल आशुतोष की लघुकथाएँ

लघुकथाएँ मृणाल आशुतोष 1.छब्बीस जनवरी आज वोट का दिन था। मंगरू और चन्दर दोनों तेज़ी से मिडिल स्कूल की ओर जा रहे थे। " अरे ससुरा, तेज़ी से च...

item-thumbnail

व्यंग्य // स्वार्थ के बवंडर तले राजधानी // डॉ अनिता यादव

स्वार्थ के बवंडर तले राजधानी- व्यंग्य पिछले दिनों बवंडर का देश भर में खूब स्वागत हुआ। दिल्ली को वह कम ही प्रभावित कर पाया । आखिर राजधानी आसा...

item-thumbnail

निर्भया साहित्य संस्था की मासिक काव्य गोष्ठी में बरसा काव्य रस

गोष्ठी में बरसा काव्य रस नवोदित रचनाकारों को प्रोत्साहित करने इन्द्रपुरी स्थित नैनागिरि , भोपाल में काव्य गोष्ठी आयोजित की गई। निर्भया साहि...

item-thumbnail

आज़ादी के पूर्व साहित्य में देशभक्ति की भावना // सुशील शर्मा

आज़ादी के पूर्व साहित्य में देशभक्ति की भावना सुशील शर्मा ब्रह्मचर्येण तपसा राजा राष्ट्रं विरक्षति। देश की भूमि, संस्कृति, परम्परा, प्रशासन औ...

item-thumbnail

समीक्षा // आध्यात्मिकता का मार्ग // डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

समीक्षा आध्यात्मिकता से एकता एवं समन्वय / मूल लेखक, डा. निरंजन मोहनलाल व्यास / भाषांतर, हर्षद दवे / प्रकाशक, श्री स्वामीनारायण गुरुकुल विश्व...

item-thumbnail

हरीश कुमार ‘अमित’ की 10 ग़ज़लें

     1 ग़ज़ल     हम ही बस दीवाने निकले, दूजे बहुत सयाने निकले।   जिन-जिनको समझे थे अपना, वे सब ही बेगाने निकले।   ज़रा-सा छेड़ा है जब-जब ...

item-thumbnail

कान्ता रॉय की लघुकथाएँ

लघुकथाएँ कान्ता रॉय बैकग्राउंड "ये कहाँ लेकर आये हो मुझे।" "अपने गाँव, और कहाँ!" "क्या, ये है तुम्हारा गाँव?"...

item-thumbnail

बर्लिन से बब्बू को - बालकवि बैरागी के पत्र विष्णु बैरागी को - 7

सातवाँ पत्र बालकवि बैरागी नई दिल्ली से 23 सितम्बर 76 दिन के 11.00 बजे प्रिय बब्बू, प्रसन्न रहो। और मैं सकुशल दिल्ली उतर गया हूँ। सारा दल उम...

item-thumbnail

बर्लिन से बब्बू को - बालकवि बैरागी के पत्र विष्णु बैरागी को - 6

छठा पत्र बालकवि बैरागी मास्को हवाई अड्डे से 22 सितम्बर 76 रात्रि के 7.00 बजे प्रिय बब्बू प्रसन्न रहो। आज दोपहर कोई 11.30 बजे बर्लिन में जिस...

मुख्यपृष्ठ archive

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव