370010869858007
Loading...
item-thumbnail

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर विशेष // चुनौतियों से जूझते श्रीकृष्ण // प्रमोद भार्गव

देवसत्ता को चुनौती देने वाले कृष्ण वसुदेव-देवकी का जैविक पुत्र, तो नंदगोप-यशोदा का पालित चंचल पुत्र! ईश्वर भक्तों ने विष्णु के नौवें अवतार क...

item-thumbnail

नाटक // “दबिस्तान-ए-सियासत” // अंक 15 // राक़िम - दिनेश चन्द्र पुरोहित

नाटक “दबिस्तान-ए-सियासत” के पुराने अंक  यहाँ [लिंक] पढ़ें नाटक “दबिस्तान-ए-सियासत” का अंक १५ राक़िम दिनेश चन्द्र पुरोहित मंज़र १ “मुड़ मुड़कर न...

item-thumbnail

पर्यावरण पर दोहे // सुशील शर्मा

(1 ) नदियां मुझ से कर रहीं, चुभता एक सवाल। कहाँ गया पर्यावरण ,जीना हुआ मुहाल।  (2 ) तान कुल्हाड़ी है खड़ा ,मानव जंगलखोर। मिटा रहा पर्यावरण ,चो...

item-thumbnail

चल अकेला // डॉ. आभा सिंह

अपने बचपन से सुनती आ रही हूं की ‘मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है।’ अब इस कथन में सामाजिक प्राणी का अर्थ समझते-समझते समझा कि, क्योंकि मनुष्य (साध...

item-thumbnail

व्यंग्य // "जलेबी की जलन" // जय प्रकाश पाण्डेय

             सुबह-सुबह गरमा - गरम जलेबी और पोहा खाने के बाद जैसई पेट गुर्राया तो मास्टर जी सकते में आ गए, लगा महापाप हो गया। बीस साल से नियम...

item-thumbnail

लघुकथा // शादी का लिफाफा // दीपक दीक्षित

अजय की बेटी की शादी में जाने के लिए जब सब तैयार हो रहे थे तो मैंने इस काम के लिए ले जाने वाले एक लिफाफे को निकला और सोचा इसमें कितनी रकम डाल...

item-thumbnail

संस्मरण // जीवन के रंग मेरे संग // चरण गुप्ता

मेरी हिन्दी कहानियों की एक किताब छपी थी। प्रकाशक ने छापने के बाद उस किताब की कुछ कच्ची प्रतिलिपियाँ मेरे पास भेजी थी। मुझे कहानियों की त्रुट...

item-thumbnail

मारवाड़ी एकांकी : “सांचौ धरम” लिखारै रमेश जोशी उर्फ़ “छोटक बाबू”

अेकांकी “सांचौ धरम”                  लिखारै रमेश जोशी उर्फ़ “छोटक बाबू”     किरदारां री ओळखांण पुरुसोतमसा – दिल्ली स्हेर रा निवासी, अहिल्या...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव