370010869858007
Loading...
item-thumbnail

इन्तजार - शबनम शर्मा की लघुकथाएँ

तेरहवीं शाम को एक छोटा सा कार्ड बिना दरवाज़ा खटखटाए कोई फेंक गया। रात को मुन्ना हाथ में लिये मुझे दिखा रहा व बोला, ‘‘अम्मा, पिछली गली वाली दा...

item-thumbnail

बिछोह - शबनम शर्मा की कविताएँ

बिछोह                कोख में आने से              अब तक              तुम्हारा स्पर्ष,             अहसास                 चहुँ ओर बिखरी   ...

item-thumbnail

मैं मूर्तिकार की कल्पना थी........- मंजू सोनी

मैं मूर्तिकार की कल्पना सी थी, जब - जब उसकी कल्पना में जो विचार आता गया, वो मेरी रचना करता गया।  दिया साकार रूप मुझे करता था मीठी - मीठी बात...

item-thumbnail

थक गया हूँ मैं : नेमीचंद मावरी ' निमय' की मुक्त छंद कविताएँ

                                                      नेमीचंद मावरी ' निमय'                                                         ...

item-thumbnail

आलेख - पछतावा - हर्षद दवे

*पछतावा* आस्ट्रेलिया की ब्रोनी वेयर कई वर्षों तक कोई meaningful काम तलाशती रहीं, लेकिन कोई शैक्षणिक योग्यता एवं अनुभव न होने के कारण बात नही...

item-thumbnail

जीवन-मृत्यु : हरीश कुमार ‘अमित’ की लघुकथाएँ

टाइम आज द़फ्तर पहुँचने में बहुत देरी हो गई थी. ब्रीफकेस उठाए अपने कमरे की ओर जाते हुए मना रहा था कि कोई अधीनस्थ नज़र न आ जाए. कोई अधीनस्थ अगर...

item-thumbnail

समीक्षा – "उम्मीदों की छाँव में"

समीक्षा – "उम्मीदों की छाँव में" कविता लिखी नहीं जाती, कविता स्वत: जन्म लेती है। वास्तव में मन के उद्गार ही कविता है। कवि यथार्थ क...

item-thumbnail

‘‘भारतीय संस्कृति में गो रक्षा’’ - श्रीमती डॉ. शारदा नरेन्द्र मेहता

‘‘भारतीय संस्कृति में गो रक्षा’’                                                       श्रीमती डॉ. शारदा नरेन्द्र मेहता                  ...

item-thumbnail

कहानी - गिरगिट - अविनाश कुमार झा

"हें.. हें.. मलिकार! आप तो हमेशा मजाक करते हैं। भला हम गिरगिट के जैसे रंग कईसे बदल सकते हैं... हें.. हें"।  बिरजू लगातार बिना बात ...

item-thumbnail

चुनाव प्रशिक्षण के पश्चावर्ती प्रभाव (एक व्यंग ) सुशील शर्मा

परसों ही मतदान दलों का द्वतीय प्रशिक्षण समाप्त हुआ लगातार आठ दिन तक सुबह से शाम तक तोते की तरह प्रशिक्षण की स्लाइड्स को बोलना उनको समझाना अब...

item-thumbnail

संजय कर्णवाल की कविताएँ

1 बनके हमदर्द हम बांटे दर्द सभी, बेहतर बन जाय हर पल ख़ुशी के जो भी मिले दिल से उनसे प्रेम करो रंग बन जाय इंद्र धनुष जिंदगी के।। हम सबकी ह...

item-thumbnail

मौसम अंगार है - काव्य संग्रह - अविनाश ब्यौहार

मौसम अंगार है        अविनाश ब्यौहार   Publisher :        Centre : 2097/22, Balaji Market, Chah Indara, Bhagirath Place, Delhi-110006. ...

मुख्यपृष्ठ archive

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव