---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

लोक कथा : ढोला मारू

साझा करें:

ढोला-मारू की कथा - महावीर सिंह गेहलोत वैदिक काल से 'लोक' शब्द प्रचलित है। ऋग्वेद के पुरुष-सूक्त में यह शब्द आया है। वैदिक काल म...

dhola maru

ढोला-मारू की कथा

-महावीर सिंह गेहलोत


वैदिक काल से 'लोक' शब्द प्रचलित है। ऋग्वेद के पुरुष-सूक्त में यह शब्द आया है। वैदिक काल में ही वेद और लोक शब्दावली अपनी-अपनी पृथक सत्ता स्पष्ट कर देती है। पाणिनि ने वेद और लोक शब्दों के भिन्न-~भिन्न स्वरूपों का बोध कराया है। नाट्य शास्त्रकार भरत मुनि, नाट्यधर्मी और लोकधर्मी प्रवृतियों को भिन्न बताते उनका उल्लेख करते हैं। महाभारत में व्यास जी स्पष्ट कर देते हैं कि प्रत्यक्षदर्शी लोक ही सारे विश् व को सर्वप्रकार से देखने वाला होता है, प्रत्यक्षदर्शी लोकानां सर्वदर्शी भवेन्तरः। इसी प्रकार गीता (१५-१८) में भी वेद और लोक का महत्व अलग-अलग प्रति-पादित किया गया है, अतो।़स्मि लोके वेदे च प्रचितः पुरुषोत्तमः। भारतीय चिन्तन में 'लोक' शब्द के तात्पर्य को संगत रूप से स्पष्ट करने वाला एक अन्य शब्द 'जन' है।

'जन' का प्रयोग अथर्ववेद के पृथिवी-सूक्त में देखा जा सकता है, 'जनं विभ्रति बहुया विवाचसं। नाना धर्माणं पृथिवी यथोकसम् (४५)।' यही मानव मात्र की ओर इंगित करने वाला 'जन' शब्द, सम्राट अशोक के सप्तम और अष्टम शिलालेखों में स्थान पाता है जहां सम्राट जनपदवासियों से सम्पर्क करने निकलता है। यह 'जन' उस साम्राज्य के सारे निवासी हैं जो नगर, ग्राम आदि में बसते हैं। इस विवेचन से यह निष्कर्ष सहज में ही निकलता है कि लोक और जन का अर्थ सारे निवासियों से है जो कहीं भी बसते हों।

२. लोक साहित्य--

इस विशाल मानव समाज में एक शिष्ट वर्ग अपने आचार, विचार, संस्कार और औपचारिक बंधनों के कारण, सामान्य जन समाज से अलग पड़ता हुआ, 'नागर वर्ग' से संबोधित होने लगता है। इसे आभिजात्य वर्ग भी कह सकते हैं। इस वर्ग के लिए कुछ कार्य-कलापों का खुला प्रदर्शन वर्जित (टेबू) होता है। यह वर्ग स्वनिर्मित अनुशासन के नियमों से बंधा रहता है।

इस वर्ग का पहिनावा, भाषा, साहित्य और जीवनचर्या एक विशेष ढांचे में बंध जाती है। अथच ऐसे वर्ग का साहित्य रीतिबद्ध और शास्त्र सम्मत होता है। इस आभिजात्य साहित्य के ठीक समानान्तर लोक समुदाय का साहित्य भी प्रवाहित होता रहता है, जो निसन्देह स्वच्छंद, निरंकुश, सहज और नैसर्गिक भावों से रस-सिक्त रहता है। सच तो यह है कि लोक-साहित्य कोई आभिजात्य साहित्य के विपरीत नहीं होता है। वह लोक समुदाय के एक घटक का साहित्य है जो शिष्ट वर्ग द्वारा सृजित होता है। अपनी रीतिबद्धता के कारण आभिजात्य साहित्य के नाम से संबोधित होता है। इस परिपाटीजन्य व्यक्तिगत साहित्य से भिन्न लोकसाहित्य होता है जो शास्त्र सम्मत पांडित्य की चेतना अथवा अहंकार से शून्य रहता है। तर्क और कसौटी से कोसों दूर रहता हुआ, इन्द्रियों के सभी सुखों को भोगता हुआ वह युग प्रवाह में बहता रहता है। परम्परागत विश् वासों व मान्यताओं को सहज भाव से स्वीकार करते, अपने विचारों को गीतों, कथाओं तथा प्रदर्शनकारी-कलाओं के माध्यम से प्रकट करता रहता है। इस भांति लोक अपना गतिशील जीवन बिताता है, वह किसी आदिम भाव के खूंटे से बधा नहीं रहता है।

लोक चिंतन व जीवन में शनै: शनै: मृदु परिवर्तन भी होता रहता है क्योंकि 'लोक' जड़ नहीं, वह एक विशाल जीवंत समूह है। हर युग में होने वाले इस मृदु परि-वर्तन को, उस युग के लोक साहित्य में आंक सकते हैं। परिनिष्ठित साहित्य के साथ-साथ लोक साहित्य भी विस्मृत होता, खंडित होता और परिवर्द्धित होता प्रवाहमान रहता है। यह लोक साहित्य और प्रदर्शनकारी-कलाओं की परम्परा, अपने युग का दर्पण होती है। अभी भारतीय लोक साहित्य के संग्रह और परिचय का प्रयास मात्र हुआ है, उसका युग परक इतिहास लिखना भविष्य के आधीन है ?

३ लोक कृतिकार -

यह भ्रान्त धारणा घर कर गई है कि लोक रचनाओं का कोई रचनाकार नहीं होकर, वह रचना लोकरचित होती है। इस सृजन और सृजक की ऊहापोह का समाधान भी आवश्यक है। लोकरचना का सृजक कोई समूह नहीं हो सकता। भावोन्माद में आकर कोई सृजक अपनी अनुभूति शब्दों अथवा प्रदर्शन द्वारा व्यक्त करता है। वह अनुभूति स्वाभाविक, सहज और अहैतुकी होने पर लोक समूह द्वारा अपना ली जाती है, तब वह सृजन, लोक-मानस की अभिव्यक्ति बन जाता है। उसका उत्स व सृजक विस्मृत हो जाते हैं और सारा लोक समुदाय उसे अंगीकार कर एंव पूर्णरूपेण अपनत्व प्रदान कर, सृजक के स्थान पर आ बैठता है। आरम्भ में जो व्यक्तिपरक रचना रही थी वह फिर लोक मुख में स्थान पाकर सर्वजनीन बन जाती है। फिर युग प्रवाह में वह रचना बहती रहती है। वाचिक परम्परा के कारण उसके अंग संवर्धन द्वारा पुष्ट होते हैं तो उसके शुष्क अंश टुट भी गिरते हैं। लोकानुभूति और लोकाभिव्यक्ति के कारण वह रचना सदैव हरी रहती है। अपने इन गुणों के कारण वह इतनी सक्षम होती है कि लोक मानस का अटूट अंग बन जाती है। उसके चिंतन में वह एकाकार हो जाती है।

४ लोक तत्त्व -

लोक समुदाय का एक मानस होता है। वह अपनी रुचि अथवा व्यवहार में आदिम, जंगली अथवा ऐन्द्रिक नहीं होता है। वह तो गतिशील तथा जीवंत समूह के कार्यकलापों को संचालित करता है। उसमें सहज विवेक एवं मंगल की भावना भी रहती है। वह अनायास ही, अनजाने अपना परिष्कार करता रहता है। उसमें कुछ ऐसे परम्परा जन्य व्यवहार और विश्वास अपना स्थान बनाये रहते हैं जो उसकी सहज प्रकृति व तर्क के अभाव में अपनी स्थिति को कालांतर में अधिक सुदृढ़ बना लेते हैं। उदाहरण के लिए शकुन के विस्वास को ही लें तो यह प्रकट होता है कि शकुन केवल विश् वास के कारण जीवन में जमे हुए हैं जब कि तर्क से यह सारे असंगत हैं। लोक विस्वासों के आधार पर ही कवि प्रसिद्धियाँ टिकी हैं। न किसी ने चकोर का अंगार भक्षण करना देखा है और न उसे रात्रि को चन्द्र की ओर टकटकी लगाए। सहज मानवी व्यवहारों के कारण ऋतु अनुकूल, पर्व और उत्सवों का आयोजन होता है जो लोक मानस द्वारा संचालित होता है। यह सब लोक तत्त्व के परिचायक हैं जिनमें रीति-रिवाजों के भूले व विस्मृत उपकरणों के कुछ अवशेष भी देखने को मिलते हैं। लोक साहित्य अर्थात वाचिक परम्परा में जीवित रही रचनाओं में ऐसे अवशेष व तत्त्व बहुलता से मिलते भी हैं। ५ लोक काव्य का शिल्प -

लोक साहित्य का काव्य-शिल्प निरन्तर उपेक्षा का विषय रहा है। यह सच है कि यह साहित्य रीतिबद्ध नहीं होता है। न तो उसमें छंद की मात्राओं का विधान है और न गणों का। उसकी अभि-व्यक्ति अनायासित होती है पर होती है सहजता में। उसमें गेयता होती है, टेर होती है और शब्दों की ठुमक होती है। क्या यह गुण उसे जीवित नहीं रखते हैं ? वह लोक का कंठहार क्यों है ? क्या यह गुण उस नैसर्गिक शिल्प की ओर इंगित नहीं करते हैं जिसमें मौलिकता, नूतनता और मर्मस्पर्शी संवेदना कूट कूट कर भरी है ? वन पुष्प की ताजगी सुन्दरता, मोहकता एवं विचित्र अज्ञात सुवास को इसलिए नहीं नकार सकते कि वह किसी वाटिका अथवा पुष्पदान में स्थित नहीं है। नगर की सोलह श्रृंगार से सज्जित सुन्दरी के समकक्ष क्या किसी अल्हड़ अज्ञात यौवना ग्रामीण, मैली वेशभूषा वाली, युवती को रूप का पात्र नहीं गिन सकते ? सौन्दर्य अथवा उसका शिल्प रीतिबद्ध रचनाओं में शास्त्रीय होगा परन्तु लोक रचनाओं में वह सहज एवं नैसर्गिक आभा एवं चटक लिए होगा जो सदैव नित नूतन होगा। अतएव लोक साहित्य निरलंकृत और भले ही अनगढ़ हो परन्तु उसमें मानव भावों की अभि-व्यक्ति जिस सरलता और लय से प्रकट होती है, वह रसात्मकता अन्यत्र दुर्लभ है। सच तो यह है कि लोक काव्य का निरलंकरण ही उसका अलंकरण है। क्या सचमुच में अलंकार सौन्दर्य की वृद्धि करते हैं ? यह प्रश्नचिह्न महाकवि बिहारी ने लगा ही रखा है। उसने अपनी सतसई में आभूषणों के द्वारा नारी की सौन्दर्य साधना को नकारा है। अतएव लोक काव्य का शिल्प-सौष्ठव का लेखाजोखा आवश्यक और अनिवार्य है। ऐसा करते समय आलोचना का मापदंड कोई रीतिबद्ध शास्त्र तो अवश्य नहीं होगा।

२ ढोला-मारू का कथानक

१ कथासार -

इस प्रेम वार्ता का कथानक, सूत्र में इतना ही है कि पूंगल का राजा अपने देश में अकाल पड़ने के कारण मालवा प्रान्त में, परिवार सहित जाता है। उसकी शिशु वय की राजकुमारी (मारवणी) का बाल-विवाह, मालवा के साल्हकुमार (ढोला) से कर दिया जाता है। सुकाल हो जाने से पूंगल का राजा लौट कर घर आ जाता है। साल्हकुमार वयस्क होने पर अपनी पत्नी को लिवाने नहीं जाता है। उसे इस बाल विवाह का ज्ञान भी नहीं होता है। इस बीच साल्हकुमार का विवाह मालवाणी से हो जाता है जो सुन्दर और पति-अनुरक् ता है। मालवणी को मारवणी (सौत) के होने का ज्ञान है और पूंगल का कोई संदेश अपने मालवा में आने नहीं देती है। कालांतर में मारवणी (मारू) अंकुरित यौवना होती है। उस पर यौवन अपना रंग दिखाता है। इधर स्वप्न में उसे प्रिय का दर्शन भी हो जाता है। पर्यावरण से सभी उपकरण उसे विरह का दारुण दु:ख देते हैं। पपिहा, सारस एवं कुञ्ज पक्षीगण को वह अपनी विरह व्यथा सम्बोधित करती है। पूंगल के राजा के पास एक घोड़ों का सौदागर आता है और मालवा के साल्हकुमार की बात करता है। यह सूचना सुनकर मारवणी और व्यथित हो जाती है। साल्हकुमार को बुलावा ढाढियों (माँगणहार) के द्वारा भेजा जाता है। यह गाने बजाने वाले चतुर ढाढी गन्तव्य स्थान पर पहुँचकर, साल्हकुमार (ढोला) को मारवणी की स्थिति का पूरा ज्ञान करा देते हैं। ढोला पूंगल हेतु प्रस्थान करना चाहता है परन्तु सौत मालवणी उसे बहाने बनाकर रोकती रहती है। मालवणी की ईर्ष्या, चिन्ता, उन्माद, कपट, विरह और असहाय अवस्था का वर्णन दूहों में विस्तार से हुआ है। अन्त में ढोला प्रस्थान कर ही देता है और पूंगल पहुँच जाता है। ढोला और मारवणी का मिलन होता है। सुख विलास में समय व्यतीत होता है। फिर पति-पत्नी अपने देश लौटते हैं तो मार्ग में ऊमर-सूमरा के जाल से तो बच जाते हैं परन्तु एक नई विपदा उन्हें घेर लेती है। रात्रि को रेगिस्तान का पीवणा (सर्प) मारवणी को सूंघ जाता है। मारवणी के मृत-प्राय अचेतन शरीर को देखकर स्थिति विषम हो जाती है। विलाप और क्रन्दन से सारा वातावरण भर जाता है। तब शिव-पार्वती प्रकट होकर मारवणी को जीवित करते हैं। ढोला मारू सकुशल अपने घर पहुंचते हैं। आनन्द से जीवन व्यतीत करते हैं। वहां पर चतुर ढोला, सौतिहा डाह की नोंक झोंक का समाधान भी करता है। मारवणी को अधिक प्यार व स्नेह समर्पित करता है।

२ कथा के रूपांतर -

ढोला-मारू की प्रेम कथा में समय-समय पर अंश जुड़ते गए। वाचिक परम्परा में ऐसा होना स्वाभाविक ही है। कुछ प्रतियों में 'धुर संबंध' के दोहे मिलते हैं। इस शीर्षक से ही स्पष्ट है कि पहिले के सबंध की कथा, इनका विषय है। प्रस्तावना रूप यह दोहे मारु (मारवणी) के पिता पिंगल राजा के विवाह की कथा कहते हैं। जालोर की राजकन्या सुन्दरी उमा का वरण, अपने पौरुष से करके गुजरात के राजकुमार रणधवल की मांग का हरण करते हैं। जालोर का राजा सामंतसी का नामोल्लेख हुआ है। यह सारा वर्णन इतिहास विरुद्ध है। एक रूपांतर में पंक्ति आई है, 'धण भटियाणी मारवणि, ढोलो कूरम राण', इससे मारवणी जाति में भाटि और ढोला कछवाहा वंश के कहे जा रहे हैं, परन्तु इतिहास इन तथ्यों का समर्थन नहीं करता है। रूपांतरों में निश्चित सम्वत् आदि के उल्लेख भी हैं जो किसी प्रकार से इतिहास सम्मत नहीं है। इसी भांति ऊमर-सूमरा का प्रसंग है जो मूल कथा में घट बढ़कर स्थान पा जाता है। वार्ता की रोचकता, रोमांस, कौतूहलता और चातुर्य के प्रदर्शन हेतु उमरा सूमरा का प्रसंग भले ही उपयोगी हो परन्तु इतिहास इसकी साक्षी नहीं भरता है। राजस्थान की कथ्य परम्परा अथवा हस्तलिखित प्रतियों में ढोला-मारू की बात के रूपांतर, प्रेमकथा के मूल रूप को स्थित रखकर, अन्य कथाओं को जोड़कर वार्ता का विस्तार अवश्य करते हैं। परन्तु इस वार्ता के जो अन्य प्रादेशिक रूप मिलते है वे ढोला-मारवणी के प्रेम कथा के सहारे, उनके माता-पिता, भाई, सेवकों आदि को भी पात्र बनाकर, कथा का नया ताना-बाना बिछाकर, जादू, घात-प्रतिघात, छल-कपट व षडयंत्र का सहारा लेकर कथा को एक नया रूप दे देते हैं। ब्रज, पंजाब (हरियाणा सहित), छत्तीसगढ़ (मध्य भारत सहित) और भोजपुरी लोक साहित्य में राजस्थान की यह बात अपने में बहुत कुछ 'नल दमयन्ती' के प्रसिद्ध पौराणिक कथानक को भी समेट लेती है। वास्तव में राजस्थान की यह बात, इन प्रदेशों के कथा साहित्य में खो-सी गई है और केवल ढोला-मारू के पात्र नाम, कुछ साम्य का आभास मात्र दिलाते हैं। सही अर्थों में राजस्थान में मिलने वाले रूपांतर ही ढोला-मारू की मूल (अथवा आदिम) कथा के प्रति निष्ठावान हैं।

३ अवांतर कथायें -

रूपांतर तो मूल कथानक में विस्तार करके उसे नया रूप देते हैं। यह फेर काल (समय) और क्षेत्र (सीला भूमि) से संबंधित रहता है परन्तु अवांतर कथायें, नये प्रसंगों अथवा समानान्तर कथाओं को जोड़कर, मूल कथा को पुष्ट (संवर्द्धन) मात्र करती हैं। उदाहरण के लिए ऊमर-सूमरा के प्रसंग का उल्लेख ऊपर कर चुके हैं। ऊमर-सूमरा के संबंध में, एक अलग से लोक कथा है और यह ऐतिहासिक व्यक्ति भी है। वह रसिक और नारी सौन्दर्य का लुब्ध भ्रमर है। यह ऊमर-सूमरा का व्यक्तित्व चित्रण है। हमारे कथानक की मारवणी अद्वितीय सुन्दरी है और जब ऐसा है तो उसके सौन्दर्य की सार्थकता अथवा साख की साक्षी हेतु ऊमर-सूमरा के आकर्षित होने का प्रसंग जोड़ दिया गया। लोक काव्य के कथानकों में ऐसा सहजता से होता है। मर्यादाओं में सीमित शास्त्र सम्मत प्रेम कथा में भी सुन्दरी के पद्म स्वरूप मुखमंडल की सौरभ के कारण, काले भौंरों की पंक्तियाँ जैसे उसे आ घेरती हैं। इस कथा के अन्य रूपान्तरों में ढोला और भाट का संवाद विस्तार से है। यही स्थिति ढोला और गडरिये के संवाद की है। संदेशवाहक ढाढियों को साल्ह कुमार तक पहुंचने हेतु कई अवरोधक फाँदने पड़े, पराए देश में सहा-~यक खोजने पड़े आदि की प्रसंग-वार्तायें ही अवान्तर कथायें हैं जो अपने आप में पूर्ण हैं। उन्हें हटा भी दिया जाऐ तो मूल कथा का सूत्र भंग नहीं होता और संलग्न रखने से कथा को पुष्टि मिलती है।

४ मूल कथा का स्वरूप -

इस लोक काव्य का क्या मूल रूप था ? यह खोजना कठिन है। जिस कथा का उत्स काल की पर्तों में खो गया हो, उसका आदि खोजना असम्भव-सा है। परन्तु प्रस्तुत 'ढोला-मारू रा दूहा' नामक कृति के जितने राजस्थानी परम्परा के रूपान्तर मिले हैं उनमें एक लाक्ष-णिक तथ्य उजागर होता जान पड़ता है। यदि विचारार्थ यह कहें कि यह तो 'प्रसंगात्मक गीतों' का संग्रह है जिसमें प्रसंगों के कथा सूत्र को अथ से इति तक अक्षुण्ण रखने का ध्यान रखा गया है, तो कैसा ? इस विचारधारा को एक अन्य दृष्टान्त से बल मिलता है। महाकवि सूरदास के पदों को प्रसंगानुसार इसी शती में जमाकर जब प्रकाशित किया गया तो वह पदावली भागवत पुराण का अनुसरण करने वाली दीख पड़ी और भावावेश में कुछ कह भी बैठे कि यह भागवत पुराण का उल्था है। हमारी इस धारणा की स्थापना हेतु हमें कोई हठ अथवा आग्रह नहीं है परन्तु इस कृति का वाचिक परम्परा में जब सामना होता है तब मारवणी के विरह संदेश और मालवणी के विरह रुदन के प्रसंग ही उपस्थित होते हैं।

------

(टीडीआईएल, हिन्दी कार्पोरा से साभार.)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3864,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2811,कहानी,2136,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,862,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,659,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,61,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,186,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: लोक कथा : ढोला मारू
लोक कथा : ढोला मारू
http://lh5.ggpht.com/raviratlami/SE4mE9qTRXI/AAAAAAAADOE/4dZlmpM4EKQ/dhola%20maru_thumb.jpg?imgmax=800
http://lh5.ggpht.com/raviratlami/SE4mE9qTRXI/AAAAAAAADOE/4dZlmpM4EKQ/s72-c/dhola%20maru_thumb.jpg?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2008/06/blog-post_10.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2008/06/blog-post_10.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ