बुधवार, 11 जून 2008

सावित्री मसीह का बाल नाटक : वनराज से मुलाकात

नाटक

वनराज से मुलाकात

 

-सावित्री मसीह

 

(दृश्य एक)

नेपथ्य में - देख तेरे संसार की हालत क्या हो गई भगवान, कितना बिगड़ गया इन्सान ।

पार्वती - भगवन, ये कैसा स्वर है ?

शंकर भगवान - देवी, ये स्वर, विश्व लोक का है, मानव दुखी है ।

पार्वती - मानव ने तो चन्द्र लोक पर विजय प्राप्त कर ली है तथा अन्य ग्रहों पर भी चढ़ाइयाँ कर रहा है । विजय के नगाड़े बजा रहा हैं । फिर मानव दुखी क्यों ? यह कैसी विडम्बना है ?

शंकर भगवान - यह सब उसकी बुद्धि के बल से हुआ है । बुद्धिजीवी, मानव ने विज्ञान और तकनीकी की सहायता से मृ़त्यु दर पर भी विजय पा ली है ।

पार्वती - प्रभु, कहीं ऐसा न हो कि वह एक दिन अपनी चार अरब सेना लेकर देव लोक पर आक्रमण करे ।

शंकर  - मानव को मैंने पूरे विश्व का आधि-पत्य सौंप दिया है । वह सभी जीवों में श्रेष्ठ है । प्रकृ़ति की सभी वस्तुएँ किसी न किसी रुप में उसके लिये हैं ।

पार्वती  - भगवन, फिर यह शोर क्यों ? आप अपने भक्तों की सुधि क्यों नहीं लेते ।

शंकर  - देवी पार्वती, यदि आपकी यहीं इच्छा है कि हम भक्तों की सुधि लें तो हम विश्व लोक अवश्य जायेंगे ।

पार्वती  - भगवन, क्या मैं भी आपके साथ चलूं ?

शंकर  - हां, पर हमें मनुष्य के रुप में जाना होगा । हम आपको पूरा तमाशा दिखायेंगे कि मनुष्य अपनी ही करनी से कैसे जाल में फंस गया है ।

पार्वती  - भगवन, नारद मुनि को भी साथ ले चलें तो अच्छा होगा । उन्होंने विश्व का भ्रमण किया है तथा संसार की स्थिति से परिचित हैं ।

शंकर  - कोई है ? एक गण - ( हाथ जोड़े हुए आता है ) आज्ञा महाराज ।

शंकर  - नारद जी से कहो कल विश्व यात्रा की तैयारी करें। गण - जो आज्ञा ।

 

( दृ़श्य दो )

 

( शंकर, पार्वती, एवं नारद जी भ्रमण करते हुए मधुवन पहुंच जाते हैं )

पार्वती  - भगवन, हमने ऋषि मुनियों को मधुवन की महिमा गाते सुना है तथा उनकी तपस्या भी यही सफल हुई है ।

शंकर  - भारत के प्राचीन दर्शन शास्त्र ने भी इसी मधुवन में जन्म लिया है, पर आज मधुवन की दशा बड़ी खराब दिखाई दे रही है ।

पार्वती  - ऐसा क्यों हुआ प्रभु ? ( नेपथ्य से आवाज - बचाओ हे भगवान दया करो )पार्वती जी - ये कैसा शोर है ? ये तो भक्तों की आवाज है, जो दुखी हैं । प्रभु इन भक्तों पर दया करो ।

शंकर  - नारद जी दुखी मानव को बुलाओ और पुछो कि इसे किस बात का दु:ख है । ( नारद जी दु:खी मानव के प्रतीक एक लकड़हारे को साथ लेकर आते हैं )

नारद  - मानव, आपको क्या दु:ख है ? आप भयभीत क्यों हैं ।

मानव - मुनि जी, वनराज ने हमें कई दिनों से दु:खी कर रखा है ।

नारद जी - कैसे ?

मानव - वनराज मधुवन छोड़कर गाँव की ओर आ जाते हैं । और मनुष्य और पालतू जानवरों को खा जाते हैं ।

शंकर  - मानव, वनराज मधुवन क्यों छोड़ते हैं ?

पार्वती  - मानव क्या तुम्हें केवल यही कष्ट है या और भी कोई व्याधि है ।

मानव - देवी, जंगलों में लकड़ी का अभाव है । मैं लकड़हारा हुँ । मुझे लकड़ी नहीं मिलती और गरीबी के कारण मैं बहुत तकलीफ में हूँ । इसके अलावा मुझे वनराज से भी भय लगता है क्योंकि वे आजकल बहुत नुक्सान करते हैं ।

शंकर  - नारद जी, वनराज को बुलाइये और पूछिये उसने मानव को दु:खी क्यों किया है ।

नारद  - जो आज्ञा । ( नारद जी वनराज को आवाज लगाते हैं और गरजते हुए मंच पर आते हैं । ( इस बीच शंकर-पार्वती अंतध्र्यान हो जाते हैं ) ।

वनराज - मुझे किसने आवाज दी ?

नारद  - हम इस वन में भ्रमण करने के लिए आये थे । हमने सोचा कि इस वन के राजा के भी दर्शन कर लें । हम नारद हैं और हम स्वर्गलोक से आये हैं ।

वनराज - बड़ी कृ़पा की प्रभु आपने । कहिए, मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ ?

नारद  - आप तो इतने बड़े राजा हैं पर सुना है कि आप शहर पर भी आक्रमण करने लगे हैं और मानव आपसे दु:खी है ।

वनराज - अब आप ही न्याय करें । मैं सभी वन्य प्राणियों को बुलाता हूं । ( लोमड़ी को आवाज देकर बुलाता है ) लोमड़ी रानी , ओ लोमड़ी रानी ।

लोमड़ी - जी महाराज आई ।

वनराज - आज हमारे वन में नारद मुनि आये हैं । उनके स्वागत में वन्य प्राणियों की सभा बुलाओ ।

लोमड़ी - जो आज्ञा ( लोमड़ी जंगल में जाती है और नेपथ्य से लोमड़ी के चिल्लाने की आवाज आती है ) ।

लोमड़ी  - सभी वन्य प्राणियों को सूचित किया  जाता है कि आज शाम को छ: बजे वनराज के दरबार में सभा होगी । अत: सभी बन्धुओ से निवेदन है कि वे ठीक समय पर उपस्थित हों ।

 

( दृ़श्य तीन )

 

( सारे वन्य प्राणी वनराज के दरबार में उपस्थित थे ) ।

वनराज - मेरी प्रजाजनों ।

हिरण - महाराज की क्या आज्ञा है ?

वनराज - आज हमारे वन में नारद मुनि आये हैं सब प्राणी उन्हें प्रणाम करें । ( सभी प्राणी प्रणाम करते हैं ) वनराज आगे कहते हैं - नारद मुनि मानव की शिकायत लेकर आये हैं । तुम सब उस शिकायत को सुनो और उसका निराकरण बताओ ।

नारद जी - प्राणियों क्या तुम्हें मानव से कोई कष्ट है ?

हिरण - आप बताइ थे महाराज । हमारे घर, वन जिसमें हम सभी भाई-बहन, हिल-मिलकर रहते थे वे नष्ट कर दिये गये हैं । हम कहाँ रहे, क्या पियें, क्या खायें, कहाँ विश्राम करें ।

बन्दर - (कूद-कूद कर आता है ) मेरी भी कुछ सुनो ।

नारद - हाँ सुनाओ बन्दर मामा ।

बन्दर - जब पेड़ ही न रहे तो हमारा क्या होगा ? हम भोजन कहाँ करेगें ? जब हम शहर की ओर जाते हैं और छतों कूदते हैं, बच्चों के हाथ की मिठाई खा जाते हैं तो मानव हमें मारता है, भगाता है । मेरी शिकायत के अलावा भालू चाचा की शिकायत भी सुनिये ।

भालू - तूम खाने की बात करते हो । मैं प्यासा हूँ । नहाने को भी पानी नहीं मिलता । पानी इतना दूषित हो गया है कि उसमें से दुर्गंध आती है ।

नारद - ऐसा क्यों ?

भालू - चलकर देखें नदी के पानी में चमड़े के कारखाने की गन्दगी को बहाया जाता है । जिससे पूरी नदी दूषित हो गई है ।

सारस - मछलियां भी सब मर गई हैं । इस नदी में अब एक भी मछली नहीं है । मेरे खाने के लिए कुछ नहीं बचा । मैं और मेरा परिवार दूसरे स्थान को जा रहे हैं ।

वनराज - मुनि जी, सुन ली आपने हमारी व्यथा की कहानी । अब आप शंकर जी और और मां पार्वती को-हमारी गाथा सुना दें ।

नारद - ठीक है-मैं भगवान से तुम्हारी गाथा सुना दूँगा । ( नारायण-नारायण कहते हुए नारद जी चले जाते हैं ) ।

 

( दृ़श्य चार )

 

( मंच पर नारद जी, शंकर जी एवं पार्वती जी के सामने खड़े हैं ) ।

पार्वती  - भगवन, नारद जी ने संसार का जो वृ़त्तान्त बताया उसे सुनकर मन को बड़ा दु:ख हुआ । आप इन्हें विनाश से बचा सकते हैं ।

शंकर  - आखिर इसके लिए दोषी कौन है ?

नारद  - मानव को बुलाकर वन प्राणियों की विपदा सुना दो । ( मानव का प्रवेश ) ( मानव का प्रवेश )

नारद  - मानव, भगवान को बताओ कि तुमने जंगलों की अन्धा-धुन्ध कटाई क्यों की ? इतने जंगल क्यों काटे ?

मानव - भगवन, पूर्वजों के आशीर्वाद से हमारे वंश की बहुत प्रगति हुई और संसार में मनुष्यों की संख्या बहुत बढ़ गयी । उनके लिए मकान, भोजन, वस्त्र तो देना ही था । वन न काटता तो क्या करता ?

नारद  - मानव, क्या तुझे मालूम नहीं था कि वनों से प्रकृ़ति का संतुलन कायम रहता है । अगर वनों की अंधाधुंध कटाई होती है तो सभी के लिए खाने , पानी और हवा की कमी पड़ जायेगी ।

मानव - महाराज, अपने अज्ञान के कारण मैं जंगलों को व्यर्थ समझता था मुझे नहीं मालूम था कि मनुष्यों का संपूर्ण अस्तित्व पर्यावरण पर निर्भर करता है । इस पर्यावरण पर मैंने बिना सोचे प्रहार किया है । ( लकड़हारे का प्रवेश )

नारद  - देखो लकड़हारा भी आ गया । क्यों लकड़हारे, वन में लकड़ी की कमी क्यों हुई ?

लकड़हारा - भगवन, वन बेरहमी से काट दिये गये । हमारा परिवार बढ़ा और दिनों-दिन लकड़ी की आवश्यकता बढ़ी । आखिर इस मधुवन की ऐसी दुर्दशा हो गयी इसके लिए हम भी दोषी हैं ।( लकड़हारा और मानव सिर झुकाकर कठपुतली मंच से चले जाते है )और धीरे-धीरे करके सभी पात्रों का मंच से चले जाना । नेपथ्य से आवाज आती रहती है -

देख तेरे संसार की हालत क्या हो गई भगवान । कितना बदल गया इंसान अभी भी चेत जा अरे इंसान, बहुत नहीं बिगड़ा है संसार । रहो प्रेम से सब जीव मिलकर करो संपदा का उपभोग विचार कर इस संसार को फिर से स्वर्ग बनाओ आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ बचाओ

-------

(टीडीआईएल के हिन्दी कार्पोरा से साभार)

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------