---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

अमृता प्रीतम के इमरोज के नाम चंद पत्र

साझा करें:

७ जनवरी १९८३ हैरान हूं-छ: जनवरी को देखा सपना क्या सचमुच किसी भविष्य की पेशीनगोई था... आज फरवरी की चौबीस तारीख है, और सुन रही हूं कि नवरा...


७ जनवरी १९८३

हैरान हूं-छ: जनवरी को देखा सपना क्या सचमुच किसी भविष्य की पेशीनगोई था... आज फरवरी की चौबीस तारीख है, और सुन रही हूं कि नवराज की बीवी को हमल है... घर में अपना सपना सुनाया था, इसलिए आज कंदला पूछ रही है कि जो बच्चा मैंने बादलों के कंबलों में सोया हुआ देखा था, वह लड़का था या लड़की ? मैंने सिर्फ बच्चा देखा था,यह नही कि वह लड़का है या लड़की....... न इस समय सोच रही हूं कि वह जरुर लड़का हो। बच्चे की आमद मुबारक है,चाहे वह लड़का हो या लड़की......

----

२४ फरवरी १९८३

-ओ खुदाया ! मुझे शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का नोटिस ? और मुझ पर फ़तबा कि गुरू नानक के लिए मुहब्बत से लबरेज़ मेरी नज्में साम्प्रदायिक वातावरण को बिगाड़ सकती हैं?

----

७ अप्रैल १९८३

आज जिंदगी में फिर एक बार मैं चौबीस मई के दिन बल्गारिया में हूं, जब इस देश में अक्षरों का उत्सव मनाया जाता है... आज सवेरे से मेंह बरस रहा था। कल से सभ्यता की रक्षा पर विचार करने के लिए जो कान्फ्रेंस शुरू होगी, उसके लिए मुल्कों से लोग आए हुए हैं, और हम सब सोच रहे थे कि इस बरसते मेंह में आज अक्षरों का उत्सव कैसे होगा.. लेकिन उत्सव उसी आब-ताब से हुआ, दस बजे से लेकर साढ़े ग्यारह बजे तक, जैसे हर बरस होता है। हर इलाके के सैकड़ों बच्चों ने, बरसते हुए मेंह में जलूस निकाला, लाल हरी पीली और सफेद झंड़ियां लहराई। जिन्होंने स्लाव लिपि बनाई थी, उन दो विद्वानों-क्रिअल और मैतोवी-~की तस्वीरें लहराईं। और उन अक्षरों को इस्तेमाल करके, जिन शायरों और अदीबों ने मुल्क के गुलाम शरीर में स्वतन्त्रता की रुह जगाई थी, उन शायरों और अदीबों की तस्वीरें भी लहराई... मैं बहुत-से शायरों और अदीबों के नामों से परिचित हूं, इमरोज ने भी इनके स्कैच बनाए हैं, इसलिए हम दोनों, जुलूस के झ़डों पर लहराई गई तस्वीरों से, कईयों के नाम पहचानते रहे-वह वापत्सारोव वह खरिस्तो बोतेफ...वह गिओ मिलेव ..वह ईवान वाजोव...वह खरिस्तो समरनैंस्की ... और इतने में सामने एक झंडे से लहराती हुई एक तस्वीर दिखाई दी-डोरा गाबे की... १९६६ में मैं पहली बार डोरा गाबे से मिली थी, और मिलते ही हम दोनों को एक दूसरे की ऐसी पहचान हो गई कि हमने एक दूसरे से उस की नज्में भी सुनीं और दिलों की बातें भी। और यह सिलसिला पन्द्रह बरस चलता रहा। जब १९८० में मैं बल्गारिया आई थी, डोरा गाबे से उसके घर मिलने गई थी, तो एक रेशमी रुमाल मेरे गले में डालकर उसने कहा था, `यह हमारी आखरी मुलाकात है, तुम अब अगली बार आओगी तब में नहीं होउंगी... मैनें उसके मुंह पर हथेली रखी, तो उसने मेरी हथेली को होंठों पर से हटाकर अपनी छाती पर रख लिया, बोली, "सुनो ! मैनें एक लम्बी नज्म लिखी है-`समुद्र से बातें ' ..." और इस वर्ष के आरम्भ में मैने सुना था कि वह समुद्र से बातें करते हुए, समुद्र में लीन हो गई है... और देखा सामने जो अक्षरों का उत्सव मनाया जा रहा है, उसमें वह एक तस्वीर बनकर , एक झड़े पर लहरा रही है... मन की जिस हालत में मैं दिल्ली से आई थी सिर्फ में जानती हूं, या इमरोज और जैसा कि इमरोज के कहा था, मैनें अपने देश की दहलीजों को पार करते समय सारी उदासी को केंचुली की तरह उतार दिया था... लेकिन अब-जब सामने अक्षरों के उत्सव में डोरा बागे की तस्वीर लहराती हुई देखी तो आंखों का पानी आंखों का पानी आंखों के कहने के बाहर हो गया। होंठ सिसक आए-' ओ खुदाया ! यह भी एक देश है जो अपनी एक शायरा के अक्षरों को अक्षरों के उत्सव में शामिल कर रहा है, और एक मेरे अक्षरों वाला पंजाब है, जो आज मेरे अक्षरों पर फौजदारियां कर रहा है...' मैनें अपनी आंखों को सौगंध दिलाई थी कि रोना नहीं, लेकिन दो-एक पल के लिए जब मेरी आंखों के सौगंध को तोड़ दिया, तो पास खड़े इमरोज से कुछ ताकत उधार लेने के लिए उसकी बांह कसकर थाम ली... उसने मेरी ओर देखा, और मेरे गले की आवाज चाहे गीली थी, पर होंठो पर जो लफ्ज़ आए वह सूखे भी थे, सहज भी,-'मेरे बाद, शायरों पर फौजदारियां करने वालों, और पवित्र अक्षरों पर गोलियां चलाने वालों से कह देना कि दुनिया में वह गोली कहीं नहीं बनी है जो सच को लग सके...

---

सोफिया, २४ मई १९८३

७ मई की दोपहर थी जब देखा-पैरों के नीचे ज़मीन भी उदासी के रोड़ों वाली थी, और सिर के ऊपर आसमान भी उदासी के बादलों से घिरा हुआ था... और मन न जाने कौनसे पाताल में उतर गया... और फिर १४ मई की रात थी जब आधी नींद की हालत में मैने एक चीख की तरह कहा था-'मेरे नानक, ! मैने तुम्हारी कल्पना करके देखी है, लेकिन आज तुम्हें प्रत्यक्ष देखना चाहती हूं...कल्पना की आंखों से नहीं, इन हाड़-मांस की आंखों से..' नहीं जानती, यह चीख कितनी लम्बी थी-सिर्फ इतना जानती हूं कि मेरे शरीर का रोम-रोम चीख बना हुआ था कि अचानक आंखों के सामने एक उजाला फैल गया, और बिजली जैसी एक थरथराहट मेरे सारे शरीर मे उतर गई... कोई सूरत सामने नहीं आई, लेकिन अहसास जैसी एक आवाज़ सुनी-'तुम ! उसके अस्तित्व का सबूत मांगती थीं, सबूत मिल गया ?' उस आधी नींद की हालत में मुंह से निकला-'हां, मैने उन्हें देख लिया...' और अगले कई दिनों तक, अखबार वालों ने जितने इंटर्व्यू मांगे, मैं देती रही और गुरू नानक के बारे में लिखी हुई मेरी नज़्मों पर जो फौजदारी मुकदमे का नोटिस था, उसके जवाब के लिए, एक वकील को मुख्यारनामा भी लिखकर दिया, लेकिन इतने दिनों सी सारी उपरामता के साथ-चौदह तारीख की रात वाले सपने ने, मेरे माथे पर जैसे एक ठंडी हथेली रख दी। २१ मई की शाम को बल्गारिया जाना था, चली गई। २५ मई से २७ मई तक सोफिया में को ही, कांग्रेस में सांस्कृतिक और आध्यात्मिक मूल्यों के बारे में जो तकरीर करनी थी, वह भी की। लेकिन २८ मई से वार्ना जा कर अपनी सेहत के लिए जो इलाज लेना था, उसके लिए पांच सौ किलोमीटर का सफर करते हुए प्रकृति का जो मनोरम दृश्य देखा, उसने फौजदारी मुकदमे वाली बात की उदासी भी और गहरी कर दी और १४ मई की रात वाले सपने की थरथराहट भी माथे में भर दी... यही एक तड़प थी, एक सुकून था, जो एक नज़्म बनता गया-

बादलों के महलों में मेरा सूरज सो रहा है

यहां कोई खिड़की नहीं, दरवाजा नहीं, सिढ़ी भी नहीं

और सदियों के हाथों ने जो पगडंडी बनाई थी

वह निन्तन के पैरों के लिए बहुत छोटी है

रोशनी की मेंहदी मैंने हाथों पर लगाई है

आज दु:खों की काली और ठिटुरती रात में

उसकी एक किरन मुझे दिखाई दे गई

बादलों के महलों में मेरा सूरज सो रहा है...

-----

वार्ना, ३० मई १९८३

आज से ग्यारह बरस पहले इमरोज़ और मैंने लंदन में एक स्कैंडिनेवियन फिल्म देखी थी, जिसमें मुहब्बत को कल-कल करते झरनों की भाषा में पेश किया गया था। वहां कई थिएटर ऐसे हैं जहां एक ही फिल्म दिन-भर चलती रहती है, और एक पाउंड का टिकट लेकर आगर आप थिएटर में चले जाएं तो एक ही फिल्म को, चाहें तो कई बार देख सकते हैं। इमरोज़ और मैने भी वह फिल्म उस दिन कई बार देखी थी... कहते हैं, उस फिल्म की कहानी एक सच्ची घटना के आधार पर बनाई गई थी। उसमें सर्कस में काम करने वाली लड़की है और फौज का एक सिपाही। दोनों अपने क्षेत्रों से बाहर नहीं आ सकते, लेकिन दोनों को एक दूसरे से बेपनाह मुहब्बत हो जाती है, और उस मुहबब्त का तकाज़ा है कि दोनों को कुछ दिन साथ जरूर जीना है- दोनों अपने-अपने क्षेत्र से बाहर आ जाते हैं, और जानते हैं कि दोनों बहुत जल्दी कानून की पकड़ में आ जाएंगे, इसलिए मौत से उधार लिए हुए दिनों में, वह हर पल फूलों की आब-ताब के समान जीते हैं... २१ मई को बल्गारिया आने से पहले दिल्ली में एक अफ़वाह सुनी थी कि आजकल पंजाब में जैसे कई लोग गोलियों का निशाना बन रहे हैं, मैं भी वैसे ही किसी गोली के निशाने का लक्ष्य हूं... इसे अफ़वाह कहना ही सही है, वैसे मैंने यह बात एक विश्वसनीय सूत्र से सुनी थी... बल्गारिया का निमंत्रण स्वीकार करने की मानसिक दशा नहीं थी, लेकिन जितने भी मेरे शुभ-चिन्तक मेरे पास आए थे, उनका आग्रह था कि मैं यह निमंत्रण ज़रूर स्वीकार कर लूं... और उस समय ग्यारह बरस पहले देखी हुई स्केंडिवियन फिल्म की कहानी मेरे मानस मे घुल गई... और लगा-जिंदगी की आखरी सांस तक, फूलों की आब की तरह जीना है...बाद में बल्गारियन दोस्तों का तपाक भी फूलों को पानी देने जैसा था... लेकिन कभी-कभी घोर उदासियां भी आंखों में जो पानी नहीं ला सकती, किसी दोस्त की मुहब्बत उस पानी का बांध तोड़ देती है... ऐसी घटना दिल्ली में भी हुई थी जब खुशवंत सिंह ने कहा था-"मैं तुम्हें अकेली किसी कचहरी की पेशी में नहीं जाने दूंगा। तुम्हारे साथ रहूंगा। अगर तुम्हें किसी ने गोली मारनी है तो साथ में मुझे भी मार दें..." और ठीक ऐसी ही बात हरिभजन सिंह ने भी कही थी-'देखो, शायर के तौर पर मुझे जो हासिल करना था, कर लिया है। तालीम के क्षेत्र में भी जो पाना था, पा लिया है। और आलोचक के तौर पर भी जो प्राप्ति करनी थी, कर ली है। अब तुम्हारे साथ मरने को तैयार हूं...' और अब एकदम पराये देश में आज २५ मई की रात को जब बल्गा-रिया के सबसे प्यारे शायर ल्यूबोमीर लैवचैल ने अपने घर दावत पर बुलाया है, तो चाभियों के गुच्छे में से घर की चाभी निकाल कर मुझे थमा दी है-"यह तुम्हारा घर है, तुम्हारा जब जी चाहे, आकर खोल लिया करना !" लैवचैव के घर की चाभी मैनें अपने माते से लगा कर लैवचैव को लौटा दी, और "कहा, दोस्तो ! तुम्हारी बीवी चित्रकार है, उससे कहो कि इस चाभी का चित्र बनाकर मुझे दे दे। मैं जब तक जीऊंगी-तुम्हारे बोल की निशानी अपने पास रखूंगी।" लेकिन लेवचैव के घर की सीढ़ियां उतर कर, जब में और इमरोज़ अपने होटल के लिए कार में बैठे, तो इमरोज़ के कंधे से सिर लगा कर-मुझे रोना आ गया... सोफिया,-२५ मई, रात साढ़े बारह बजे इस बार ज़िंदगी की गनीमत वाली बात है कि बल्गारिया का निमंत्रण सिर्फ मुझे ही नहीं था, इमरोज़ को भी था, इसलिए सफ़र का एक-एक पल खुशगवार है... सोफ़िया से वार्ना जाते हुए पांच सौ किलोमिटर रास्ते का चप्पा-चप्पा फलों और फूलों से लदा हुआ देखा, तो पता लगा कि कई उजाड़ों का एक-एक एकड़ टुकड़ा, यहां की सरकार ने उन लोगों को बिना किसी मुल्य के, दिया है, जो भी अपनी मेहनत से आबाद करके रख सकतें हैं। शर्त सिर्फ एक ज़मीन पर सारी मेहनत उन्हें अपने ही हाथों से करनी है, किसी मजदूर को उजरत देकर अपने खेत या बगीचे का काम नहीं करवाना है... मैने हंस कर कमरोज़ के कहा, "चलो, यही बस जाएं ! तुम तो जाटों के पुत्र हो, खेती-बड़ी तुम्हारी नसों में है, तुम एक एकड़ ज़मीन आबाद करना, और मैं खेतों में झोंपड़ी डालकर रहूंगी, तुम्हारा खाना पकाया करूंगी..." यह दिन लाल पकी हुई चेरियों के हैं और हमने चेरियों की टोकरी भर कर कार में रखी हुई थी। इमरोज़ ने कहा,"गेहूं और मकई बीजने वाली मेहनत शायद अब मुझ से नहीं हो सकेगी, हम पूरी एक एकड़ ज़मीन में चेरियों के पौधे लगा लेंगे...रोज लाल पकी हुई चेरियां खा लिया करेंगे...तुम पक्की चेरियां तोड़ती रहा करना.." मैं भी उसी रौ में थी, कहा "हां, हम चेरियां चुनते रहेंगे, मैं कभी-कभी नज़्म भी लिख लिया करूंगी, तुम कभी-कभी पेन्ट भी कर लियो करना..." और इमरोज़ ने कहा,"फिर कभी कोई इधर से गुज़रेगा तो पूछेगा,-यहां कहीं एक शायरा की झोंपड़ी है, जो कभी हिन्दुस्तान से आई थी।" "हां, वैसे ही जैसे हमारे दामोदर ने अपनी कहानी में लिखा है कि कोई राही मक्के की ओर जा रहा था। रास्ते में रात हो गई, लेकिन उस भूखे-प्यासे राही के पास न रोटी का एक टुकड़ा था, न एक घूंट पानी, और न ही रात का कोई ठिकाना। उस समय रेगिस्तान में उसे एक झोंपड़ी नज़र आई। वहां पहुंचा तो हीर बीबी ने उसे पानी का कटोरा भर कर दिया, और कहा अभी मियां रांझा भेड़ें चरा कर लौटेगा, तो तुम्हें दुध का कटोरा दूंगी..." और मेरी बात अभी मुहं में ही थी कि इमरोज ने कहा-"वह भी तुम और मैं थे। तब मक्के के रास्ते में जाकर बस गए थे, अब इस जन्म में वार्ना जाने वाले रास्ते पर बस जाते हैं..." और हंसी-हंसी की बात एक ठंडी सांस का मोड़ मुड़ गई, मेरे मुंह से निकला, "यह सियालों और खेड़ों के कर्म हमें हर जन्म में भुगतने हैं ?"

२९ मई १९८३

अब जिस सपने से बड़ी हैरान जागी हूं, इमरोज़ की बांह पकड़ कर कितनी ही देर तक उसकी ओर देखती रह गई कि यह सपना उसे कैसे सुनाऊं ! कुछ भी लफ्जों की पकड़ में नहीं आ रहा था...हौले-हौले आधे-अधूरे लफ्जों में सुनाने की कोशिश की... "किसी दीवार में एक बहुत बड़ा शीशा लगा हुआ है...अचानक मेरा ध्यान शीशे की ओर जाता है और देखती हूँ कि सिर से पैर तक मेरी सूरत किसी मंदिर में पड़ी हुई पार्वती की सूरत जैसी हो गई है...बदन पर सफेद धोती है जिस का पल्ला सिर तक लिपटा है सिर पर लम्बे बालों का एक जूड़ा है...नक्श इसी तरह तराशे हुए...पर मेरी सूरत, आज से कुछ बरस पहले जैसी है...चेहरे पर गंभीरता आज जैसी है, पर नक्शों की जवानी आज से कुछ बरस पहले जैसी... "पत्थर की एक गढ़ी हुई मूर्ति की तरह अपने आपको देखती हूं...और खुद ही कहती हूं-आज मैंने यह कैसा भेस बनाया हुआ है ? बिल्कुल शिव की गौरी जैसा..." सपने की हैरानी और खुमारी बताई नहीं जाती....

(टीडीआईएल के हिन्दी कार्पोरा से साभार, चित्र साभार - हिन्दूऑननेट.कॉम )

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 8
  1. बेनामी1:11 pm

    nice collection..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी8:47 am

    Hardik Dhayawad Rajyasabha channel ka ki Amrita Preetam par last Sunday 28th July ko unki jivni par Rakesh Badal dwara program ka sakshi bana. Oh Priyatam Amrit tushi d great. aaj aapki lekhni parhkar sukun hua aur ek baar phir kuchh likhne ko dil kiya. Really ye jiwan kudrat ne bahut hi saral banaya hai phir hamne hi isse itna jateel kyon bana diya. Aapki ki lekhni se aisa hi lagta hai. Really aaj maalum hua ki Khuda ki beti ya aulad aisi hi hoti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. -'मेरे बाद, शायरों पर फौजदारियां करने वालों, और पवित्र अक्षरों पर गोलियां चलाने वालों से कह देना कि दुनिया में वह गोली कहीं नहीं बनी है जो सच को लग सके...

    Amrita Preetam meri pasandeeda lekhika hain .. unke jaisa likhne wala HIndi mein to koi doosra shayad hi ho .. unki bhasha shaili, urdu, punjabi aur hindustani ka anokha combination hai.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. rama sharma6:35 pm

      ekdam sahi.Amrita ji ka likha ek ek Lafz rooh se nikalta hua lagta h aur Rooh tak hi pahunchta h.

      हटाएं
  4. अमृता तुम इतनी पहले क्यूँ आई..या मैं इतनी देर में क्यूँ पैदा हुई..काश के मिल पाती तुमसे.......या कुछ तो राब्ता होता मेरा तुम्हारा..राब्ता तो अब भी है..पर तुम सितारों के पार से मुझे देखती हो और मैं यहीं कहीं खोजती फिरती हूँ तुम्हे...कभी कोई प्रार्थना कहीं सुनी जाती है तो वो सुन ले के तेरी रूह का मुझसे कुछ तो सिलसिला बना रहे.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अमृता तुम इतनी पहले क्यूँ आई..या मैं इतनी देर में क्यूँ पैदा हुई..काश के मिल पाती तुमसे.......या कुछ तो राब्ता होता मेरा तुम्हारा..राब्ता तो अब भी है..पर तुम सितारों के पार से मुझे देखती हो और मैं यहीं कहीं खोजती फिरती हूँ तुम्हे...कभी कोई प्रार्थना कहीं सुनी जाती है तो वो सुन ले के तेरी रूह का मुझसे कुछ तो सिलसिला बना रहे.

    उत्तर देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|संस्मरण_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|उपन्यास_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|लोककथा_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3979,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2948,कहानी,2216,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,520,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1197,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1992,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,697,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,772,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: अमृता प्रीतम के इमरोज के नाम चंद पत्र
अमृता प्रीतम के इमरोज के नाम चंद पत्र
http://tbn0.google.com/images?q=tbn:edhcuA14L9EGyM:http://www.hinduonnet.com/thehindu/mag/2005/11/13/images/2005111300030101.jpg
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2008/06/blog-post_12.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2008/06/blog-post_12.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ