रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

प्रभा मुजुमदार् की दो कविताएं

दो कविताएं Two Poems by Prabha Mujumdar

sanja 1

-प्रभा मुजुमदार

1

समुन्दर की

उफनती लहरों ने

मन के अनजान द्वीपों को

जहां बसती थी

सुप्त आकांक्षाएं

काल और सीमाओं से

अपरिचित, अपरिभाषित

जिंदगी की

आपाधापी से बेखबर

पिछड़ी हुई

पत्थर युगीन बस्तियां

आदिम और अभावग्रस्त

फिर भी

निजता के आग्रह

और अहंकार से ग्रस्त

छोटे छोटे बिन्दु

अपनी शर्तों पर

समॄद्धि का समुद्र

जगने नहीं देगा

अछूते और एकाकी

बिंदुओं जैसे द्वीप

विश्व विजय को आतुर

अश्वमेघ का कुचक्र

बीती सभ्यताओं के

भग्नावशेषों को

मिटा देने को बेताब

एकान्त और अप्रासंगिक

पिछड़े और पराजित

होने की व्यथा

इतिहास के लंबे दौर में

जीने के बावजूद,

विशाल भूखंड से

छितर बिखर कर

निर्वासित एकाकी द्वीप

सत्ता की उद्दाम लहरों के बीच

कब तक रह सकते हैं

नक्शे पर

आकार बचा कर ।

2

समुद्र कोई भी हो

भूखंडों को

निगल जाना चाहता है

उन्हीं भूखंडों को

जहां जगते हैं सपने

वर्तमान और अतीत भी

गरजती | फुफकारती लहरों में

डुबो देना चाहता है

बालू के घरौंदे

इरादों की चट्टानें

स्मॄतियों के चिन्ह

समुद्र सब कुछ

समेट लेना चाहता है

अपने तल में

आकाश के

अपरिमित विस्तार के नीचे

किनारों को तोड़, देने के लिये

व्याकुल

गरजता है समुद्र

अथाह गहराई में

अनमोल संपदा संजोये

लहरों के उछाल के साथ

आकाश को भी

छू लेना चाहता है

विश्व विजय के लिये

अश्वमेघ को निकले

किसी आक्रामक | महत्वाकांक्षी

सम्राट की तरह

धरती और आकाश के बीच

लहराता है समुद्र ।

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget