गुरुवार, 27 नवंबर 2008

सूरज तिवारी मलय की कविता : हसरत

suraj tiwari

बनना चाहता हूं

मैं भी, बारिश की

छोटी बूंद

ताकि बुझा सकूं

सूखी हो रही

धरती की प्‍यास

बुझा सकूं प्‍यास

उन किसानों की

जो आज भी आश्रित हैं

बारिश के मेघों पर ॥

बूंद बन बरसने की

चाहत है

बंजर मरूभूमि पर भी

ताकि उग आएं वहां भी

छोटे छोटे पौधे

बरसना चाहता हूं

बूंद बनकर

उन खेतों में

जहां किसानों की

गिरती हैं श्रम की बूंदें ।

जहां से उपजता है

अन्‍न, न सिर्फ अमीरों के लिए

बल्‍कि भारत के

उन गरीबों के लिए भी

जिनकी भूख मिट जाती है

सिर्फ रोटी और नमक खाकर ॥

काष मैं ऐसा कर पाता ॥

-----

सूरज तिवारी मलय

सहसचिव मनियारी साहित्‍य समिति , लोरमी

जिला-बिलासपुर छत्‍तीसगढ

E-mail - surajtiwarimalay@yahoo.com

surajtiwarimalay@gmail.com

surajtiwarimalay1@rediffmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------