रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

साबिर घायल की ग़ज़ल – दर्द उठता है मजा देता है

 Image071

दर्द उठता है मज़ा देता है !
ये भी नेमत है खुदा देता है !!


ज्यों ही लिखता हूँ तेरा नाम मुक़द्दर में !
कोई आ के लकीरों को मिटा देता है !!


कभी तेरी यादें चैन से रहने नहीं देतीं !
कभी तेरा ख्याल चुपके से सुला देता है !!


मुझसे ज़्यादा मुझे जानता है वो !
हर कदम पर मुझे मेरा पता देता है !!


इस्लाह पसंद नहीं शायद उसको !
इसीलिए हर बात पे तूफान उठा देता है !!


ग़मे उल्फत, दर्द, बेक़रारी, बेचेनी !
देने वाला देता है तो क्या -क्या देता है !!


दोनों ही करते हैं काम अपना बराबर !
मैं बुझाता हूँ शरारे वो हवा देता है !


मैं मसीहा कहूँ उसको या कुछ और "घायल"
दर्द यूँ देता है कि लगता है दवा देता है !!
----

साबिर घायल
बुंदेला नगर दातिया

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

"दर्द यूँ देता है की दवा देता है " घायल की गजल गजब ढा गई. रचनाकार व गजलकार को हार्दिक बधाई. Deendayal sharma,Hanumangarh Jn.-335512, Rajasthan. http://tabartoli.blogspot.com

bahut shandaar gajal hai , badhai!!

दर्द उठता है मज़ा देता है !
ये भी नेमत है खुदा देता है !!
ज्यों ही लिखता हूँ तेरा नाम मुक़द्दर में !
कोई आ के लकीरों को मिटा देता है !!

बहुत सुंदर ग़ज़ल भावों की उत्तम अभ्व्यक्ति
बधाई स्वीकारें

वो लिख तो देता तेरा नाम मेरे हाथों की लकीरों में
पर खुदा मेरे हाथ में लकीरें बनाना भूल गया ...
खूबसूरत ग़ज़ल ...मुबारकबाद स्वीकार करें

ज्यों ही लिखता हूँ तेरा नाम मुक़द्दर में !
कोई आ के लकीरों को मिटा देता है !!

khoobsurat sher raha gazal ka

बेनामी

vah sabir,
badhaiyan.
rajnarayan bohare

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget