रविवार, 20 दिसंबर 2009

दीनदयाल शर्मा की बाल कहानी – पापा झूठ नहीं बोलते

Deendayal Sharma (WinCE)

मां-बाप की इकलौती बेटी सुरभि। उम्र लगभग ग्यारह साल। कद चार फुट, चेहरा गोल, आंखें बडी-बडी, रंग गोरा-चिट्टा, बॉब कट बाल, स्वभाव से चंचल एवं बातूनी।-

सुरभि के पापा एक सरकारी स्कूल में अध्यापक हैं और उसकी मम्मी एक प्राइवेट स्कूल में अध्यापिका। छोटा सा परिवार और छोटा सा घर।-

सुरभि पांचवीं कक्षा में पढ़ती है। पढ़ने के साथ-साथ चित्रकारी करना, डॉस करना, पहेलियां बूझना, टीवी देखना, कहानियाँ सुनना और अपने पापा से नई-नई बातें जानना उसका शौक है।-

‘पापा, आज आप स्कूल से जल्दी कैसे आ गए ?’ अपना बस्ता बैड पर रखते हुए सुरभि ने पूछा।-

-‘बस, यूं ही बेटे।’-

‘यूं ही क्यों पापा ?’

‘बस... यूं ही आ गया, मेरी बेटी से मिलने।’ कहते हुए पापा ने सुरभि को अपनी बांहों में उठा लिया।-

‘पापा, आप मुझे बहुत अच्छे लगते हो।’ सुरभि ने पापा के गले में बांहें डालते हुए कहा।-

‘तुम भी तो मुझे बहुत अच्छी लगती हो।’-

‘बड़ा लाड़-प्यार हो रहा है बाप-बेटी में।’ सुरभि की मम्मी ने घर में घुसते हुए कहा।-

‘देख भई सुरभि, तेरी मम्मी तो फुंफकारती हुई ही आती है।’ उसके पापा ने हंसते हुए कहा तो सुरभि भी हंस दी।-

‘इतना सिर पर मत बिठाओ लाड़ली को।’ कहते हुए सुरभि की मम्मी ने अपना बैगनुमा पर्स कील पर टांका और आइने के सामने से बड़ा कंधा उठा कर अपने बालों को संवारने लगी।-

‘लो आते ही संवरने लग गई महारानी... थका हारा आया हूं... थोड़ी चाय बना लो भई।’-

‘तो मैं कौन सा आराम करके आ रही हूं।’-

‘चाय मैं बनाऊं पापा ?’ सुरभि बोली।-

‘नहीं बेटा, तुम्हारी मम्मी के हाथ की ही पियेंगे।’-

‘मेरे हाथ की तो पी लेना लेकिन कभी बेटी को भी बनाने दो। नहीं तो न जाने आगे इसे कैसा घर मिलेगा।’-

‘अरे अभी से क्या चिंता करती हो। अभी इसकी उम्र ही क्या है।’-

‘उम्र आते देर लगती है क्या। पर आपको तो....।’ तभी बात को काटती हुई सुरभि बोली, ‘मेरी प्यारी-प्यारी मम्मी, चाय मैं बनाती हूं।’-

‘नहीं बेटे... तू बैठ... चाय तो तेरी मम्मी के हाथ की ही पीनी है।’ दबी मुस्कान के साथ उसके पापा ने कहा तो सुरभि भी शरारती मुस्कान बिखेरती हुई वापस बैठ गई।-

सुरभि की मम्मी चाय बनाने रसोई में चली गई तो उसके पापा कुछ ऊंची आवाज में बोले, ‘हां तो बेटे, अब बता तेरे नये वाले स्कूल में पढ़ाई ठीक चल रही है ना ?’

‘हां पापा, ये वाला स्कूल बहुत अच्छा है। सारे सरजी समय पर आते हैं और बढ़िया पढ़ाते हैं। हिन्दी वाले हैं ना जनक सरजी, वे तो मजेदार कहानियां भी सुनाते हैं। आज तो स्कूल में बड़ा मजा आया पापा।’ आंखें मटकाते हुए सुरभि ने कहा।-

‘कैसे बेटा ?’ पापा ने पूछा।-

‘आज है ना पापा, सातवें पीरियड में है ना... टन-टन-टन-टन घंटी बजी तो हम सब बच्चे अपना अपना बस्ता लेकर बाहर आ गये। हमने तो सोचा था कि छुट्टी हो गई लेकिन वहां तो मामला ही कुछ और था।’-

‘क्या था बाहर ?’-

‘बाहर है ना... बाहर मेरी सहेली कंचन की बुआजी थाली बजा रही थी।’ हाथों को झटकाते हुए सुरभि ने कहा।-

‘फिर ?’

‘इत्ते में सरजीभी आ गये और बडे सरजी भी आ गये। फिर हम सब बच्चे अपनी अपनी कक्षा में चले गये। पापा, आपको पता है कंचन की बुआजी थाली क्यों बजा रही थी ?’-

‘नहीं तो।’-

‘बस... इतना भी हनीं पता... कंचन के हैं ना...कंचन के घर भैया आया है... नन्हा सा भैया। ’-

‘अच्छा।’-

‘पापा, जब मैं नन्हीं सी थी तो मेरी बुआजी ने भी थाली बजाई थी ना ? पापा बोला ना... जब मैं नन्हीं सी थी तो मेरी बुआजी ने भी थाली बजाई थी ना?’-

‘अं...आं...हां...हां बेटा।’-

‘पापा, जोर से बोला तो। पापा, मेरी बुआजी ने थाली बजाई थी ना ?’-

‘हां तो... हां, तेरी बुआजी ने थाली बजाई थी बेटा।’-

‘लेकिन पापा, कंचन तो कहती कि जब घर में लड़की आती है ना, तो थाली नहीं बजाते। पापा, क्या ये बात सही है ?’

‘अरे भई, कंचन को क्या पता।’ सुरभि का चुम्बन लेते हुए पापा ने प्यार से कहा।-

‘बच्ची के सामने झूठ क्यों बोल रहे हो जी। ’ चाय का प्याला रखते हुए सुरभि की मम्मी ने कहा तो सुरभि तुनक कर बोली, ‘नहीं मम्मी, पापा झूठ नहीं बोलते...मेरी सहेली है ना कंचन... वह झूठी है। हैं ना पापा?’

सुरभि के इतना पूछते ही उसके पापा का गला रूंध गया। उन्होंने बेटी को बांहों में लेते हुए रूंधे गले से कहा, ‘कंचन सच्ची है बेटा... कंचन सच्ची है। मैं तो तुझे खुश करने के लिए झूठ बोल गया थ। मुझे माफ कर दो बेटा। मुझे माफ कर दो।’-

-दीनदयाल शर्मा, 09414514666

- http://www.tabartoli.blogspot.comclip_image001

6 blogger-facebook:

  1. Sharmaji
    Bahut hi sadharan lagi. Aapki lekhni se hamesha gahan kahaniya padhi h. Aap ke likhne v suchit karne par dhanyavad.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जाने माने बाल साहित्यकार दीनदयाल शर्मा की बाल कहानी .....पापा झूट नहीं बोलते....रचनाकार पर देखी पढ़ी, बाल मन की सशक्त कहानी के लिए आपकी ब्लॉग और लेखक दीनदयाल को हार्दिक बधाई. नरेश मेहन, राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाल कथाकार दीनदयाल शर्मा की कहानी "पापा झूठ नहीं बोलते " पढ़ कर बेहद अच्छा लगा. बेटी के साथ जन्म से ही भेदभाव शुरू हो जाता है. कैसी विडम्बना है. अब तो देश में बेटिओं की संख्या कम हो रही है. इससे हम सबको प्रेरणा लेनी चाहिए.बेटा बेटी एक सामान ही समझना चाहिए. एक स्तरीय कहानी के लिए बाल कथाकार दीनदयाल जी को बहुत बहुत बधाई और "रचनाकार" ब्लॉग का भी धन्यवाद्. -रितुप्रिया जोशी, जोधपुर, राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  4. राजस्थान के सुप्रसिद्द बाल साहित्यकार दीनदयाल शर्मा की बाल कहानी (पापा झूठ नहीं बोलते ) इतनी अच्छी लगी कि इसे बार बार पढ़ने को मन करता है. बाल सुलभ कहानी में बच्चों के मन की बात को बहुत ही सहज ढंग से प्रस्तुत किया है. दीनदयाल शर्मा के साथ साथ रचनाकार की पूरी टीम को बधाई. सतीश गोल्यान, जसाना, हनुमानगढ़, राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  5. रचनाकार में दीनदयाल शर्मा जी की बाल कहानी पापा झूठ नहीं बोलते पढ़कर मजा आ गया. वाह ! रचनाकार ब्लोगवालों को बधाइयाँ . मानसी शर्मा , नेशनल पब्लिक स्कूल, हनुमानगढ़, राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  6. prenadayak kahani........jo sochne per majboor karti hain
    ----vikas srivastava, Anpara, Sonebhadra(U.P)

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------