आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

कान्ति प्रकाश त्यागी की हास्य व्यंग्य कविता : मैं और मेरी परछाई

Image006 (Mobile)

परछाई

डा० कान्ति प्रकाश त्यागी

मैं और मेरी परछाई
क्या है?, समझ न आई
भ्रमित करती यह परछाई
भूत बन डरा रही परछाई

परछाई में छिप गई परछाई 
परछाई में दिख रही परछाई
जहां देखूं, वहां पाऊं परछाई
ये मुझको छल रही परछाई

कभी साथ साथ चलती है
कभी पीछे पीछे चलती है
कभी दांये ओर चलती है
कभी बांये ओर चलती है

कभी आगे आगे चलती है
अचानक गायब हो जाती है
अचानक वापिस आ जाती है
एक के अन्दर एक चलती है

अन्धेरे का अहसास दिलाती है
उज़ाले का अहसास दिलाती है
परछाई, रात में साथ छोड़ देती है
अपनी जगह, तन्हाई छोड़ देती है

तन्हाई कहती, तुम्हें परछाई की याद क्यूं
परछाई को गुस्सा, तुम तन्हाई के पास क्यूं
मैं बहुत परेशान, इन्हें आपस में द्वेष क्यूं
दोनों को प्रेमी हूं, फिर इतना अविश्वास क्यूं

जब सबने साथ छोड़ा, दुनिया ने की रुसवाई
ऐसा भी समय आया, न परछाई, न तन्हाई
दोनों ने मिल कर मुझ से की थी बेवफाई
हमारी हमारे अहसास से हो गई जुदाई

  अपने से ज़्यादा बुरा कौन,
औरों की कम करता बुराई
हर बात पर लगता इल्ज़ाम
इसलिये नहीं देता सफ़ाई
तू न समझेगा, यह गहराई

तू जहां जहां चलेगा प्रिय
वहां वहां चलेगी तेरी परछाई
मुझे छल रही परछाई
मुझसे जल रही तन्हाई
यह दुनिया है हरज़ाई
मैं और मेरी परछाई

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.