आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

अविनाश सैनी की कविता - बात की बात

bhawna navarang 5 (Mobile)

हरियाणा में युवाओं की नहीं है अब कोई खैर

खापियों से मोल ले लिया उन्‍होंने ऐसा बैर

मोल ले लिया बैर, कि हक से जीना चाहते

इसीलिए बेमौत, रोज़ कई मारे जाते

ले कानून हाथ में इनके पीछे पड़ गई खाप

अपने घर में पूछ न जिनकी, बन गए सबके बाप

 

हरियाणा में युवाओं का जीना है दुश्‍वार

मँहगा पड़े है उनको करना एक दूजे से प्‍यार

मँहगा पड़े है प्‍यार, जान पर है बन आती

उनके जज़्‍बातों को दुनिया समझ न पाती

राधा-किशन के भक्‍त है देखो कैसे अत्‍याचारी

झूठी शान के नाम पे रौंद रहे हैं खिलती क्‍यारी॥

 

हरियाणा में बनी हैं खापें, देखो खुद भगवान

शादी रोकें, रिश्‍ते तोड़ें, मौत का दें फरमान

मौत का दें फरमान, बचाएं हत्‍यारों को

रोज नई धमकी देती हैं सरकारों को

लोकतंत्र का गला घोंट, संविधान को रही नकार

कमजोरों का बिना बात करती जीना दुश्‍वार॥

---

 

अविनाश सैनी

1355/21 चुन्‍नी पुरा, रोहतक।

--

(चित्र – भावना नवरंग की कलाकृति)

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.