गुरुवार, 15 जुलाई 2010

अपर्णा भटनागर की कविता

ये डर क्यों -
सारे अवसाद तुम्हारे हिस्से ?
परत जमाते ....शनैः शनैः
टिक गए हैं
समय के धरातल पर !
नुकीले
पथरीले
बलुआ
दुखों के जीवाश्म
सर्द बर्फ
एकाकी
बर्फीली चट्टान
पालथी मारे पसरे हो
सीने में दबाये
अवरुद्ध लावे को .....?
आहत हो ?
श्रांत ?
क्लांत ?
अपने इस "मैं " में झाँक कर देखो -
एक हिलोर
पारदर्शी
उज्ज्वल
मधुर पयस्विनी
शीतल
शुभ्र निर्मल
तनिक मीठी
गंगा प्रवाहिनी है
चट्टानों की तह ऐसी ही होती है .....
एक अंकुर- भर
अंजुरी-भर चाह !

2 blogger-facebook:

  1. भावपूर्ण अभिव्यक्ति. shabdo ka sunder sanyojan.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर मर्मस्पर्शी कविता ,बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------