शनिवार, 14 अगस्त 2010

हरीश नारंग की देश भक्ति पूर्ण रचना : हमें वतन पे मान है

clip_image002

हमें वतन पे मान है

गर्व से कहते हैं हम, हमें वतन पे मान है,

सारे जहां से अच्छा देश, अपना हिन्दुस्तान है ।

एक मां के जाए हैं, हम हिन्द की संतान है,

चाहे सिख-ईसाई, चाहे हिन्दु-मुसलमान हैं,

एक हाथ में है गीता, एक में कुरान है ।

गर्व से कहते हैं हम----------------------

 

भेद भाव कुछ नहीं है, भाईचारा है यहां,

मन्दिर, चर्च, मस्ज़िद है, गुरुद्वारा है यहां,

अपने वतन में हर धर्म का, एक सा सम्मान है ।

गर्व से कहते हैं हम-----------

 

इतिहास दे रहा गवाही, कह रहा कहानियां,

कैसे कैसे वीरॊं ने, दी हैं यहां कुर्बानियां,

स्वर्ण अक्षरॊं में लिखीं, उनकी दास्तान है ।

गर्व से कहते हैं हम----------------

 

भिन्न भिन्न धर्म-जात, प्रांत व प्रदेश हैं,

भाषायें अनेक यहां, ऒर अनेक भेष हैं,

अनेकता में एकता, हमारी पहचान है ।

गर्व से कहते हैं हम-------------------

--

हरीश नारंग
१५, अरावली अपार्टमेंट्स
अलकनंदा, कालकाजी
नई दिल्ली -१९

3 blogger-facebook:

  1. एक अच्छी कविता समय के अनुसार बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने
    बहुत उम्दा पोस्ट लगाई है।
    लोकहित की बात उठाई है।
    स्वतंत्रता दिवस की
    हार्दिक बधाई है ॥
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना.... सुन्दर सन्देश| स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये|

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------