नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

हरेन्द्रसिंह रावत की स्वतंत्रता दिवस रचनाएँ

स्वतंत्रता दिवस २०१०

पिछले ६३ सालों से,

कुछ काले कुछ सफेद बालों से,  

लेकर तिरंगे को

लाल किले की प्राचीर पर,

लहर लहर लहराने को,

हर साल हर बार प्रधान मंत्री

शासक प्रशासक,

मंत्रियों का दल

सुरक्षा को इनकी

सुरक्षा बल !

सैनिक टुकड़ी,

प्रधान मंत्री को

सेलयूट देती है,

जनता खुश होकर ताली बजा लेती है !

 

फिर लंबा चौड़ा भाषण,

माओवाद, आतंकवाद का ख़ात्मा,

स्वर्ग में सुखी रहे शहीदों की आत्मा !

महँगाई हटेगी,

चीनी चावल मुफ़्त बँटेगी !

सबको नौकरी मिलेगी,

ग़रीबी रेखा और ऊँची उठेगी !

वरिष्ट नागरिकों की हिफ़ाज़त होगी,

हर क्रिमिनल नेता की सुरक्षा बढ़ेगी !

 

कामचोर, रिश्वतखोर, हत्यारे, अपराधी,

सरकार से हटाए जाएँगे,

उनके बीबी बच्चे उनका स्थान पाएँगे !  

रोटी कपड़ा मकान हर ग़रीब को दिलाएँगे,

झुग्गी झोपड़ी हटा कर मल्टी स्टोरी बनाएँगे ! 

हर भ्रष्टाचारी नेता को सबक सिखाएँगे, 

काले धन से उसका बैंक बैलेंस बढ़ाएँगे ! 

हम देश को हर क्षेत्र में ऊँचा उठाएँगे

की अगले दस सालों में

हम विश्व में नंबर वन कहलाएँगे !

 

बंदे मातरम का गीत गाया जाता है,

किसी किसी को साँप सूंघ जाता है !

इसी तरह स्वतंत्रता दिवस हर साल आता है,

हर्ष उल्लास के साथ इसी तरह मनाया जाता है !! 

---

 

लघुकथा

आज़ादी

एक बड़ा नेता, बड़ी बड़ी मूँछ वाला नेता, ऊँची नाक वाला नेता १५ अगस्त का तिरंगा झंडा लहराने के लिए परेड करने वाले जवानों से सलूट लेने के लिए जा रहा था, एक मंहगी कार में !

उसकी कार के आगे एक बूढ़ा असमर्थ लाचार भूखा आदमी आ खड़ा हुआ, दो रोटी के लिए पैसे माँगने लगा, "बाबू जी दो दिन से भूखा हूँ, दो रोटियों का जुगाड़ कर दीजिए"

नेता आग बाबूला हो गये, सुरक्षा गार्ड को बुलाकर कहने लगे,"इसे भगाओ" !

उसी समय सामने चार जवान लड़के नारे लगाते हुए सामने आ गए, "नेता की हाय हाय, देश भूखमरी, मंहगाई से गुजर रहा है और, ये जनता के पैसो पर ऐस कर रहे हैं, क्या इसी को आज़ादी कहते हैं ?"

नेता ने सुरक्षा गार्ड को बुलाया और कहा, "इन्हें पटाओ" !

----

( हरेन्द्रसिंह रावत यू एस ए )

2 टिप्पणियाँ

  1. कविता और लघुकथा दोनों ही करारा व्यंग करती है| सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये|

    जवाब देंहटाएं
  2. दोनों रचनाएँ सटीक ...

    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.