सोमवार, 30 अगस्त 2010

सूरज प्रकाश का संस्मरणात्मक आलेख : कहानी की चोरी और चोरी की कहानी

 

image

कथाकार तेजेन्‍द्र शर्मा ने कुछ दिन पहले एक ई-मेल भेज कर सब दोस्‍तों को बताया था कि कहानीकार राजीव तनेजा ने उन्‍हें बताया है कि किसी ने उनकी (राजीव तनेजा की) चार कहानियां चुरा ली हैं। तेजेन्‍द्र जी ने इस मुद्दे को सार्व‍जनिक करते हुए मित्रों से इस मामले से जुड़े नैतिकता , अनैतिकता , चोरी और सीनाजोरी , मूल लेखक के प्रति आभार मानने जैसे सवालों के जवाब चाहे हैं और एक तरह से इस मामले पर रोचक बहस छेड़ी है।

कुल मिला कर किस्‍सा मज़ेदार है और इस पर बहस की जा सकती है।

शायद तेईस चौबीस बरस पहले की बात रही होगी। तब कमलेश्‍वर जी गंगा नाम की एक पत्रिका के संपादक हुआ करते थे। उसी गंगा में एक दिन गरमागरम मुद्दा उछला। प्रसिद्ध कहानीकार , नाटककार और उपन्यासकार स्‍वदेश दीपक जी ने एक बांग्‍ला लेखक (इस समय लेखक का नाम याद नहीं आ रहा है।) पर आरोप लगाया था कि उस लेखक ने दीपक जी की कहानी बाल भगवान (बाद में इस कहानी पर नाटक भी आया था।) को चुराया है और उस पर बांग्‍ला में देवशिशु नाम से कहानी लिखी है।

कमलेश्‍वर जी ने इसे एक सार्वजनिक बहस का मुद्दा बनाया और अपनी पत्रिका के जरिये एक तरह की मुहिम शुरू कर दी कि इस तरह की साहित्यिक चोरी के खिलाफ क्‍या किया जाना चाहिये। कमलेश्‍वर जी ने यहां तक किया था कि पाठकों को दीपक जी के पक्ष में मुफ्त पत्र तक भेजने की सुविधा दे डाली थी और इन पत्रों का भुगतान गंगा पत्रिका द्वारा किया जाता।

बाद में पता चला था कि देवशिशु के लेखक की बहुत पहले इसी नाम से इसी कहानी पर आधारित बांग्‍ला फिल्‍म भी आ चुकी थी। वे फिल्‍में अलग नाम से बनाते थे और लेखन अलग नाम से करते थे। अब चोरी का मामला उलटा पड़ चुका था और नये मोड़ के हिसाब से बाल भगवान की कहानी देवशिशु से चुरायी गयी थी।

मुझे ठीक से याद नहीं कि बाद में पूरे मामले का क्‍या हुआ लेकिन राजीव तनेजा के मामले से उस मामले की याद हो आना स्‍वाभाविक ही था।

फिलहाल इसी मामले पर बात करें। न तो राजीव जी ने और न ही तेजेन्‍द्र ने ही बताया है‍ कि कहानी (एक नहीं चार कहानियां) किस स्‍तर पर चुरायी गयीं। हम यहां चार स्थितियों की कल्‍पना कर सकते हैं।

स्थिति एक : राजीव जी किसी दारू पार्टी में अपने कहानीकार दोस्‍तों को अपनी नयी कहानियों के प्‍लॉट सुना रहे थे और ये प्‍लॉट ही पहली बार दूसरे लेखक या लेखकों की कहानियों के रूप में सामने आये। नशा उतरने पर या अपने प्‍लाटों पर दूसरे के बसे घरों को देख कर (खोसला का घोंसला) उन्‍होंने पाया कि वे लुट चुके हैं।

स्थिति दो : राजीव जी अपनी कहानियां लिख चुके थे और किन्‍हीं मित्रों को पढ़ने या सुधारने के लिए दीं और ये कहानियां वापसी में राजीव के घर का पता भूल कर अलग अलग पत्रिकाओं के दफ्तर में जा पहुंची और बेवफा सनम की तरह दूसरे लेखकों का वरण करके उनके नाम से छप गयीं।

स्थिति तीन : ये भी हो सकता है कि राजीव जी ने अपनी कहानियां टाइप करने के लिए किसी टाइपिस्‍ट को दी हों और पैसों के अभाव में अपनी कहानियां वहां से उठवा न पाये हों। अब टाइपिस्‍ट ने अपना मेहनताना वसूल करने के लिए सिर्फ टाइपिंग की कीमत पर से कहानियां किसी दूसरे लेखक को टिका दी हों (दर्जी आम तौर पर यही करते हैं।) ये भी हो सकता है कि टाइपिस्‍ट खुद उभरता लेखक रहा हो और कहानियां अपने नाम से छपवा डाली हों।

स्थिति चार : राजीव जी की छपी हुई कहानियां ही किसी पहलवान छाप लेखक ने अपने नाम से दूसरी पत्रिकाओं में छपवा ली हों। क्‍या कर लेगा राजीव।

हो सकता है मेरे पाठकों को इसके अलावा कोई और स्थिति भी सूझ रही हो। मुझे जरूर बतायें।

ऐसा मेरे साथ भी हो चुका है। एक ही कहानी की दो बार चोरी। अलग अलग भाषाओं में।

बताता हूं आपको।

1989 में हँस में मेरी कहानी ये जादू नहीं टूटना चा‍हिये छपी थी। कहानी काफी चर्चित रही और कई भाषाओं में अनूदित हुई। शायद 1998 की बात होगी। मेरे एक गुजराती मित्र , जो मेरी ये कहानी गुजराती में पहले ही पढ़ चुके थे , ने फोन करके बताया कि ये कहानी भारतीय विद्या भवन की गुजराती पत्रिका नवनीत में छपी है और मूल लेखक की जगह किसी मुसलमान लेखक का नाम है। हिंदी से अनुवाद में बेशक किसी गुजराती अनुवादक का नाम है। मेरे मित्र ने जब उस कहानी की फोटोकापी मुझे दी तो मैं हैरान रह गया। कहानी के अंजर पंजर ढीले कर दिये गये थे। कहानी की अंतिम पंक्ति जो पूरी कहानी की दिशा तय करती थी और मेरे लिए और पाठक के लिए भी बहुत मायने रखती थी , बदली जा चुकी थी। मैंने बहुत निराश हो कर नवनीत के संपादक को पत्र लिखा और अपने पत्र के साथ अपनी मूल कहानी , गुजराती में पहले से अनूदित पाठ और अब नवनीत में छपी कहानी की कापी भेजी और जानना चाहा कि किसी भी रचना का अनुवाद छापने के लिए उनके क्‍या नियम हैं।

ये सरासर चोरी का मामला था।

जब कई दिन तक कोई जवाब नहीं आया तो मैंने फोन पर ही बात की। उनके उत्‍तर गोल मोल थे और कहीं से भी मुझे संतुष्‍ट न कर सके। हार कर मैंने अनुवादक का पता और फोन नम्‍बर मांगा। अनुवादक ने जो कुछ बताया , उस पर सिर ही धुना जा सकता था। मैंने भी वही किया। अनुवादक ने बताया कि वह राह चलते फुटपाथ से रद्दी में हिंदी पत्रिकाएं खरीदता है और कोई कहानी अच्‍छी लगने पर उसका अनुवाद कर लेता है। ये कहानी उसने सरिता नाम की मैगजीन के‍ किसी पुराने अंक से ली थी। जब मैंने पूछा कि हिंदी में कहानी क्‍या इसी रूप में और इसी अंत के साथ छपी थी और क्‍या वे मुझे सरिता का वह अंक दे सकते हैं। अनुवादक के जवाब किसी भी लेखक को आत्‍म हत्‍या करने के लिए प्रेरित कर सकते थे। मैंने वह नहीं की। उसने बताया कि वह अनुवादक के रूप में अपनी जिम्‍मेवारी समझता है और जो खुद उसे अच्‍छा नहीं लगता या समझ में नहीं आता , उसे बदल डालता है और अपने हिसाब से तय करता है कि कहानी का अंत क्या होना चाहिये। मेरी कहानी के साथ भी उसने यही किया।

जहां तक सरिता का वह अंक मुझे देने की बात थी , अनुवादक महोदय ने बताया कि वे अपना काम हो जाने के बाद पत्रिकाओं को वापिस रद्दी में बेच देते हैं।

अब मेरे पास अपनी ही कहानी , जो किसी और के नाम से सरिता में छप चुकी थी , पढने का एक ही जरिया था कि पिछले 10 बरस के सरिता के सभी पुराने अंक खंगालूं और चोर लेखक को और सरिता के संपादक मंडल को प्रणाम करूं। ये सब करना संभव नहीं होता। मैंने भी नहीं किया। सरिता , चोर लेखक और चोर अनुवादक को बधाई दी जिन्‍होंने बेशक मेरी कहानी को खराब करके ही सही , और पाठक दिये।

हमारे आफिस में कर्मचारियों के लिए हर बरस पत्रिकाएं छापी जाती हैं। इस बार एक वरिष्‍ठ कर्मचारी ने बच्‍चन जी की एक चर्चित कविता अपने नाम से छपने के लिए दी। मैंने उस नवोदित कवि से पूछा कि ये कविता बच्‍चन जी के नाम से छपेगी , कर्मचारी के नाम से छपेगी या दोनों के नाम से। जवाब में हुआ ये कि कर्मचारी ने चपरासी को भेज कर कविता वापिस मंगवा ली।

राजीव जी , मन छोटा न करें। हम मायानगरी मुंबई में रहते हैं और रोज़ाना पचासों गीतों , आइडियाज़ , धुनों , सिचुएशनों , पूरी की पूरी फिल्‍म की चोरी की घटनाएं सुनते पढ़ते हैं। चोरी तो होती ही है और जब चोरी एक बार से ज्‍यादा बार होती है , ये तय करना मुश्‍किल हो जाता है कि पहले चोरी किसने की। पहले अ ने अंग्रेजी धुन चुरायी और फिर ब ने अ द्वारा चुरायी धुन को अपनी बना कर अपना कहा या उसने भी मूल अंग्रेजी से चुरायी फिर अपना कहा , कहना मुश्किल होता है।

राजीव जी , किसी ने आपका आइडिया चुराया तो क्‍या चुराया। विश्‍व भर के लेखक सदियों से चले आ रहे उन्‍हीं ग्‍यारह आइडियाज़ में से अपने काम का आइडिया ले कर पूरा जीवन लेखन करते हैं। अब आप ही बतायें कि मेरे घर में मौजूद बूढ़े पिता पर लिखी गयी मेरी कहानी गोविंद मित्र द्वारा अपने पिता पर लिखी गयी कहानी से बहुत जुदा कैसे हो सकती है जबकि सच तो ये है दो अलग अलग घरों में दो अलग अलग बूढ़े एक ही वक्‍त को कमोबेश एक ही तरीके से जी रहे हैं। सिर्फ कहानी का ट्रीटमेंट ही एक कहानी को दूसरी कहानी से अलग करता है।

छपी हुई कहानी चुरायी , पढ़ने के लिए या टाइपिंग के लिए दी कहानी अपने नाम से छपवा ली तो आपके पास तो प्रूफ होगा कहानी को अपना कहने के लिए। चढ़ बैठिये , चोर के सीने पर और कीजिये एक्‍सपोज उसे।

बात खत्‍म करने से पहले अपनी ही एक और कहानी का उदाहरण देता हूं। मैंने अपनी पत्‍थर दिल कहानी 1992 में लिखी थी और मेरा आरोप है कि बी आर चोपड़ा जी ने इस कहानी के लिखे जाने से 25 बरस पहले ही इस पर अपनी मशहूर फिल्‍म गुमराह बना ली थी। बेशक उसमें फिल्‍मी लटके झटके डालने के लिए बहुत सारे चेंजेज किये थे। ये बात अलग है कि गुमराह मैंने पहली बार पिछले हफ्ते ही देखी और बी आर चोपड़ा ने मेरी कहानी शायद ही पढ़ी हो। बेशक उनकी फिल्‍म और मेरी कहानी की बेसिक थीम एक ही है।

सूरज प्रकाश

www.surajprakash.com

--
mail@surajprakash.com
kathaakar@gmail.com

8 blogger-facebook:

  1. रोचक आलेख। लेखकों और खासतौर पर संपादकों को इस संबंध में सजग होना पड़ेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोचक जानकारी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सूरज प्रकाश जी
    चौर्य कर्म से निज़ात कैसे मिले इस अंतर्ज़ाल को

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय सूरज प्रकाश जी, नमस्कार ..आपने मेरी चार कहानियों की चोरी के मुद्दे को इस पोस्ट के माध्यम से जो अपने ब्लॉग पर स्थान दिया है…इसके लिए मैं आपका और तेजेन्द्र शर्मा जी का बहुत-बहुत आभारी हूँ|

    मेरी सभी कहानियों की चोरी में आपके द्वारा व्यक्त की गयी पहली तीनों संभावित स्तिथियाँ नहीं रही हैं… क्योंकि दारू मैंने कभी पी नहीं…और इसे फूटी किस्मत कह लें या फिर कुछ और कि पत्र-पत्रिकाओं तक मेरी कहानियों को पहुँचने का कभी सौभाग्य प्राप्त हुआ नहीं..हाँ!…अलबत्ता मैं नैट पर ही ज्यादा सक्रिय रहा हूँ और नवभारत टाईम्स ऑनलाइन के पाठक-पन्ना सैक्शन के अंतर्गत मेरी नौ कहानियाँ…एक कविता और दो जोक्स छप चुके हैं… टाईपिंग भी खुद ही करता हूँ इसलिए तीसरी वाली स्तिथि भी इस सब के लिए उत्तरदायी नहीं है… हाँ!…आपकी चौथी शंका निर्मूल नहीं है…

    मेरी एक कहानी/व्यंग्य “व्यथा-बिचौलियों की"

    जिसका असली लिंक ये है http://hansteraho.blogspot.com/2008/07/blog-post_25.html

    और चोरी का लिंक ये है http://www.caclubindia.com/forum/story-of-commission-agents-hindi--must-read-12178.asp

    (बाद में इन सज्जन ने कहानी के साथ मेरा नाम भी दिया और अपने इस कृत्य के लिए क्षमा भी मांगी )
    क्रमश:

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी दुसरी कहानी/व्यंग्य “व्यथा-झोलाछाप डाक्टर की"

    जो कि मेरे ब्लॉग “हँसते रहो” http://hansteraho.blogspot.com/2008/06/blog-post_22.html

    के अलावा नवभारत टाईम्स ऑनलाइन

    http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/3764653.cms



    और “साहित्य शिल्पी" http://www.sahityashilpi.com/2008/10/blog-post_16.html

    और इस लिंक http://www.bwtorrents.com/showthread.php?163467-quot-%E0%A4%B5%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%A5%E0%A4%BE-%E0%A4%9D%E0%A5%8B%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%9B%E0%A4%BE%E0%A4%AA-%E0%A4%A1%E0%A4%BE%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A5%80-quot

    पर भी आ चुकी है

    इसको चोरी किया “पुंगीबाज" नामक ब्लॉग के मालिक ने…जिन्होंने कमेन्ट के जरिये मेरे द्वारा की गई आपत्ति के बाद क्षमा मांगने के बजाए निर्लज्जता पूर्वक उक्त पोस्ट को ही गायब कर दिया http://pungibaaj.blogspot.com/2008/06/blog-post_28.html

    क्रमश:

    उत्तर देंहटाएं
  6. इसके बाद मेरी तीसरी कहानी"जन्तर-मन्तर काली कलन्तर” जिसका नामकरण बाद में मैंने नवभारत टाईम्स ऑनलाइन वालों से प्रेरणा पाकर “बताएँ तुझे कैसे होता है बच्चा” कर दिया था…उसका मेरे ब्लॉग “हँसते रहो" का लिंक इस प्रकार है…

    http://hansteraho.blogspot.com/2007/08/blog-post_24.html



    बाद में इसी कहानी को नवभारत टाईम्स ऑनलाइन ने छापा …उसका लिंक ये है

    http://hansteraho.blogspot.com/2007/11/blog-post_6345.html



    और उसकी चोरी का सबूत यहाँ पर है

    http://hansteraho.blogspot.com/2007/11/blog-post_6345.html

    (बाद में इन सज्जन ने भी अपने किए पर खेद जताया)
    क्रमश:

    उत्तर देंहटाएं
  7. इसके बाद मेरी चौथी कहानी “काम हो गया है…मार दो हथोड़ा" को मेरे द्वारा अपने ब्लॉग “हँसते रहो" पर पोस्ट करने के अलावा कुछ अन्य गूगल ग्रुपों को भी फारवर्ड किया गया था…वहीँ पर किसी ग्रुप से इस कहानी को किन्हीं कुलदीप कुमार जी द्वारा उड़ाया गया और उसे नाम बदल कर “हँसो और हँसाओ" के नाम से बतौर लेखक मेरा नाम गायब करने के बाद मेलज के जरिये दूसरों फारवर्ड कर दिया गया …

    http://yfrog.com/5n123uogj

    उनके इस कृत्य का मैंने उन्हें मेल भेज के विरोध जताया…बाद में उनका क्षमायाचना करते हुए जवाब भी आया…

    उसका सबूत यहाँ पर है http://yfrog.com/49kahanichorj

    उत्तर देंहटाएं
  8. दुनिया में बड़े बड़े चोर हैं.......जो अनजान लेखकों की कहानिया नेट चुराकर अपने नाम से प्रकाशित करवा लेते हैं........जबकी नेट पर सब मिल जाता है सर्च करने पर......मेरा भी एक आलेख किसी ने उड़ा लिया था. बाद में माफ़ी मांगी..........इनको कहानी के लेखक का नाम देने में क्यों शर्म आती है........पता नहीं

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------