गुरुवार, 2 दिसंबर 2010

अनुज नरवाल ‘रोहतकी' की ग़ज़ल - हमारी कमीज से उनकी कमीज गन्‍दी है

 

सुध नहीं क्‍या हो रहा है जमाने में

सब लगे हैं बस नोट कमाने में

 

इमारत गिरी, मौतें हुई और नेता लगे हैं

इक-दूसरे को शीशा दिखाने में

 

घोटाला किया है तो सजा भी मिले

सरकार लगी है क्‍यूं ऐसे को बचाने में

 

जनता को चूना लगाया है जिन्‍होंने

सरकार डालती क्‍यूं नहीं उन्‍हें जेलखाने में

 

हमारी कमीज से उनकी कमीज गन्‍दी है

‘अनुज' हमारे नेता लगे हमें ये बताने में

-

डॉ.अनुज नरवाल ‘रोहतकी'

dr.anujnarwalrohtaki@gmail.com

www.anujnarwal.blogspot.com

9215270518

--

ANUJ NARWAL ROHTAKI

09215670518

09215270518

2 blogger-facebook:

  1. अच्छी अभिव्यक्ति, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारी कमीज से उनकी कमीज गन्‍दी है
    वाह क्या खूब कहा...शानदार गज़ल, सार्थक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------