सोमवार, 23 मई 2011

संजय दानी की ताज़ा ग़ज़ल - चल पड़ा हूँ मुहब्बत के सफर में, पैरों पे छाले रगों में खामुशी है...

मुझसे तन्हाई मेरी ये पूछती है,

बेवफ़ाओं से तेरी क्यूं दोस्ती है।

 

चल पड़ा हूं मुहब्बत के सफ़र में,

पैरों पर छाले रगों में ख़ामुशी है।

 

पानी के व्यापार में पैसा बहुत है,

अब तराजू की गिरह में हर नदी है।

 

एक तारा टूटा है आसमां पर,

शौक़ की धरती सुकूं से सो रही है।

 

बिल्डरों के द्वारा संवरेगा नगर अब,

सुन ये, पेड़ों के मुहल्ले में ग़मी है।

 

अब अंधेरों का मुसाफ़िर चांद भी है,

चांदनी के ज़ुल्फ़ों की आवारगी है।

 

अब खिलौनों वास्ते बच्चा न रोता,

टीवी के दम से जवानी चढ गई है।

 

दिल की कश्ती को किनारों ने डुबाया,

इसलिये मंझधार को वो चाहती है।

 

मत लगाना हुस्न पर इल्ज़ाम दानी,

ऐसे केसों में गवाहों की कमी है।

--

8 blogger-facebook:

  1. पानी के व्यापार में पैसा बहुत है,

    अब तराजू की गिरह में हर नदी है।

    बिल्डरों के द्वारा संवरेगा नगर अब,

    सुन ये, पेड़ों के मुहल्ले में ग़मी है।

    बहुत सही कहा है ..अच्छी गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  2. पानी के व्यापार में पैसा बहुत है,

    अब तराजू की गिरह में हर नदी है।
    sahi kaha hai
    बिल्डरों के द्वारा संवरेगा नगर अब,

    सुन ये, पेड़ों के मुहल्ले में ग़मी है।
    kya baat hai
    sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  3. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 24 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  4. अमिता कौंडल12:56 am

    पानी के व्यापार में पैसा बहुत है,

    अब तराजू की गिरह में हर नदी है।

    बिल्डरों के द्वारा संवरेगा नगर अब,

    सुन ये, पेड़ों के मुहल्ले में ग़मी है।


    बहुत सुंदर शब्द रचना है बधाई

    सादर
    अमिता कौंडल

    उत्तर देंहटाएं
  5. Many many thanks to SangIta Swarup ji ,Vinaa ji, Rachna ji and Amita ji

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिल्डरों के द्वारा संवरेगा नगर अब,

    सुन ये, पेड़ों के मुहल्ले में ग़मी है।
    bahoot sahi,anek logon ki pida in panktiyon me jhalakati hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत धन्यवाद विजय वर्मा जी।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------