सुमित शर्मा की कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

सुमित शर्मा

अलग-अलग नावों पर बैठे,

बस अपनी ही नैया खेते,

जुट जाओ माँझियों यूँ कि मानवतारूपी जलयान तरे,

आओ फिर समाज-निर्माण करें।

 

धूँ-धूँ जलता तंत्र ये अपना,

बिखर रहा बापू का सपना,

इन स्‍वप्‍नों को संजोने फिर, निज-शक्‍ति का आह्‍वान करें,

आओ फिर समाज-निर्माण करें।

 

अपने आप से एक रण हों,

मन में बस भाव समर्पण हों,

देशप्रेम की भागीरथी में सामूहिक स्‍नान करें,

आओ फिर समाज-निर्माण करें।

 

शक्‍ति प्रेरक हो, दम्‍भ न हो,

सृजन में अब विलम्‍ब न हो,

बल के मद से मूर्छित जग में, भारत फिर नव-प्राण भरे,

आओ फिर समाज-निर्माण करें।

 

---

- सुमित शर्मा

आत्‍म-परिचय

नाम - सुमित शर्मा

जन्‍मतिथी - 31 जनवरी 1992

पता - तहसील चौराहा,गायत्री कालोनी,

खिलचीपुर, जिला- राजगढ़, म.प्र.

 

शिक्षा - बी.ई.-चतुर्थ वर्श (कम्‍प्‍यूटर साइंस) अध्‍ययनरत

साहित्‍यिक रचनाएँ - चलती रहेगी मधुशाला(काव्‍य) , रिश्‍ते (उपन्‍यास), कुछ कवितायें/गजले, लघु कहानियाँ । (सभी अप्रकाशित )

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुमित शर्मा की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.