शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

शेर सिंह की कविता - जाड़ा

जाड़ा

clip_image002

· शेर सिंह

जाड़े ने बोला धावा

गर्मी की कर दी

बोलती बंद

लो सर्दी आ गई ।

 

ओस से लदी

कांपती डालियां

झड़ते जर्द पत्‍ते

जाड़े की पहचान ।

 

गिरता पारा

कांपता सूरज

धुंध में छिपी सड़कें

कोहरे ने मचाया कोहराम ।

 

पार्कों, बागों में मगर

झांकने लगा गुलाब

हो गए लापता

पलाश, गुलमोहर ।

 

दिल्‍ली बनी

कुल्‍लू - मनाली

एनसीआर लगता श्रीनगर

जाड़ा अपने यौवन पर

लो आ गई सर्दी ।

-----------------------------------------------------------------

0 शेर सिंह

के. के. - 100

कवि नगर, गाजियाबाद-201 010.

E-mail- shersingh52@gmail.com

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------