रविवार, 11 दिसंबर 2011

रघुनन्‍दन प्रसाद दीक्षित प्रखर की कविताएँ व पुस्तक समीक्षा

clip_image002

(कुंडलिया)

नथ

नथ की अकथ कहानियां ,रच डाले इतिहास।

कभी रही चित चोरनी, कभी हास परिहास॥

कभी हास परिहास बहुमुखी किलोलें करे चिबंक पर।

मूंगा मोती मकर आकृति अंगना ज्‍यों खग लागे पर॥

'प्रखर' हिलोरें उर अर्न्‍त में जैसे काम चढा हो रथ।

इतिहास बन गयी मंहगाई में हाय फैशन मारी नथ॥

 

जीवन का रण

आखिर

सब्र का इम्‍तिहान

लेंगें कब तक

अर्न्‍त व्रण,

तल्‍ख तकरीर

का सबब

बन गये आज वही क्षण,।

 

सुकून की

जिन्‍दगी दुश्‍वार

लगती

या फिर यूँ कह लें

जिन्‍दगी के फलक पर

अमर्ष में बिंधा कण कण,॥

 

क्‍या पैसे का कद

मानवता से बडा हो गया,

दौलत की चमक में

कहीं अपने होने का

असितित्‍व खो गया,

नहीं चाहिए,

ढेरों सुख सुविधा खुशियां

ढलती शाम में

चाहिए मात्र सुकून का क्षण॥

 

जैसा पहले था

आज भी वैसा ही

पहले भी खाली आज भी

जब कुछ नहीं तो डर कैसा......?

डर यही मीत !

परास्‍त न कर दे

जीवन रण॥

--

सूर्य का तेज

निशीथ की चांदनी

कहां शास्‍वत

विभव होता निश्‍चित

करता वह आश्‍वस्‍त

'प्रखर' शक्‍तियों में

रह जायेगी केवल हड़ बड़॥

--

बिना शुल्‍क

बिना शुल्‍क के

कुछ नहीं मिलता

पेट काटकर

मुफ्‍त खा रहे,

पकडे पीछे

जेल जा रहे,

वक्‍त किसी का

हुआ कभी क्‍या

दांव लगा तो निश्‍चित छलता॥

--

पैरों में स्‍वर्ग

जिसके कारण

संज्ञा चहके

स्‍वर्ग उसी के पैरों में।

करती नित्‍य

परास्‍त दुःखों को,

चादर नहीं

बनाए सुखों को ,

फटे हाल बेहाल

वही अब

गैरत कंह उन बेगैरों में॥

 

(पुस्‍तक समीक्षा)

काव्‍य रश्‍मि की आभा ः काव्‍यकांति

गद्य का सृजन तो चिंतन ,पठन,विमर्श अर्थात मष्‍तिष्‍क की उपज है,जबकि पद्य हृदय में तिरोहित होती संवेदनाओं व्‍यथा,पीडा के दंश से आहत की खनक ,अल्‍हाद अनुभूति से अभ्‍युदित हुआ उद्‌गार का लावा हैजो शब्‍दों में ढलकर कागद पर सरकार होता है। वस्‍तुतः सचची कविता वही है जो हृदय से सम्‍वेत उद्धृत हो । इसी की सार्थक परिणीत श्री कांत अकेला कृत काव्‍यकांति है जिसे रश्‍मि प्रकाशन नाहन (हि0प्र0) ने न्रकाशित किया है।यद्यपि कवि का प्रथम प्रयास है परन्‍तु युवा उमंगों की हिलोरें कुछ कर गंजरने का भाव पृष्‍ठ दर पृष्‍ठ कविता को चरम तक ले जाने का प्रयास करता है। जिसमें अषांवित सोच,प्रणति निवेदन ,प्रेम का अंकुरण, तो वहीं कवि के विद्रोही स्‍वरुप्‍ के भी पाठक का सामना होता है।

यथा ः-

कब तक माँ भूखे बिलखते बच्‍चों को

दिलासा देने के लिए

कच्‍चा पानी उबालती रहेगी ?

शासन ,सियासत और प्रशासन में भ्रष्‍टाचार के साथ मानो चोली दामन का साथ है। इस मुद्‌दे को कृतिकार ने बखूबी उठाया है। चूंकि कवि अकेला जन्‍मभूमि और कर्मभूमि की मनोहारी प्रकृति से निकट का संबंध है। उसका मन र्प्‍यावरणीय चिन्‍ता से त्रस्‍त है। उसे टिहरी बांध में जल समाधि बने टिहरी नगर के साथ उसकी लोक संस्‍कृति ,इतिहास,सभ्‍यता भी जल में विलीन हो गये। आधुनिकता एवं विकास का प्रलयंकारी रुप वीभत्‍स और भयानक भी है।

समग्रतः कवि का प्रयास सार्थक है। यदि कवि अकेला मात्रिक व्‍याकरण की त्रुटियों का विश्‍ोष ध्‍यान रखते कृति का रुप और निखरता ।आशा है कृतिकार भ्‍विष्‍य में दन बिन्‍दुओं पर गौर करेंगे। पुस्‍तक पठनीय एवं संग्रहणीय है।

कृति ः काव्‍यकांति

मूल्‍य ः 120 रुपए

प्रकाशक ः रश्‍मि प्रकाशन नाहन (हि0प्र0)

समीक्षक

रघुनन्‍दन प्रसाद दीक्षित प्रखर

शांतिदाता सदन,

नेकपुर चौरासी

फतेहगढ (उ0प्र0) पिन209601

E Mail-Dixit4803@rediffmail.com

2 blogger-facebook:

  1. कुंडलियाँ बहुत सुंदर 'कवितायेँ लाजवाब और समीक्षा तो क्या कहने |आजकल आप रचनाकार पर छाये जा रहे है ,हार्दिक बधाई स्वीकारें और लगे रहें |

    उत्तर देंहटाएं
  2. Thanx .........8:02 pm

    Aadar ke yogya gurutulya shri dixit ji.....samixa ke liye dhanyabad.....aapke sujhav sar aankhon par.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------