शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2012

मीनाक्षी भालेराव की दो कविताएँ - हे! पुरूष!!

हे पुरुष

हे पुरुष तुम किस बात के लिए

खुद को सर्वश्रेष्ठ समझते हो

नारी के जिस्म से पैदा होकर

नारी को ही छलते हो

दुनियां में आते ही

नारी के आंचल से

जीवन अमृत पीते हो

सांसें उसी के दम से पाते हो

तो भी उसे ही कमजोर समझते हो

थोडा बड़े हो कर,दादी, नानी की

अंगुली पकड़ कर चलना सीखते हो

फिर भी उसे असहाय कहते हो

बहनें, बहनें होकर भी भाइयों

की सलामती के लिए

रात-दिन दुआंए मांगती हैं

उपवास,व्रत रखती हैं

फिर भी उसे बोझ समझते हो

पत्नी जो दिन-रात सेवा

के लिए तत्पर रहती है

अपना अस्तित्व खोकर भी

वंश को आगे बढाती

हर मोड़ पर सब का मार्ग दर्शन करती है

अपना सुख खोकर परिवार के

सुख के लिए जीती है

फिर भी उसे अबला नारी कहते हो

बेटी जो घर की रौनक होती है

लक्ष्मी का अवतार बन कर

आंगन को महकाती है

फिर भी उस के पैदा होने पर

मातम मनाते हो, हे पुरुष

तुम किस बात के लिए

खुद को सर्वश्रेष्ठ समझते हो

---

 

देश के नेता

ये काले-काले ये मोटे-मोटे

भैंसे जैसे नेता

पान चबाते, पीक थूकते

भष्टाचार में लिप्त हुये

जैसे गंदी नाली के कीड़े

चोर उच्चके गुंडे मवाली

उनकी करते नेता रखवाली

देश में ये घात लगवाते

राष्ट्र-सम्पति चोरी करवाते

जो जितना घोटाला करते

वो इनके रिश्तेदार बन जाते

जूते-चपल चलते देखा था एसंब्ली मे

अब देख लिया मोबाइल में

गंदा रास रचाते मुंह कला करवाते

वह-रे वाह नेता कहाँ तुम्हारी अक्ल गयी

कहाँ ले जा रहे हो तुम देश को

गुलामी से तो निकला देश

धर के डाकुओं से कोन बचाएगा

जिन्होंने रखेल बनाया देश को

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------