देवेन्द्र पाठक ' महरूम ' की कविताई - 2 मुक्तिकाएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

मुक्तिका -

बिना समर्पण भक्ति नहीँ है ।

भक्ति नहीँ तो मुक्ति नहीँ है ॥

 

करुणाहीन हृदय हो यदि तो ;

कुछ सार्थक अभिव्यक्ति नहीँ है॥

 

कथ्य- वाक्य हैँ अर्थहीन सब ;

यदि उपयुक्त विभक्ति नहीँ हैँ ॥

 

परिचित स्वयं से हो जो पूर्णतः ;

ऐसा कोई व्यक्ति नहीँ है ॥

 

स्वानुभूति 'महरूम' न हो तो ; प्रा

माणिक कोई उक्ति नहीँ ॥

 

~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~

मुक्तिका

कटु सत्यपान-भय से

अस्वस्थ हो गए |

अपदस्थ हो त्रिशंकु-से

अधरस्थ हो गए ॥

 

दायित्वभार-वहन

कर सके न इसलिए:

पद त्याख कर सन्यास मेँ

पदस्थ हो गए ||

 

अवसानासन्न पापतिमिर-

यामिनी निरख ;

बक के सदृश कूल पर

ध्यानस्थ हो गए ||

 

चलते हैँ तांत्रिकोँ के तंत्र

शक्ति से जिनकी ;

वे बीजमंत्र उनको भी

कंठस्थ हो गए ॥

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "देवेन्द्र पाठक ' महरूम ' की कविताई - 2 मुक्तिकाएँ"

  1. देवेन्द्र पाठक ' महरूम ' जी की रचनाएं पढ़कर अच्‍छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  2. Dharmendra Tripathi7:20 pm

    shabdon ka sundar tana-bana racha gaya hai. lagatar rachnaye prakashit karne ke liye sadhubad.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.