शनिवार, 22 सितंबर 2012

जंगल बचाने के लिए ब्रिकेश सिंह ने महीने भर के लिए पेड़ पर डाला डेरा

 

ग्रीनपीस इंडिया के अभियानकर्ता ब्रिकेश सिंह इन दिनों महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले में एक पेड़ पर डेरा डाले बैठे हैं। ब्रिकेश ने मध्य भारत के जंगलों में कोयला खनन के विरोध का यह अनूठा तरीका निकाला है। इस महीने की पहली तारीख (1st सितंबर) को इस पेड़ पर चढ़ने के बाद ब्रिकेश पूरा एक महीना यहीं पेड़ पर रहकर बिताएंगे।

image

जिस पेड़ पर ब्रिकेश अपना घर बनाकर रह रहे हैं वह तडोबा-अंधारी बाघ संरक्षण क्षेत्र के बफर जोन में स्थित है। यह पेड़ इस बात का प्रतीक है कि इन हरे-भरे जंगलों का विनाश अब दूर नहीं है। इस पेड़ के एक तरफ कोयला पावर प्लांट दिखता है तो दूसरी तरफ इस अभ्यारण के खूबसूरत जंगल। इस पेड़ के नीचे ढेर सारा कोयला छुपा हुआ है। फिलहाल यह खनन गतिविधियों से दूर है। अगर यहां खनन शुरु हुआ तो निश्चित तौर पर इससे यहां के हरे-भरे क्षेत्र, वन्य जीवों और इन जंगलों पर अपनी आजीविका के लिए निर्भर समुदाय को गंभीर नुकसान उठाना पड़ेगा

image

मध्य भारत के जंगलों को खनन से बचाने के लिए ग्रीनपीस इंडिया बहुत बड़े स्तर पर ऑनलाइन हस्ताक्षर अभियान चला रहा है। ‘जंगलिस्तान बचाओ’ नाम के इस अभियान के लिए अभी तक 80,000 से ज्यादा लोग हस्ताक्षर कर अपना समर्थन दे चुके हैं। मगर हमारा लक्ष्य अक्टूबर तक 100,000 हस्ताक्षर इक्ठ्ठा करना है। अगर आप ब्रिकेश के साथ हैं और जंगलों को बचाने की इस मुहिम में शामिल होना चाहते हैं तो http://www.junglistan.in/act लिंक पर क्लिक करके याचिका पर हस्ताक्षर कीजिए।

image

हमारी सरकार इस साल अक्टूबर में (यूएन कन्वेनेशन ऑन बायोडायवर्सिटी, सीबीडी) यानी संयुक्त राष्ट्र जैव विविधता सम्मेलन का आयोजन कर रही है। यह स्वयं में बेहद हास्यास्पद है कि एक तरफ तो सरकार अपने देश में बचे-खुचे जंगलों की भी बलि देने को तैयार है और वहीं दूसरी तरफ जैव विविधता संरक्षण के लिए सम्मेलन का आयोजन कर रही है।

image

ब्रिकेश सिंह इस सम्मेलन में कोयला खनन के खिलाफ और जंगलों को बचाने के लिए एक लाख लोगों द्वारा हस्ताक्षर किया गया ज्ञापन प्रधानमंत्री को सौंपेंगे और कोयला खनन से जंगलों को बचाने के लिए ठोस कदम उठाने के लिए कहेंगे।

ग्रीनपीस की मांग है कि कोयला घोटाले की जांच पूरी होने तक प्रधानमंत्री को सभी नए कोयला ब्लॉकों के आवंटन और खदानों की मंजूरी पर रोक लगा देनी चाहिए तथा जिस वन क्षेत्र में खनन नहीं किया जाएगा उसका सही-सही सीमांकन किया जाना चाहिए। अगर ग्रीनपीस द्वारा जंगल बचाने की इस मुहिम में आप उसके साथ हैं तो http://www.junglistan.in/act लिंक पर क्लिक करके याचिका पर हस्ताक्षर कीजिए।

Video link- Introductory video of Brikesh-

http://www.youtube.com/watch?v=OVPnEiKMU9U

1 blogger-facebook:

  1. इस वृक्षघर पर तो मैं भी हफ़्तेभर के लिए रहना चाहूंगा. इसके लिए क्या करना होगा?

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------